सिरमौर में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति की बैठक 29 जून को
नाहन 28 जून शिमला लोकसभा क्षेत्र के सांसद सुरेश कश्यप की अध्यक्षता में 29 जून, 2022 को जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक नाहन के बचत भवन में आयोजित की जाएगी। यह जानकारी अतिरिक्त उपायुक्त सिरमौर रामकुमार गौतम ने दी। उन्होंने कहा कि यह बैठक प्रातः 11.00 बजे आयोजित की जाएगी।
उन्होंने बताया कि बैठक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम, प्रधानमंत्री आवास योजना , प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना एकीकृत, वाटर प्रबन्धन कार्यक्रम, डिजिटल भारत भू-अभिलेख आधुनिकरण कार्यक्रम ,दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ,सर्व शिक्षा अभियान, मिड डे मिल स्कीम, स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण, टेलीकाम, रेलवेज, हाईवेज, वाटरशेड, माइन्स जैसे अवसंरचना सम्बन्धी कार्यक्रम के साथ ही राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन , समेकित बाल विकास योजना , उद्यान विभाग की योजनायें, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, डिजिटल इंडिया, पब्लिक इण्टरनेट एक्सेस परिवारों के लिए एलपीजी कनेक्शन, प्रत्येक ग्राम पंचायत में सामान्य सेवा केन्द्र उपलब्ध कराना, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम, कृषि विभाग की योजनायें, वन विभाग की योजनायें, केन्द्र सरकार पोषित अन्य समस्त योजनायें, जल मार्ग विकास परियोजना आदि योजनाओं पर अधिकारियों से चल रहे कार्यों की प्रगति पर फीडबैक लिया जाएगा।
===========================
सिरमौर में शुरू हुआ महिला उद्यमिता विकास कार्यक्रम,
महिलाओं का कौशल उन्नयन और क्षमता निर्माण कर सिरमौर में 150 महिला उद्यमी तैयार करने का लक्ष्य

नाहन 28 जून- हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम और राष्ट्रीय उद्यमिता और लघु व्यवसाय विकास संस्थान द्वारा जिला सिरमौर में महिला उद्यमिता विकास कार्यक्रम का शुभारंभ गत दिवस राजगढ़ विकासखंड के कोट डांगर में किया गया। यह जानकारी उपायुक्त सिरमौर रामकुमार गौतम ने दी। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिला सिरमौर में महिला स्वयं सहायता समूह के सदस्यों के कौशल उन्नयन और क्षमता निर्माण कर 150 महिला उद्यमी तैयार किए जाएंगे। जबकि पूरे प्रदेश में 1000 महिला उद्यमी स्थापित करने का लक्ष्य सरकार द्वारा रखा गया है। जिसके अर्न्तगत राजगढ़ विकासखंड 25 महिलाएं पंजीकृत हुई है।

उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के माध्यम से महिला सशक्तिकरण लक्ष्य प्राप्त करने की पहल की है। कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी में वृद्धि हमारी अर्थव्यवस्था को और बढ़ावा दे सकती है। महिलाओं में बाजार के अनुकूल कौशल विकसित करने और उद्यमिता के माध्यम से उन्हें आत्मनिर्भर बनाने पर जोर देना आवश्यक है।

जिला समन्वयक मोनिका ठाकुर ने बताया कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिला के सभी विकास खंडों में महिला उद्यमियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होने बताया कि हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम द्वारा जिला की ग्रामीण महिलाओं के लिए उद्यमिता विकास कार्यक्रम तैयार किया है, जिसका उद्देश्य महिला उद्यमियों के रास्ते में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए ग्रामीण महिलाओं के बीच उद्यमशीलता मूल्यों, दृष्टिकोण और प्रेरणा को विकसित करना है। जिसके लिए जिला सिरमौर में पंजीकृत महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का कौशल उन्नयन और क्षमता निर्माण कर उन्हें उद्यमी बनाने का लक्ष्य रखा गया है।