CHANDIGARH,24.11.21-प्राचीन कला केन्द्र यूं तो कला और संस्कृति का वो महान मंदिर है जहां न जाने कितने कलाकारों ने अपनी कला को निखारा,प्रस्तुत किया और कला के क्षेत्र में नए आयाम बनाए । कला के क्षेत्र में नित नए प्रयोग करके केन्द्र ने नई ऊंचाइयों को छुआ है । केन्द्र देशभर में सांगीतिक कार्यक्रमों के आयोजन करके कला के प्रचार प्रसार एवं विस्तार में पिछले 60 वर्षो से निरंतर कार्यरत है ।

केन्द्र अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी नए आयाम स्थापित करने हेतु नित नए प्रयोग करता है । इसी कड़ी में एैमबैसी ऑफ ग्रीस एवं भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के संयुक्त तत्वाधान में प्राचीन कला केन्द्र द्वारा एक अनोखी दो दिवसीय कार्यशाला एवं लैक्चर डेमोंस्ट्रेशन का आयोजन 25 एवं 26 नवम्बर को करने जा रहा है । इस कार्यक्रम का आयोजन प्राचीन कला केन्द्र के सेक्टर 35 स्थित परिसर में पीकेके आर्ट गैलरी में दोनों दिन सुबह 10 :30 से सायं 5:00 बजे तक किया जायेगा ।

इस कार्यशाला में ग्रीस के चार प्रसिद्ध कलाकार अपनी कलाकृतियों के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन करेगें और साथ अपने लेक्चर डेमोंस्ट्रेशन से जिज्ञासु विद्यार्थीयों और कला प्रेमियोंके के साथ पारस्परिक बातचीत करेंगे और उनके कला से जुड़े प्रश्नो के जवाब भी देगें। दो दिन चलने वाली इस कार्यशाला का आयोजन ग्रीस एैमबैसी द्वारा ग्रीक क्रांति के 200 वर्ष पूरे होने के अवसर पर किया जा रहा है ।

इस कार्यशाला में ग्रीस के चार महान कलाकार कलेयर स्लाउचड,फ्रोसो विजोविटाउ,लैजरोस पैनडोस और पैवॉलस सैमीयस भाग लेगें और अपनी खूबसूरत कला से कला प्रेमियों को परिचित करवाएंगे । इन कलाकारों ने ग्रीस से नहीं बल्कि अन्य देशों में भी अपनी कला से कला प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया है ।

इस अवसर पर प्राचीन कला केंद्र द्वारा एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया जिस में इस कार्यशाला की विस्तृत जानकारी श्री सजल कौसर, सचिव , प्राचीन कला केंद्र एवं श्री आशुतोष महाजन , मानद डायरेक्टर, एवं प्रोजेक्ट प्लानिंग एवं डेवलपमेंट, प्राचीन कला केंद्र ने दी । इन्होंने ये भी बताया कि ये सभी कलाकार केन्द्र के मोहाली स्थित परिसर में रहेगें