चंडीगढ़, 1 फरवरी: हरियाणा मंत्रिमंडल द्वारा उद्योगों में स्थानीय युवाओं को 75 फीसदी नौकरियां देने का वादा खटाई में पड़ गया लगता है। यह बात इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने भाजपा-जजपा सरकार की मंत्रिमंडल की बैठक का किसी नतीजे पर नहीं पहुंचने पर कही। इनेलो नेता ने कहा कि संगठित सरकार के 100 दिन पूरे होने के बावजूद दोनों दलों का कामन- मिनीमम-प्रोग्राम का फैसला न होना यही दर्शाता है कि ‘कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा, भानुमति ने कुनबा जोड़ा’। यह केवलमात्र दलों का ही मेल है, दिलों का नहीं।
इनेलो नेता ने कहा कि यह तो दोनों दलों का आम आदमी को भ्रमित करने का प्रयास है क्योंकि यह तो पहले ही नियमों में प्रस्तावित है कि हरियाणा के उद्योगों में 75 फीसदी अकुशल पदों पर हरियाणा के युवाओं को रोजगार दिया जाएगा। अब हरियाणा के युवाओं को चपरासी/चौकीदार आदि पदों पर ही नियुक्त किया जाता है। इसलिए प्राथमिकता इस बात की है कि हरियाणा के युवाओं को उद्योगों में कुशल पदों पर रोजगार दिया जाए, जिन पदों पर ज़्यादातर बाहरी लोगों को चयनित किया जाता है। उद्योगों में कुशल युवाओं की आवश्यकता पूरी करने के लिए हरियाणा सरकार युवाओं को स्किल इंडिया प्रोग्राम के तहत मदद कर सकती है।
इनेलो नेता ने कहा कि सरकार की सहयोगी जजपा ने चुनावी वादों में हरियाणवी युवाओं को पहली कलम से उद्योगों में 75 फीसदी की तर्ज पर रोजगार देने का वायदा किया था परंतु अभी तक तो सरकार यह फैसला ही नहीं कर सकी कि कुशल पदों पर रोजगार देने के लिए नियमों में कब बदलाव किया जाएगा। भाजपा की सोच है कि आरएसएस का एजेंडा पहले लागू हो जिसके अनुसार बाहरी लोगों को नौकरियों में तरजीह दी जाए।
इनेलो नेता ने कहा कि 15 वर्ष से बेरोजगारी दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। हरियाणा विधानसभा के आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में पांच लाख से ज़्यादा युवा बेरोजग़ार हैं और जींद जिले में सबसे ज़्यादा हंै। यह आंकड़े तो वो हैं जो रोजगार कार्यालय में उपलब्ध हैं और लाखों युवा ऐसे हैं जिन्होंने अपने नाम रोजगार कार्यालय में दर्ज ही नहीं करवाए हैं। बेरोजगार युवाओं का भविष्य चौराहे पर है जिसके कारण वह नशे की गर्त में धंसते जा रहे हंै। देश में लगभग 8.37 फीसदी बेरोजगारी की समस्या है और हरियाणा में लगभग 29 फीसदी बेरोजगारी सबसे ज़्यादा है।
इनेलो नेता ने कहा जजपा बेरोजगार युवाओं को 11000 हजार प्रति माह भत्ता देने की बात अभी से ही भूल गई है। पहली कलम से युवाओं को भत्ता देने की बजाय अपने भत्तों में बढ़ौतरी करना नहीं भूली। जजपा नेता का यह कहना कि 75 फीसदी बाबत नियमों में संशोधन करने के लिए उद्योगपतियों से मशविरा किया जाएगा, इस पर इनेलो नेता ने कहा कि ये सब युवाओं और प्रदेश की जनता को केवलमात्र भ्रमित करना है और संकल्प पत्र के वायदों को टालने का कुप्रयास है। इसलिए संगठन की सरकार को तुरंत 75 फीसदी कुशल/अकुशल युवाओं को रोजगार देने का वादा पूरा करना चाहिए और जब तक सरकार ऐसा नहीं करती तब तक वादे अनुसार बेरोजगारों को ग्यारह हजार रुपए प्रति माह रोजगार भत्ता दिया जाना चाहिए।