चंडीगढ़ः गांधी स्मारक भवन, सैक्टर 16 ए, चंडीगढ़ के प्रागंण में सीनियर सिटीज़न एसोसिएशन के सौजन्य से 75वां स्वतन्त्रता दिवस हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया। श्री वी.के. कपूर आई.पी.एस. रिटायर्ड एवं सतनाम सिंह रंधावा प्रधान ने तिरंगा झंडा फहरा कर कार्यक्रम का आरम्भ किया गया।

श्री वी.के. कपूर आई.पी.एस. रिटायर्ड ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि स्वतन्त्रता आंदोलन के दौरान पंजाब का योगदान महत्वपूर्ण रहा। जलियांवाला बाग हत्याकांड भी यहीं हुआ जिसने स्वतन्त्रता आंदोलन को और सक्रिय कर दिया। उन्होंने सभी लोगों को अमृत महोत्सव की बधाई दी। सतनाम सिंह रंधावा ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि स्वतन्त्रता आंदोलन के दौरान क्रांतिकारी व अहिंसावादी देशभक्तों का भरपूर योगदान रहा। स्वतन्त्रता आंदोलन पर जानकारी प्रदान की और कहा कि स्वतन्त्रता आंदोलन 1857 की क्रांति के साथ ही आरम्भ हो गया था जिसमें लगभग साढ़े तीन लाख लोगों ने कुर्बानियाँ दी। चाहे यह क्रांति असफल रही लेकिन इसने देश में आज़ादी की चिंगारी जला दी जो बाद में बड़े आंदोलन में परिवर्तित हुई।

पं.मोहन लाल एस.डी. पब्लिक स्कूल, सैक्टर- 32, चंडीगढ़ के बच्चों ने म्यूजिक टीचर नीलम शर्मा के मार्गदर्शन में सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए। डा. देवराज त्यागी ने धन्यवाद किया, जबकि मंच संचालन पापिया चक्रवर्ती उप प्रभारी ने किया।

इस अवसर पर अनेक स्वतन्त्रता सेनानी, साहित्यकार और समाजसेवी उपस्थित थे डॉ. एम.पी. डोगरा, डॉ. रमेश कुमार, डॉ. आर.के. चन्ना, योगी नरेश शर्मा, योगी रमन शर्मा, विजय सिंगला, अनीता मलिक, रमा देवी, नीरजा राव, पूनम शर्मा, विनोद कपूर, आर.डी. कैले, वरिंदर शर्मा, प्रोमिला कक्कड़ इत्यादि लोगों की उपस्थित सराहनीय थीं।