सशस्त्र सेना झंडा दिवस पर दें उदारतापूर्वक दान

मंडी, 3 दिसम्बर। उपायुक्त एवं जिला सैनिक कल्याण बोर्ड मंडी के अध्यक्ष अरिंदम चौधरी ने कहा कि सशस्त्र सेना झंडा दिवस सेना के प्रति हम सभी के सम्मान का प्रतीक है। उन्होंने सभी से सशस्त्र सेना झंडा दिवस पर उदारतापूर्वक दान देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि झण्डा दिवस हमें एक आदर्श अवसर देता है, जब हम उदारतापूर्वक दान देकर सशस्त्र सेना के प्रति अपना सम्मान, स्नेह और कृतज्ञता प्रकट कर सकते हैं।
गौरतलब है कि सशस्त्र सेना के सम्मान में हर साल 7 दिसम्बर को झण्डा दिवस मनाया जाता है और इस दिन लोगों को एक विशेष झण्डा देकर सैनिकों एवं उनके परिजनों की सहायता के लिए धन एकत्रित किया जाता है।
उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार ने प्रदेश में केवल एक दिन झंडा दिवस मनाने की बजाय 7 से 31 दिसंबर तक सशस्त्र सेना झंडा दिवस पर्व मनाने का निर्णय लिया है। मंडी जिले में भी इस अवधि में इस पुण्य पर्व को मनाया जाएगा।
उपायुक्त ने जिले वासियों से इस पर्व को सफल बनाने में अपना सहयोग देने का आग्रह करते हुए कहा कि सशस्त्र सेनाओं के निस्वार्थ बलिदान और देश के प्रति सम्पूर्ण समर्पण के प्रति अपनी कृतज्ञता, सम्मान और एकजुटता दिखाते हुए योगदान दें ताकि सैनिकों के कल्याण के लिए अधिक से अधिक धनराशि एकत्रित
उन्होंने कहा कि एकत्रित धन राशि प्रदेश सरकार के सैनिक कल्याण विभाग के माध्यम से युद्ध वीरांगनाओं, सैनिकों की विधवाओं, भूतपूर्व सैनिक, युद्ध में अपंग हुए सैनिकों और उनके परिजनों के कल्याण पर व्यय की जाती है।
अरिंदम चौधरी नेे कहा कि प्रदेश के वीर सुपुत्र हमारा सशस्त्र सेनाओं का गौरव हैं। इसलिए यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम सब इस महान कार्य के लिए उदारतापूर्वक योगदान दें।

==========================

लूणा पानी-सैण सड़क 31 दिसम्बर तक बन्द
मंडी, 03 दिसम्बर। बल्ह उपमंडल के तहत लूणा पानी से सैण सड़क के सुधार कार्य के मद्देनजर यह सड़क 31 दिसंबर, 2021 तक यातायात के लिए बंद रहेगी। इस संदर्भ में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी राजीव कुमार ने अधिसूचना जारी की है। किसी भी आपात स्थिति में एम्बुलेंस , अग्निशमन वाहन तथा स्कूली बच्चों के लिए लोक निर्माण विभाग द्वारा ट्रांसशिपमेंट और ट्रांसपोर्टेशन प्रबंध किया जाएगा।

==============================

स्वास्थ्य विभाग ने लगाया पुरुष नसबंदी जागरूकता शिविर
मंडी, 03 दिसम्बर। स्वास्थ्य विभाग मंडी में जिला स्तरीय पुरुष नसबंदी (एन.एस.वी) जागरूकता पखवाड़ा के तहत शुक्रवार को मंडी जिले के इंडस्ट्रियल क्षेत्र रत्ती में एक दिवसीय जागरूकता शिविर का आयोजन किया । शिविर की अध्यक्षता करते हुए जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश ठाकुर ने कहा कि पुरुष नसबंदी एक छोटा स्थाई, प्रभावशाली एवं सुरक्षित गर्भनिरोधक उपाय है, जिसमें न चीरा न टांका लगता है और यह ऑपरेशन मात्र 10 मिनट में किया जाता है तथा इससे कोई भी समस्या व दुष्प्रभाव नहीं होते। व्यक्ति को अस्पताल में रहने की भी आवश्यकता नहीं होती ।
उन्होंने कहा कि एक छोटी सी शल्य क्रिया के बाद व्यक्ति जीवन के सामान्य दैनिक कार्य स्वयं करके एक सफल जिंदगी व्यतीत कर सकता है। एहतियात के तौर पर उसे 7 दिन तक भारी कार्य व संभोग नहीं करना चाहिए तथा नसबंदी के बाद 3 महीने तक निरोध का इस्तेमाल करने की हिदायत दी जाती है। दो बार वीर्य की जांच करवाना जरूरी है।
जिला कार्यक्रम अधिकारी डॉ. पवनेष ने बताया कि बढ़ती हुई जनसंख्या को रोकने के लिए महिलाओं के साथ-साथ पुरूषों को भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए इसके लिए पूरे जिला में पुरुष नसबंदी जागरूकता पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। आषा व स्वास्थ्य कार्यकर्ता पोस्टर तथा हैंड बिल वितरित करके लोगों को जागरूक कर रही हैं। परिवार नियोजन के विशेष कैंप लगाए जा रहे हैं।
इस अवसर पर स्वास्थ्य शिक्षक सोहन लाल ने परिवार नियोजन के महत्व के बारे में जानकारी दी । । इस कार्यक्रम में जागृति फाउंडेशन ने उपस्थित कामकाजी लोगों की रक्तचाप और शुगर के टेस्ट किए। शिविर में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों, आशा- आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के अलावा लगभग 100 लोगों ने भाग लिया।

================================

मंडी में राज्य स्तरीय यशपाल जयंती समारोह का शुभारंभ
मंडी, 3 दिसंबर। भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय यशपाल जयंती समारोह शुक्रवार सायं राजकीय वल्लभ महाविद्यालय सभागार में आरंभ हो गया। इस दो दिवसीय समारोह का शुभारंभ मंडी के अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने यशपाल जी की तस्वीर पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित करके किया।
इस अवसर पर यशपाल जी के परिवार से सरोज गोगी पाल भी मौजूद रहीं। कार्यक्रम में शषा विभाग के अतिरिक्त निदेशक सुरेश जम्वाल एवं सहायक निदेशक अल्का, प्रदेश भर से आए नामचीन साहित्यकार व महाविद्यालय के विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों ने भाग लिया।
अपने संबोधन में जतिन लाल ने कहा कि यशपाल एक प्रखर क्रांतिकारी होने के साथ साथ प्रदेश के मूर्धन्य साहित्यकारों में से एक हैं। हिमाचल प्रदेश के नादौन से संबंधित होने के चलते यशपाल जी के साहित्य में हिमाचल की माटी की सौंधी खुशबू समाहित है। उन्होंने कहा कि भाषा एवं संस्कृति विभाग की ओर से हर वर्ष यशपाल जयंती का आयोजन किया जाता है जो सराहनीय है।
इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त ने मंडी के दिवंगत साहित्यकार स्वर्गीय नरेश पंडित की पुस्तक ‘झुनझुना’, का विमोचन ने किया। इस पुस्तक का संकलन एवं संपादन उनके चाचा डॉ. आर.के.राजू ने किया है, वहीं पर सुविख्यात साहित्यकार डॉ. विजय विशाल ने नरेश पंडित के बहुआयामी व्यक्तित्व का परिचय दिया।
इसके अलावा साहित्यकार राजेंद्र राजन के कहानी संग्रह ‘पापा आर यू ओके’ का विमोचन एसडीएम रितिका जिंदल ने किया।
इस मौके यशपाल द्वारा लिखित नाटक नशे नशे की बात का द कैरेक्टर्स ग्रुप के कलाकारों ने मंचन किया ।
दूसरे सत्र में सत्र की अध्यक्षता प्रदेश के प्रख्यात आलोचक एवं साहित्यकार डॉ. हेमराज कौशिक ने की। इस सत्र में दो कथाकारों ने अपनी कहानियों का पाठ किया। प्रसिद्ध साहित्यकार गंगाराम राजी द्वारा कहानी कबूतर तथा राजेंद्र राजन ने यातना शिविर कहानी का पाठ किया।
कार्यक्रम में जिला भाषा अधिकारी प्रोमिला ने मेहमानों का स्वागत किया।

==========================

अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस पर बोले एडीसी...दिव्यांगजन हमारे समाज के अभिन्न अंग, सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत लाभ पहुंचाने को मिलकर प्रयास करें विभाग
मंडी, 3 दिसंबर। दिव्यांगजन हमारे समाज के अभिन्न अंग हैं। सरकार ने उनके कल्याण के लिए बहुत सी योजनाएं चलाई हैं। सभी विभाग मिलकर यह प्रयास करें कि इन सभी योजनाओं का शत प्रतिशत लाभ दिव्यांगजनों तक पहुंचे । यह बात अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग मंडी द्वारा बिपाशा सदन में आयोजित एक दिवसीय जिला स्तरीय कार्यशाला में कही।
उन्होंने आग्रह किया कि दिव्यांगजनों के समान अधिकार व सम्मान के लिए सभी मिलकर काम करें। जरूरी है कि समाज की मुख्यधारा से जोड़ कर उनकी प्रतिभा का पूरा इस्तेमाल हो।
इन्होंने लिया भाग
कार्यषाला में उप-मंडलाधिकारी (नागरिक) मंडी रितिका जिंदल (आई.ए.एस.) भी उपस्थित रहीं। वहीं मंडी जिला के समस्त कार्यालय अध्यक्षों, दिव्यांगों के कल्याण के लिए काम कर रही गैर-सरकारी संस्थाओं दृष्टिबाधित दिव्यांग संघ, सहयोग संस्था, बाल श्रवण विकलांग कल्याण समिति मंडी, साकार सोसायटी, हिमालयन दिव्यांग कल्याण संस्था व हिमाचल-प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विशेष योग्यता वाले बच्चों के संस्थान सुंदरनगर के प्रतिनिधियों के साथ-साथ विभिन्न दिव्यांगजनों तथा दिव्यांग बच्चों ने भाग लिया ।
दिव्यांग अधिकार अधिनियम, 2016 की दी जानकारी
जिला कल्याण अधिकारी मंडी आर.सी.बंसल ने सभी मेहमानों का स्वागत करते हुए विभागीय योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ दिव्यांग अधिकार अधिनियम, 2016 के बारे भी विस्तृत जानकारी प्रदान की ।
इन्हें किया सम्मानित
कार्यशाला में दिव्यांगजनों हेतु कार्यरत विभिन्न गैर-सरकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ-साथ 100 प्रतिशत दृष्टिबाधित सरकारी कर्मचारी मदन ठाकुर, जो नगर निगम मंडी कार्यालय में कनिष्ठ सहायक के पद पर कार्यरत हैं, को उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए शॉल व टोपी भेंट कर सम्मानित किया गया। पैरालंपिक खेलों में फुटबॉल प्रतियोगिता प्रतिभागी सरकाघाट के कुनालग गांव के राहुल को विशेष रूप से सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर विभाग द्वारा विशेष योग्यता वाले बच्चों के लिए आयोजित पेंटिंग, नारा लेखन, गायन प्रतियोगिता, रस्सी कूदना, 100 मीटर दौड़ व बड़ी छलांग प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान हासिल करने वाले बच्चों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
कार्यशाला में दिव्यांग बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर समा बांधा।