घग्गर नदी में दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया बंगिया सांस्कृतिक सम्मिलनी, चण्डीगढ़ के सदस्यों ने

चण्डीगढ़ 15.10.21-: बंगिया सांस्कृतिक सम्मिलनी, चण्डीगढ़ के सदस्यों द्वारा आज दशमी के रोज घग्गर नदी में दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया गया। से.35 स्थित बंग भवन में बीती 11 अक्टूबर को विधिवत दुर्गा प्रतिमा स्थापित की गई थी। संस्था के अध्यक्ष अनिन्दु दास ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि संस्था के साथ जुड़े पुजारी सुनील चटर्जी ने पूरे विधि-विधान के साथ सब धार्मिक कार्य सम्पन्न किए। तत्पश्चात सिन्दूर खेला का भी आयोजन किया गया। अनिन्दु दास ने बताया कि इसी के साथ दुर्गा पूजा या दुर्गोत्सव, जिसे शरदोत्सव अथवा शारदीय दुर्गा पूजा के नाम से भी जाना जाता है, का समापन हो गया।

बंग भवन में नाटक शोचिदानंदोर भूत का मंचन

इससे पहले बंगिया सांस्कृतिक सम्मिलनी, चण्डीगढ़ द्वारा से.35 स्थित बंग भवन में मनाये जा रहे दुर्गोत्सव के कार्यक्रमों के सिलसिले में एक नाटक शोचिदानंदोर भूत का मंचन किया गया। इस नाटक में दिखाया गया कि किस प्रकार एक असफल निर्देशक उपन्यास लेखन में अपनी किस्मत अजमाता है परन्तु यहाँ भी जब उसको सफलता नहीं मिलती तो वह भूतों का मजाक उड़ाने वाली कहानी लिखता है। इससे भूत समुदाय उससे नाराज हो जाता है पर भूतों का सरदार उसे जीवन भर भूतों पर ही कहानियां व लेख लिखने की असाधारण शक्ति प्रदान करता है।
नाटक के निर्देशक सुजॉय सेनगुप्ता थे जबकि निष्ठा दास व अनुभव चैटर्जी मुख्य कलाकार एवं आयुष डे बोधादीप पाल व इशिता भंडारी सहयोगी कलाकार थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर पधारे। इस अवसर पर रिद्धिमा घोष, इशिता डे सरकार व मृणालिका दास ने नृत्य के कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए। मंच संचालन बेगम रॉय ने कुशलतापूर्वक किया।