115 करोड़ की संधोल-बरच्छबाड़ पेयजल योजना बन कर तैयार, इसी महीने सीएम और केंद्रीय जल शक्ति मंत्री करेंगे लोकार्पण - महेंद्र सिंह ठाकुर
सरकाघाट (मंडी), 5 अगस्त। 115 करोड़ रुपये लागत की संधोल-बरच्छवाड़ पेयजल योजना का कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है और इसी महीने मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर तथा केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेंद्र सिंह शेखावत अपने हाथों इसे लोगों को समर्पित करेंगे। यह बात जलशक्ति, बागवानी, राजस्व एवं सैनिक कल्याण मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने आज (शुक्रवार) धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र के योह, बकारटा, सैण, गधयानी, टिक्करी, भोवानी, धरोह, दारपा, घाड़, अप्पर नैहलड़ी, कलोट, कलोट ठोड़ी, पन्यौर तथा बदार गांवों में लोगों की समस्याओं को सुनने के बाद अपने संबोधन में कही। उन्होंने कहा कि संधोल-बरच्छवाड़ पेयजल योजना से क्षेत्र की दर्जन भर पंचायतों के लोगों को 24 घंटे पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित होगी।
उन्होंने कहा कि पुनर्गठन के चलते धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र में शामिल सरकाघाट से सटी चार पंचायतों दारपा, बकारटा, रखोह, बरच्छबाड़ तथा साथ लगती चोलथरा, पपलोग व बसंतपुर पंचायतों के बाशिंदों के लिए 100 करोड़ रुपये से सिंचाई योजना का निर्माण किया जाएगा। सीएम और केंद्रीय जल शक्ति मंत्री इसका शिलान्यास करेंगे। योजना से इस पूरे क्षेत्र में किसानों के खेतों के लिए पानी की कमी नहीं रहेगी, जिससे बेहतर पैदावार होगी और किसान-बागवान कर सकेंगे ।
महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर के आशीर्वाद से बीते साढ़े चार वर्षों के दौरान प्रदेश में विकास की एक नई गाथा लिखी गई है तथा उनके नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश का एक समान विकास सुनिश्चित हुआ है । प्रदेश सरकार के निरंतर प्रयासों से आज धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र विकास की दृष्टि से प्रदेश में अग्रणी क्षेत्र बनकर उभरा है।
जलशक्ति एवं बागवानी मंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के निचले क्षेत्रों के किसानों व बागवानों की आर्थिकी को सुदृढ़ बनाने के लिए प्रदेश में एचपी शिवा प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई है। इसके माध्यम से प्रदेश के सात जिलों में बागवानी से किसानों की आर्थिकी को बल प्रदान करने को 1825 करोड़ रुपये की धनराशि व्यय हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के निचले क्षेत्रों के लिए यह प्रोजेक्ट न केवल बागवानी के नए द्वार खोल रहा है बल्कि शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिए घर बैठे स्वरोजगार का भी एक अहम जरिया साबित हो सकता है। उन्होंने बेरोजगार युवाओं के साथ-साथ किसानों व बागवानों से बड़े स्तर पर एचपी शिवा प्रोजेक्ट के साथ जुड़ने की अपील की।
उन्होंने धर्मपुर की जनता से साथ मिलकर चलने का आह्वान करते हुए कहा कि सबके साथ से क्षेत्र में विकास को एक नया मुकाम दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बरच्छबाड़ में 35 करोड़ रुपये की लागत से प्री कोचिंग सैन्य अकादमी खोली जा रही है, जिसमें युवाओं को सैन्य, अर्ध सैन्य व पुलिस सेवा में अधिकारी बनने का निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा ।
जल शक्ति मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा जल जीवन मिशन के तहत युद्ध स्तर पर पर कार्य कर रही है । मिशन के तहत अब तक 93.05 प्रतिशत परिवारों को क्रियाशील घरेलू पेयजल कनेक्शन प्रदान किए जा चुके हैं ।
महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने महिला कल्याण की दिशा में एक और कदम आगे बढ़ते हुए महिलाओं के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में किराए में 50 प्रतिशत की छूट प्रदान की है। इसके अलावा घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 125 यूनिट तक प्रतिमाह निःशुल्क बिजली देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में निःशुल्क पानी उपलब्ध करवाया जाएगा । उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी सहायिकाओं और आशा कार्यकर्ताओं के मासिक मानदेय में वृद्धि की गई है। सिलाई अध्यापिकाओं, मिड-डे-मील वर्कर्स, जलवाहकों (शिक्षा विभाग) के मानदेय में भी वृद्धि की गई है।
घोषणाएं
जल शक्ति मंत्री ने बकारटा-बरच्छबाड़ पुल के लिए दस लाख रुपये, योह बकारटा सड़क हेतु दस लाख रुपये तथा सम्पर्क सड़क सैण के लिए तीन लाख रुपये देने की घोषणा की ।
इस अवसर पर बरच्छबाड़ पंचायत प्रधान निशा कुमारी, पूर्व जिला परिषद सदस्य विजय लक्ष्मी, बीडीसी सदस्य सुलोचना देवी, पूर्व प्रधान दीप चंद, तहसीलदार दीनानाथ यादव, बीडीओ अशमिता ठाकुर, अधिशाषी अभियन्ता जल शक्ति एलआर शर्मा, अधिशाषी अभियन्ता विद्युत, आरके गुप्ता, भू सरंक्षण अधिकारी धर्मपाल ठाकुर, पंचायती राज संस्थान के पदाधिकारी, पार्टी कार्यकर्ता, विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित कई गण्यमान्य लोग मौजूद रहे।