धर्मशाला, 11 जून: शहरी विकास आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सरवीन चौधरी ने कहा कि प्रदेश में विद्यार्थियों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने की दिशा में विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। इस दिशा में नई योजनाएं आरम्भ की गई हैं। इस समय प्रदेश में उच्च स्तर तक शिक्षण संस्थानों का बड़ा नेट वर्क विद्यमान है। सभी शिक्षण संस्थाओं में आधुनिक सुविधाएं व पर्याप्त स्टाफ उपलब्ध करवाने के कारगर प्रयास किये जा रहे हैं व शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया लगातार जारी है। इस वर्ष शिक्षा के लिए 7598 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान किया गया है।
सरवीन चौधरी आज शाहपुर विधान सभा क्षेत्र के नेरटी में 20 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाले राजकीय कन्या उच्च विद्यालय नेरटी के भवन में अतिरिक्त कमरों के निर्माण का शिलान्यास करने के उपरांत बोल रही थीं।
उन्होंने कहा कि सरकार स्कूलों व कॉलेजों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए कृतसंकल्प है। इसके लिए सरकार शैक्षणिक संस्थाओं में समुचित सुविधाएं उपलब्ध करवाएगी। विद्यालयों में आईसीटी लैब प्रयोगशालाओं में वर्तमान आधारभूत सरंचना को सुदृढ़़ करके विद्यालयों में वीडियो सम्मेलनों कक्षों की स्थापना की जाएगी ताकि ऑनलाईन पठन-पाठन कार्यक्रम शुरु किया जा सके।
सरवीन ने कहा कि शिक्षक समाज की रीढ़ की हैं तथा उन्हें विद्यार्थियों को न केवल ज्ञानवर्धक शिक्षा प्रदान करनी चाहिए, बल्कि छात्रों में आरम्भ से ही अनुशासन, नैतिक मुल्य, आदर्श व सैद्धांतिक ज्ञान का संचार करना चाहिए।
राजकीय कन्या उच्च विद्यालय नेरटी की मुख्याध्यापिका सुनंदा चौधरी ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा स्कूल द्वारा किये जा रहे कार्यों की विस्तृत जानकारी दी।
इस अवसर पर स्कूली बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये। सांस्कृतिक कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए शहरी विकास मंत्री ने 5 हजार रुपये देने की घोषणा की।
इस अवसर पर लदवाड़ा के प्रधान योगराज चड्डा, डॉ.गौतम व्यथित, सत शर्मा, ओम शर्मा, हरवंश लाल, किशोरी लाल सहित स्कूल के अध्यापक तथा बच्चे मौजूद थे।
000