चण्डीगढ़ 10 सितम्बर -हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि जब-जब देश और समाज में ऊंच-नीच, भेदभाव, जाति-पाति, धर्मभेद आदि कुरीतियों का जन्म हुआ है, तब-तब अनेक महापुरूषों ने इस धरती पर जन्म लिया है। बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर जी संघर्ष के एक जीते जागते उदाहरण हैं। उन्होंने गरीब लोगों को मुख्य धारा में लाने के लिए संविधान में आरक्षण का प्रावधान किया। जिस कारण लोकसभा, विधानसभा, सरकारी सेवा एवमं पढ़ाई में आबादी के आधार पर आरक्षण मिला। इसका लाभ अनुसूचित जातियों को मिल रहा है।
राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य मंगलवार को डा. भीमराव अम्बेडकर सामाजिक कल्याण एवं शिक्षा समिति द्वारा गांव खानपुर रोड़ान में आयोजित सामाजिक समरसता सम्मेलन में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। इससे पहले राज्यपाल ने गांव में बनने वाले डा. भीमराव अम्बेडकर भवन का शिलान्यास किया। कार्यक्रम में सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बाबा साहेब डा. अम्बेडकर जी ने गरीबों के उत्थान के लिए तीन सूत्र दिये शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो। संविधान के रचियता बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर ने देश को एकसूत्र में पिरोने का काम किया। उन्होंने समाज में दबे-कुचले और गरीब लोगों को आगे लाने के लिए शिक्षा के अवसर उपलब्ध करवाए। कोई भी इन्सान ऊंचा उठना चाहे तो वह शिक्षा, संघर्ष, कड़ी मेहनत, ईमानदारी से ही ऊंचा उठ सकता है।
उन्होंने कहा कि श्री गुरू रविदास जी के साथ ही श्री गुरू नानक देव जी, महात्मा बुद्ध जी, कबीरदास जी, महात्मा ज्योतिबा फुल्ले और बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर जी का चिंतन दर्शन समाज में एक नया सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तन कर रहा है। इन महापुरूषों में संत शिरोमणी गुरू रविदास जी का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। संत गुरू रविदास महाराज जी पूरी मानव जाति के पथ-प्रदर्शक थे। सन्त शिरोमणी गुरू रविदास जी ऐसे समाज की कल्पना करते थे जहां सबको भोजन मिले, कोई भी भूखा न सोये और छोटे बड़े की कोई भावना न रहे, सभी मनुष्य समान हो। उन्होंने कहा कि आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानन्द सरस्वती जी ने पूरे देश मे छुआछूत को मिटाने के लिए आन्दोलन चलाया था। उन्होंने अछूतों को गले लगाया, बेटियों को शिक्षित बनाने तथा विधवा विवाह जैसे अनेक समाज सुधार के कार्य किये थे। पण्डित दीन दयाल जी ने अपने एकात्म मानववाद में अन्त्योदय का संदेश दिया है।
उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री ने सन्त गुरू रविदास जी महाराज, कबीरदास जी, महात्मा ज्योतिबा फुल्ले जी, बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर जी तथा स्वामी दयानंद सरस्वती जी के सामाजिक समरसता के विचार को अपनाकर राष्ट्रीय एकता, राष्ट्रवाद तथा राष्ट्र सुरक्षा की भावना को सुदृढ़ करने का कार्य किया हैं। इससे राष्ट्र और समाज मजबूत हुआ है। हम सबों का यह कर्तव्य बनता है कि हम महापुरूषों के समतामूलक विचारों को आगे बढ़ाएं। हम बच्चों को शिक्षित बनाकर संस्कारित करें ताकि वे राष्ट्र एवं समाज की तरक्की में अपना योगदान दे सके। उन्होंने ग्रामीण वासियों से अपील की जो भी व्यक्ति शराब पीता हो वह शराब छोड़ दे तथा उन पैसों को अपने बच्चों की शिक्षा में लगाए। इस मौके पर राज्यपाल ने 11 लाख रुपए डा. भीमराव अम्बेडकर भवन के लिए और 11 लाख रुपए समाज सेवा समिति कुरुक्षेत्र के लिए देने की घोषणा की है।
विशिष्टड्ढ अतिथि सांसद नायब सिंह सैनी ने कहा डा. भीमराव अम्बेडकर ने देश को एक सूत्र में बांधने का काम किया। उन्होंने संविधान की रचना की तथा समानता का अधिकार देने का काम किया। उन्होंने कहा कि ऐसे भवन बनने चाहिए, ऐसे भवनों से समाज में एकता आती है और कोई भी व्यक्ति सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों के लिए इन भवनों का इस्तेमाल कर पाता है। भवनों का नाम महापुरुषों के नाम पर होने पर सभी को लाभ मिलता है। उन्होंने कहा कि जो रास्ता डा. भीमराव अम्बेडकर ने दिखाया था, उसी रास्ते पर केन्द्र और राज्य सरकार कार्य कर रही है। दोनों सरकारों का उदेश्य है कि लोगों का जीवन सरल हो और उन्हें हर प्रकार की सुविधाएं मिल सके। इस मौके पर सांसद ने 5 लाख रुपए डा. भीमराव अम्बेडकर भवन के लिए और 5 लाख रुपए समाज सेवा समिति कुरुक्षेत्र के लिए देने की घोषणा की है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार के सदस्य सुरज भान कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सामाजिक समरसता में ऐसे ऐतिहासिक कार्य किए है जो अपने आप में इतिहास है, ऐसे पहले कभी नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि डा. भीमराव अम्बेडकर ने संविधान की रचना की थी और उनके दिखाएं हुए मार्गो पर हम सबको चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज गांव में डा. भीमराव अम्बेडकर भवन का शिलान्यास हुआ है, इसके लिए उन्होंने सभी को बधाई दी और कहा कि हम सबने पूरी मेहनत के साथ इस भवन को बनाना है।
लाडवा विधायक डा. पवन सैनी ने कहा की वर्तमान समय में ऐसे भवनों की बहुत आवश्यकता है, क्योंकि ऐसे सामाजिक भवनों में हर कोई व्यक्ति सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रम कर सकता है। उन्होंने कहा कि डा. भीमराव अम्बेडकर ने देश को एक सूत्र में बांधने का काम किया था। उन्होंने जो रास्ता दिखाया है, उस पर हम सभी को चलना है। प्रदेश सरकार सबका साथ-सबका विकास और सबका विश्वास के सिद्घांत पर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हरियाणा प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों का एक समान विकास करवाया है। इस मौके पर विधायक ने 1 लाख रुपए देने की घोषणा की। कार्यक्रम में उतराखंड के ज्वालापुर के विधायक सुरेश राठौड़ ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार सता के लिए नहीं बल्कि सेवा के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने डा. भीमराव अम्बेडकर भवन के शिलान्यास पर सभी को बधाई दी।
कार्यक्रम में जिला परिषद के चेयरमैन गुरदयाल सुनहेड़ी ने आयोजकों को बधाई देते हुए कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार ने डा. भीमराव अम्बेडकर के मार्ग पर चलते हुए व्यवस्था परिवर्तन का काम किया है और आम आदमी तक कैसे सुविधा का लाभ पहुंचे है इसके लिए पूरे इंतजाम किए है। इस मौके पर चेयरमैन ने जिला परिषद के कोष से 2 लाख 51 हजार रुपए देने की घोषणा की। कार्यक्रम को हरियाणा ग्रंथ अकेडमी के उपाध्यक्ष प्रोफेसर विरेन्द्र चैहान व बीजेपी के जिलाध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर ने भी सम्बोधित किया और डा. भीमराव अम्बेडकर भवन के शिलान्यास अवसर पर सभी को बधाई दी। इस मौके पर संस्था के प्रधान किरण पाल व उपप्रधान रघुबीर सिंह ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया तथा गांव की सरपंच अंजू देवी ने अतिथियों का धन्यवाद किया। कार्यक्रम में राज्यपाल ने लेखक डा. प्रदीप राय द्वारा लिखित तथा हरियाणा ग्रंथ अकेडमी द्वारा प्रकाशित मीडिया लिटरेसी दूसरी परम्परा पुस्तक का तथा अम्बेडकर स्मारिका का विमोचन भी किया।
इस मौके पर वरिष्ठड्ढ पत्रकार दीपक बसंल, सतिन्द्र कौर, सुरजभान, विजय सभ्रवाल, कृष्ण धमीजा, नीता खन्ना को उल्लेखनीय कार्य करने पर राज्यपाल ने सम्मानित किया तथा अमर शहीद लाला जगत नारायण जी की पुण्यतिथि पर आयोजित हुए रक्तदान शिविर में सराहनीय कार्य करने वालों को भी प्रशंसा पत्र देकर राज्यपाल ने सम्मानित किया। इस मौके पर उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, एडीसी पार्थ गुप्ता, एसडीएम पिहोवा डा. संजय कुमार, थानेसर व पिहोवा के बीडीपीओ राजेश कुमार, राज्यपाल के सुपुत्र कौशल किशोर के अलावा पूर्व मंत्री बलबीर सिंह सैनी, स्कूल की हैड टीचर निशा शर्मा सहित जिला प्रशासन के आलाधिकारी व संस्था के अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।