PANCHKULA,17.01.20-इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने जनवरी 2020 सत्र से कई नए कार्यक्रम प्रारंभ किए हैं- जिनमें डिप्लोमा इन इवेंट मैनेजमेंट, डिप्लोमा इन मॉडर्न ऑफिस प्रैक्टिस, पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन एनवायरमेंटल एंड ऑक्यूपेशनल हेल्थ तथा पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन सस्टेनेबिलिटी साइंस सम्मिलित हैं।

इग्नू क्षेत्रीय केंद्र चंडीगढ़ के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. अनिल कुमार डिमरी ने बताया कि डिप्लोमा इन इवेंट मैनेजमेंट में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को 10+2 होना चाहिए तथा यह कार्यक्रम उन अभ्यर्थियों के लिए उपयुक्त है जो इवेंट मैनेजमेंट इंडस्ट्री में अपने लिए रोजगार तलाश रहे हैं। इस तरह के रोजगार के अवसर संगठित तथा असंगठित क्षेत्र के अलावा कॉरपोरेट सेक्टर में भी हैं जिनमें मुख्य रूप से किसी कंपनी में ब्रांड की लॉन्चिंग तथा डीलरों के साथ मीटिंग आयोजित करना सम्मिलित है। इनके अलावा सामाजिक तथा सांस्कृतिक आयोजन, खेलों का आयोजन, मनोरंजन से संबंधित आयोजन करना सम्मिलित है। जिसमें शादियां, बर्थडे पार्टी, उत्सव का आयोजन, क्षेत्रीय इवेंट, खेल प्रतियोगिता आदि सम्मिलित है। इन कार्यक्रम से जुड़े हुए लोग डिजिटल इवेंट मैनेजमेंट तथा रूरल मैनेजमेंट से भी जुड़ सकते हैं। इस कार्यक्रम की फीस Rs. 8000/- है।

डिप्लोमा इन मॉडर्न ऑफिस प्रैक्टिस के लिए अभ्यर्थी को 10+2 होना चाहिए तथा इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य इन अभ्यर्थियों में कम्युनिकेशन स्किल डेवलप करना, ऑफिस के रखरखाव की क्षमता बढ़ाना, कंप्यूटर के विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम में ज्ञान अर्जित करना तथा कार्यालयों में ऑफिशियल रिकॉर्ड्स के रखरखाव आदि की क्षमता बढ़ाना है। इस कार्यक्रम की फीस Rs. 6000/- है। यह कार्यक्रम व्यक्तिगत सहायक, स्टेनोग्राफी, ऑफिस मैनेजर, ऑफिस एग्जीक्यूटिव, ऑफिस असिस्टेंट, डाटा एंट्री ऑपरेटर, कंप्यूटर ऑपरेटर तथा सॉफ्ट रोजगार से जुड़े हुए लोगों के लिए उपयुक्त है।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एनवायरमेंट एंड ऑफिशियल हेल्थ के लिए भी शैक्षिक योग्यता 10+2 साइंस स्ट्रीम के साथ है। इस प्रोग्राम का उद्देश्य है अभ्यर्थियों में पर्यावरण से जुड़े हुए विभिन्न पहलुओं की जानकारी प्राप्त करवाना है। जिसमें पर्यावरण का रखरखाव, पर्यावरण का बचाव एवं प्रबंधन सम्मिलित है। अभ्यर्थियों को पर्यावरण से जुड़े हुए विभिन्न नियमों, मानदंडों तथा तकनीकीयों से अवगत करवाया जाएगा।

पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन सस्टेनेबिलिटी साइंस के लिए अभ्यर्थी को कम से कम स्नातक होना चाहिए। यह एक इनोवेटिव कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य अभ्यर्थी को शाश्वत विकास के बारे में जानकारी देना तथा उससे संबंधित कार्यक्रम का स्वरूप बताना और शाश्वत डेवलपमेंट से संबंधित परियोजनाओं का निर्माण, क्रियान्वयन, मॉनिटरिंग तथा मूल्यांकन करना सम्मिलित है। इस कार्यक्रम की फीस Rs. 6200/- है। इस कार्यक्रम के उपरांत विद्यार्थी को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार मिल सकता है जिसमें कार्यक्रम एक्सपर्ट, सस्टेनेबिलिटी एक्सपर्ट तथा विश्लेषक आदि सम्मिलित हैं।

इसके अतिरिक्त इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय जुलाई 2020 सत्र से एम. एस. सी. इन एनवायरमेंटल साइंस कार्यक्रम प्रारंभ करने जा रहा है जिसमें अभ्यर्थी को पर्यावरण से संबंधित विभिन्न पहलुओं से अवगत करवाया जाएगा। जिसमें पर्यावरण की भौतिक, रासायनिक एवं बायो लॉजिक प्रक्रिया की जानकारी तथा विभिन्न पर्यावरण से जुड़े हुए पहलुओं जिसमें वेस्ट मैनेजमेंट, जलवायु परिवर्तन, संसाधन प्रबंधन आदि के बारे में जानकारी दी जाएगी। इस कार्यक्रम में थ्योरी तथा प्रैक्टिकल दोनों का मिश्रण है।

पाठ्यक्रमों के बारे में अधिक जानकारी के लिए आवेदक इग्नू की वेबसाइट http://www.ignou.ac.in/ या इग्नू क्षेत्रीय केंद्र चंडीगढ़ की वेबसाइट http://rcchandigarh.ignou.ac.in/ देख सकते हैं या इग्नू क्षेत्रीय केंद्र, एससीओ - 208, सेक्टर - 14, पंचकुला - 134109 (हरियाणा) (0172-2590277) पर संपर्क कर सकते हैं।

डॉ. अनिल कुमार डिमरी

क्षेत्रीय निदेशक

इग्नू क्षेत्रीय केंद्र चंडीगढ़