नई दिल्ली/चंडीगढ़, 15 सितंबर। केंद्र सरकार द्वारा हरियाणा में नई रेल लाइन को मंजूरी देने पर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने ट्वीट के जरिए केंद्र का आभार प्रकट किया है। कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस-वे के साथ-साथ बनने वाले नए ऑरबिटल रेल कॉरिडोर के बारे में जानकारी देते हुए दुष्यंत चौटाला ने बताया कि 5617 करोड़ रूपए की लागत से करीब 121 किलोमीटर लंबी यह रेल लाइन बनेगी और इसका पलवल-सोहना-मानेसर-खरखौदा-सोनीपत का रूट होगा।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इस परियोजना से इन क्षेत्रों का और अधिक विकास होगा और यहां निवेश के लिए बड़ी कंपनियों के आने के अवसर बढ़ेंंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा के रोहतक, सोनीपत, गुरुग्राम, फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र में पड़ने वाले पांच जिले पलवल, नूंह, गुरुग्राम, झज्जर और सोनीपत को इस रेल लाइन के माध्यम से पूरा फायदा मिलेगा।

डिप्टी सीएम ने खुशी जाहिर करते बताया कि एनसीआर में इस रेल प्रोजेक्ट से नए औद्योगिक युग का आगाज़ होगा और रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि इस रेल लाइन के जरिए मानेसर, सोहना, फरुखनगर, खरखोदा और सोनीपत के औद्योगिक क्षेत्रों में माल ढुलाई की सुविधा मिलेगी और हर साल करीब 5 करोड़ टन सामान की ढुलाई होगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा ऑरबिटल रेल कॉरिडोर परियोजना एनसीआर में मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब विकसित करने में भी मददगार साबित होगी।

उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं एनसीआर से भारत के बंदरगाहों तक आयात-निर्यात के रास्ते भी अधिक सुगम होंगे और इससे परिवहन की लागत और समय में कमी आएगी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इसके साथ-साथ यात्रियों की सुविधा बढ़ेगी और हर रोज 20 हजार लोग इस रेल लाइन पर सफर करेंगे।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि पांच साल में यह मेगा प्रोजेक्ट पूरा होगा और इसके लिए हरियाणा रेल इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HRIDC) के नाम से नई संयुक्त उद्यम कंपनी बनाई जाएगी। वहीं इससे मौजूदा दिल्ली-रेवाड़ी लाइन पर पटली स्टेशन, गढ़ी हरसरू-फारुखनगर लाइन पर सुल्तानपुर स्टेशन और दिल्ली रोहतक लाइन पर असौधा स्टेशन के लिए कनेक्टिविटी दी जाएगी।