सोलन-दिनांक 07.12.2019-हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने आज सोलन जिला के दाड़लाघाट स्थित अम्बुजा सीमेंट संयन्त्र का दौरा किया। उन्होंने इस अवसर पर संयन्त्र की कार्यप्रणाली का अवलोकन कर विभिन्न मशीनरी के कार्यों की जानकारी प्राप्त की।
राज्यपाल ने इस अवसर पर कहा कि अम्बुजा सीमेंट अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करते हुए जल एवं प्लास्टिक प्रबंधन में बेहतर कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि अम्बुजा सीमेंट द्वारा सामुदायिक सहयोग की दिशा में भी बेहतर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि जितना जल कंपनी उपयोग में ला रही है उससे 6.5 गुना अधिक समाज को विभिन्न माध्यमों से लौटा रही है। इसी प्रकार कांगड़ा, सोलन, शिमला और हमीरपुर जिलों से एकत्रित प्लास्टिक को कंपनी द्वारा भट्टियों में वैज्ञानिक पद्धति द्वारा जलाकर नष्ट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, शिक्षा और सहकारी समितियों को सहयोग करके यह उद्योग सामाजिक दायित्व की पूर्ति कर सकता है।
राज्यपाल ने प्रसन्नता व्यक्त की कि अम्बुजा ने औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान दाड़लाघाट के माध्यम से वर्ष 2007 से अब तक 3494 विद्यार्थियों को प्रशिक्षण प्रदान किया है। इनमें से 1288 छात्राएं हैं। इन छात्रों में से 1188 स्वरोजगार अपना चुके हैं और 1757 को रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कंपनी से आग्रह किया कि वे कौशल विकास के लिए छात्रों को और सहयोग प्रदान करने का प्रयास करें।
इस अवसर पर राज्यपाल ने अम्बुजा सीमेंट उद्योग परिसर में पीपल का पौधा भी रोपा।
अम्बुजा सीमेंट इकाई के श्री अनुपम अग्रवाल ने राज्यपाल को इकाई की विभिन्न गतिविधियों से अवगत करवाया।
राज्यपाल से तदोपरांत दाड़लाघाट स्थित अमृत धारा दुग्ध समिति के सदस्यों ने भी भेंट की। अम्बुजा के सहयोग से समिति द्वारा पनीर उत्पादन और दूध विक्रय का कार्य किया जा रहा है।
समिति की प्रधान रेणु ठाकुर ने राज्यपाल को अवगत करवाया कि समिति प्रतिदिन 600 लीटर दूध समीप के गांवों से एकत्र करती है। राज्यपाल ने समिति के सदस्यों आत्मनिर्भरता के इन कार्यों को अधिक विस्तार देने की अपील की। .