सोलन -दिनांक 19.09.2020
पोषण माह के अन्तर्गत जिला में आयोजित की जा रही विभिन्न गतिविधियां-सुरेन्द्र कुमार तेगटा

पोषण माह के अन्तर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग सोलन द्वारा जिला के सभी विकास खण्डों में आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पोषण से सम्बन्धित गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। यह जानकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेन्द्र कुमार तेगटा ने आज यहां दी।
सुरेन्द्र कुमार तेगटा ने कहा कि सही पोषण वर्तमान समय की आवश्यकता है। क्योंकि एक सुपोषित बच्चा ही कल का नागरिक बनेगा जिससे स्वस्थ समाज की परिकल्पना को साकार किया जा सकता है। हर बच्चे, किशोर-किशोरी, गर्भवती एवं धात्री महिला को निर्धारित पोषण प्रदान कर ही समाज को कुपोषण मुक्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिये पंचायत स्तर तक एक मजबूत साझेदारी की आवश्यकता है। इस दिशा में पंचायत प्रतिनिधि अपनी अहम भूमिका निभायें तथा कुपोषण को दूर करते हुए एक मजबूत देश की नींव रखें।
उन्होंने कहा कि जिला के सभी विकास खण्डों सोलन, नालागढ़, कण्डाघाट, कुनिहार तथा धर्मपुर में हाथ धोने के सही तरीके का विवरण, पौष्टिक खाद्य पदार्थों की जानकारी प्रदान की जा रही है।
उन्हांेने कहा कि कहा कि इन कार्यक्रमों में बच्चों एवं किशोरियों को दिए जाने वाले आहार के बारे में जानकारी प्रदान की जा रही है। लोगों को बताया जा रहा है कि सही पोषण न मिलने से शरीर में रक्त की कमी होती है और इस स्थिति में शरीर को गम्भीर रोग लगने का खतरा बढ़ जाता है।
उन्होंने कहा कि जिला के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं द्वारा गृह भ्रमण कर बच्चों के स्वास्थ्य से सम्बन्धित विभिन्न जानकारियां प्राप्त की जा रही हैं।
उन्होंने कहा कि कण्डघाट विकास खण्ड के आंगनबाड़ी केन्द्र दोची, थरोला, मिहनी, मही, वाकनाघाट, कोट, दोलग, रिहाना, झाजा, लचोग में पोषण माह के अन्तर्गत विभिन्न प्रकार की गतिविधियां करवाई गई। बच्चों के अभिभावकों को स्वच्छता बारे जानकारी दी गई। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गृह भ्रमण, स्तनपान का सही तरीका इस तरह की जानकारी दी गई।
नालागढ़ में आंगनबाड़ी स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। बच्चों, किशोरियों व महिलाओं के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने की जानकारी दी गई। किशोरियों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को स्तन पान का सही तरीका बताया गया। इस दौरान बच्चों की ऊंचाई, किशोरियों और गर्भवती माताओं के वजन की जांच की गई।
कुनिहार विकास खण्ड के तहत अर्की के विभिन्न आंगनवाड़ी केंद्रों तनसेटा, लोहारा, सरोन, पाटी में एनीमिया और गंभीर कुपोषण को रोकने के लिए कुपोषण के प्रभाव से अवगत करवाया गया। लोगों को बताया गया कि एनीमिया का असर केवल शरीर पर ही नहीं बल्कि मानसिक असर भी होती है।

==================================================

सोलन- दिनांक 19.09.2020-शिक्षा क्रांति सोलन के स्वयंसेवी कोरोना महामारी के दौरान सोलन जिला के विभिन्न स्थानों पर लोगों को स्वच्छता के बारे में जागरूक कर रहे हैं। यह जानकारी शिक्षा क्रांति संस्था के संस्थापक सदस्य सत्यन ने दी।
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान शिक्षा क्रांति के स्वयंसेवी ‘साइलेंट कोरोना वारियर्स’ की भूमिका निभा रहे हैं तथा लोगों को आसपास के परिवेश को स्वच्छ रखने के बारे में जागरूक किया जा रहा है। शिक्षा क्रांति संस्था के स्वयंसेवियों ने जिला प्रशासन सोलन के मार्गदर्शन में नगर परिषद सोलन तथा सोलन पुलिस के साथ मिलकर सब्जी मंडी सोलन तथा मालरोड सोलन में स्वच्छता और स्वास्थ्य अभियान चलाया। इस दौरान लोगों को कोरोना महामारी से बचाव के लिए निर्धारित मानकों को भी पालन करने का आह्वान किया गया।
उन्होंने कहा कि आसपास के परिवेश को साफ-सुथरा रखकर ही कोरोना महामारी से बचा जा सकता है। स्वच्छता से रोग से लड़ने की क्षमता बढ़ती है और महामारी की चपेट में आने का खतरा कम होता है ।
सत्यन ने कहा कि संस्था के स्वयंसेवियों ने स्वच्छता ग्रह प्रोजेक्ट के तहत लाॅकडाउन के दौरान जरूरतमंदों को राशन वितरित करवाया और कोविड-19 के सामुदायिक संक्रमण के समय में वे लोगों को सफाई और स्वास्थ्य को लेकर जागरूक कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि शिक्षा क्रांति के स्वयं सेवी नगर परिषद सोलन एवं पुलिस विभाग के सहयोग से सोलन की पैदल रास्ते वाली जगहों में लोगों से मास्क का प्रयोग करने, खुले में न खाँसने और थूकने, समय-समय पर हाथ धोने, योगाभ्यास एवं व्यायाम करने तथा सार्वजनिक स्थानों में भीड़ एकत्र न करने का आग्रह कर रहे हैं।
सत्यन ने कहा कि शिक्षा क्रांति के स्वयंसेवी सार्वजनिक स्थानों पर बिना मास्क चलने वाले लोगों को मास्क एवं सैनिटाइजर वितरित कर रहे हैं। बिना मास्क घूमने वालों को तथा खुले में थूकने वालों को ऐसा न करने की अंतिम चेतावनी देने के बाद चालान काटे जा रहे हैं।
सत्यन ने कहा कि स्वच्छता एवं स्वास्थ्य जागरूकता अभियान में पुलिस सिटी सेंटर सोलन के प्रभारी उप निरीक्षक शेर सिंह नेगी तथा नगर परिषद सोलन के स्वच्छता निरीक्षक प्रदीप शर्मा, राजेश कुमार तथा उनके सभी टीम सदस्य सहयोग कर रहे हैं।

=========================================================

सोलन- दिनांक 19.09.2020
बैच आधार पर प्रशिक्षित स्नातक अध्यापकों की काउन्सिलिंग 26 सितम्बर को

सोलन जिला में अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण प्रशिक्षित स्नातक अध्यापकों (कला, नाॅन मेडिकल तथा मेडिकल संकाय) की बैच आधार पर भर्ती के लिए काउन्सिलिंग 26 सितम्बर, 2020 को उपनिदेशक प्रारम्भिक शिक्षा के कार्यालय आयोजित की जाएगी। यह जानकारी उपनिदेशक प्रारम्भिक शिक्षा रोशन जसवाल ने आज यहां दी।
यह काउन्सिलिंग भूतपूर्व सैनिकों के आश्रित बच्चों के लिए निर्धारित की गई है।
रोशन जसवाल ने कहा कि जिन अभ्यर्थियों के नाम सम्बन्धित रोजगार कार्यालय द्वारा इस कार्यालय को प्रेषित किए गए है उन्हें पंजीकृत पत्र द्वारा काउन्सिलिंेग के लिए बुलावा पत्र प्रेषित कर दिए गए हैं।
उन्होंने कहा कि काउन्सिलिंग अभ्यर्थियों को अपने साथ सभी शैक्षणिक मूल प्रमाण पत्र व उनकी छाया प्रति सहित 26 सितम्बर, 2020 को उनके कार्यालय में उपस्थित होना होगा। यदि किसी कारवश निर्धारित अभ्यर्थियों का नाम संबंधित रोजगार कार्यालय द्वारा प्रेषित न हुआ हो और उसका नाम रोजगार कार्यालय में पंजीकृत हो तथा इन पदों के लिए पात्रता रखता हो इस काउउन्सिलिंग में उपस्थित हो सकते हैं। ऐसे अभ्यर्थियों को काउन्सिलिंग से पूर्व अपना रोजगार कार्यालय का पंजीकरण कार्ड, अध्यापक पात्रता का प्रामण पत्र दिखाना होगा।

=============================================================

सोलन-दिनांक 19.09.2020
जिला लोक सम्पर्क अधिकारी कृष्ण पाल के निधन पर शोक व्यक्त

जिला लोक सम्पर्क अधिकारी बिलासपुर कृष्ण पाल के आकस्मिक निधन पर सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग सोलन के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है।
52 वर्षीय कृष्ण पाल का गत दिवस चण्डीगढ़ में निधन हो गया था। वे पिछले कुछ समय से चण्डीगढ़ में एक निजी अस्पताल में उपचाराधीन थे।
मंडी शहर के रहने वाले कृष्ण पाल ने वर्ष 2007 में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग में बतौर सहायक लोक सम्पर्क अधिकारी अपनी सेवाएं आरम्भ की थीं। वे जोगिंदरनगर, मण्डी, नाहन और सुन्दरनगर में सहायक लोक सम्पर्क अधिकारी के पद पर रहे। हाल ही में उनकी पदोन्नति जिला लोक संपर्क अधिकारी पद पर हुई थी।
जिला लोक सम्पर्क अधिकारी कार्यालय सोलन के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों ने शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं जताते हुए दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की है।

===================================================================

सोलन - दिनांक 19.09.2020
ग्राम पंचायत गोयला, कोट, आंजी मातला तथा कालूझिंडा में की 293 रोगियों की एनीमिया जांच

जिला आयुर्वेद विभाग सोलन द्वारा धर्मपुर विकास खण्ड की ग्राम पंचायत गोयला, कोट, आंजी मातला तथा कालूझिंडा में एनीमिया तथा कोविड-19 बारे जागरूक शिविर आयोजित किए गए। यह जानकारी जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. राजेन्द्र शर्मा ने आज यहां दी।
उन्होंने कहा कि इन ग्राम पंचायतों में आयोजित शिविरों में 293 रोगियों की एनीमिया जांच की गई। ग्राम पंचायत गोयला में 80, ग्राम पंचायत आंजी मातला में 77, ग्राम पंचायत कोट में 105 तथा ग्राम पंचायत कालूझिंडा में 31 रोगियों की हीमोग्लोबिन की जांच की गई।
डाॅ. राजेन्द्र शर्मा ने कहा कि इन शिविरों में लोगों को बताया गया कि शरीर में रक्त की कमी के कारण एनीमिया होता है। इस रोग में शरीर के ब्लड सेल्स का स्तर सामान्य से कम हो जाता है। लोगों को संतुलित आहार लेने के बारे में भी जानकारी दी गई।
शिविर में कोविड-19 से सुरक्षा बारे भी लोगों को जानकारी दी गई।
इस अवसर पर रोगियों को एनीमिया की निःशुल्क दवाएं भी वितरित की गईं।
डाॅ. राजेन्द्र शर्मा ने कहा कि इसी प्रकार का शिविर 21 सितम्बर को ग्राम पंचायत बढलग के पंचायत घर बढलग, ग्राम पंचायत धर्मपुर की सब्जी मण्डी, ग्राम पंचायत बरोटीवाला के आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र बरोटीवाला, ग्राम पंचायत कोटबेजा के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कोटबेजा, 23 सितम्बर को ग्राम पंचायत रौड़ी के पंचायत घर रौड़ी कोटला, ग्राम पंचायत बारियां के आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र जोहड़जी, ग्राम पंचायत सूरजपुर के आंगनवाड़ी केन्द्र सूरजपुर तथा ग्राम पंचायत हुड़ंग के आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र कण्डा में कोविड-19 एवं एनीमिया से जागरूकता के लिए शिविर आयोजित किए जाएंगे।
इस अवसर पर आयुर्वेदिक चिकित्सक डाॅ. मंजेश शर्मा, डाॅ. प्रियंका सूद, डाॅ. विनय सूद, डाॅ. रक्षा तथा आयुर्वेद विभाग के अन्य कर्मचारी तथा स्थानीय निवासी थे।

================================================================

अतिरिक्त उपायुक्त राहुल कुमार ने की जिलापुर्नवास केन्द्र की बैठक की अध्यक्षता

कहा.... दिव्यांग व्यक्तियों का डॉटाबेस तैयार कर पात्र लोगों तक पहुंचाया जाये लाभ
धर्मशाला, 19 सितम्बर: अतिरिक्त उपायुक्त राहुलकुमार ने आज जिला पुर्नवास केन्द्र की जिला प्रबंधन टीम की बैठक की अध्यक्षता की। बैठकमें जिलापुर्नवास केन्द्र के नए दिशानिर्देशों के अनुसार कार्यक्रम के कार्यान्वयन परचर्चा हुई। आतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि ग्रामीण स्तर पर जागरुकता शिविर लगाकर अक्षमव्यक्तियों की पहचान की जानी चाहिये तथा पात्र दिव्यांग व्यक्तियों का डॉटाबेस तैयारकिया जाये ताकि उनको समय पर सहायक उपकरण प्रदान किये जा सकें और पात्र जरुरतमंदोंको फिजियोथेरेपी, स्पीच थैरेपी तथा स्कीम के अनुसार अन्य सुविधाएं प्रदान की जासकें। उन्होंने कहा किजो दिव्यांग 40 प्रतिशत या उससे अधिक हांे तथा जिनकी सालाना आय 2 लाख रुपये से कमहो, उन्हें चिकित्सा अधिकारी के परामर्श के अनुसार तीन वर्ष में एक बार सहायकउपकरण जिला पुर्नवास केन्द्र की स्कीम के अनुसार प्रदान किये जा सकते हैं। जिन दिव्यांगोको अभी तक यह सुविधा नहीं मिली है वह जिला पुर्नवास केन्द्र में सम्पर्क कर सकते हैं।उन्होंने कहा कि जिला पुर्नवास केन्द्र में अप्रैल 2020 से अभी तक 08 विकलांगता शिविरलगाये जा चुके है जिसमें 40 प्रतिशत या इससे अधिक 130 दिव्यांग व्यक्तियों को चयनितकिया गया तथा उन्हें विकलांगता प्रमाण पत्र जारी किये गये हैं। जिला पुर्नवांसकेन्द्र द्वारा कोरोना काल के समय में 10 दिव्यांग व्यक्तियों को श्रवणयंत्र, 06 को व्हीलचेयर, 01 को वॉकर तथा 01 नेत्रहीन व्यक्ति को स्मार्ट केन प्रदान की गई है। इसके अलावा29 व्यक्तियों को फिजियोथेरेपी की सुविधा प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि जिलारैडकास सोसायटी के जिला पुर्नवास केन्द्र के 22 फरवरी, 2020 के मूल्यांकन शिविर मेंचयनित दिव्यांग व्यक्तियों को सहायक उपकरणों का वितरण अक्तूबर माह में किया जायेगाइसके सम्बन्ध में पात्र लाभार्थियों को समयनुसार सूचित कर दिया जायेगा। अतिरिक्त उपायुक्त नेजिला पुर्नवास केन्द्र की जिला प्रबंधन टीम का आहवान करते हुये कहा कि जिला पुर्नवासकेन्द्र के कार्यकमों को सुचारु रुप से कार्यान्वित करने में वे अपना पूरा सहयोग करें। उन्होंनेकहा कि जिला पुर्नवास केन्द्र की अधिक जानकारी के लिए कोई भी व्यक्ति कार्यालय दूरभाषनम्बर 01892-222940 पर सम्पर्क कर सकताहै। जिला रैडकाससोसायटी कांगड़ा स्थित धर्मशाला द्वारा प्रयास भवन में जिला पुर्नवास केन्द्र, हिमाचलप्रदेश सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की वितीय सहायता द्वारा चलाया जारहा है । जिला पुर्नवास केन्द्र में दिव्यांगों को निःशुल्क कृत्रिम अंग, सहायक उपकरण,परामर्श, फिजियोथेरेपी, स्पीच थेरेपी तथा मानसिक रुप से अक्षम व्यक्तियों तथा उनकेपरिवारजनों को उनकी दैनिक दिनचर्या के लिये प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ।बैठक में असीमसूद, जिला कल्याण अधिकारी, डॉ0 आरके सूद जिला कार्यकम अधिकारी, रंजीत सिंह,जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल एवं बाल विकास विभाग अशवनी शर्मा, जिला पंचायतअधिकारी विनोद चौधरी शामिल हुये ।
======================================

दाड़ी 11 केवी फीडर मंे 22 व 23 सितम्बर को बिजली बंद
धर्मशाला, 19 सितम्बर: विद्युत उपमंडल-दो, धर्मशाला के सहायक कार्यकारी अभियंता अमर सिंह कपूर ने जानकारी देते हुए बताया कि 11 के.वी. दाड़ी फीडर में विद्युत लाईनों की मरम्मत व आवश्यक रखरखाव के कारण इस फीडर के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों दाड़ी, आईटीआई, लोअर एवं अप्पर बड़ोल, हब्बर, रेनबो, भटेड़, पासू, मनेड़, कनेड, सुक्कड़ तथा साथ लगते क्षेत्रों में दिनांक 22 व 23 सितम्बर, 2020 को प्रातः 9 बजे से सायं 5 बजे या कार्य समाप्ति तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी।
उन्होंने बताया कि मौसम खराब होने की स्थिति में यह कार्य अगले दिन किया जाएगा।

=============================================================

सेना में भर्ती के लिए 20 सितम्बर तक करें आवेदन: कर्नल राजाराजन
पंजीकृत अभ्यार्थी ही भर्ती में भाग ले सकेंगे

मंडी, 19 सितम्बर: भारतीय थल सेना में प्रदेश के युवाओं के लिए होने वाली भर्ती कोरोना महामारी के कारण कुछ समय के लिए स्थगित की गई है। जब भी इस भर्ती का आयोजन होगा तो उसके लिए पुनः पंजीकरण नहीं किया जाएगा। जिन अभ्यार्थियों ने 20 सितम्बर तक अपना पंजीकरण करवाया होगा उन्हें ही इस भर्ती में भाग लेने का मौका दिया जाएगा।
यह जानकारी देते हुए भर्ती निदेशक कर्नल एम.राजाराजन ने बताया कि इच्छुक युवा भर्ती के लिए अपना पंजीकरण 20 सितम्बर, 2020 तक भारतीय थल सेना की अधिकारिक वेबसाइट पर कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अभ्यार्थी रजिस्ट्रेशन करने के पश्चात सेना की वेबसाइट में अपनी प्रोफाईल पेज के डैसबोर्ड पर जाकर हिस्ट्री ऑफ एप्लीकेशन में अपनी एप्लीकेशन सबमिट हुई या नहीं अवश्य जांच ले और उसका प्रिंट निकालकर अपने पास रख लें।
उन्होंने बताया कि भर्ती सैनिक सामान्य डियूटी, सैनिक लिपिक/स्टोर कीपर तकनीकी, सैनिक तकनीकी, सैनिक तकनीकी (एविएशन), सैनिक तकनीकी (गोला बारूद परीक्षक) और सैनिक तकनीकी (नर्सिंग सहयोगी) पदों के लिए होगी।
उन्होंने कहा कि भर्ती के लिए किसी भी व्यक्ति को पैसे न दे। दलाल केवल आपको गुमराह कर सकते हैं। क्योंकि भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह कम्प्यूटराइज्ड और पारदर्शी है इसलिए दलाल इसमें कुछ नहीं कर सकते ।उन्होंने कहा कि जाली प्रमाण पत्र लेकर आने वाले उम्मीदवारों को पुलिस को सौंप दिया जाएगा और उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी। उम्मीदवारों का शारीरिक शक्तिवर्धक दवाओं के सेवन का दौड़ के बाद परीक्षण भी किया जाएगा और पकड़े जाने पर ऐसे उम्मीदवारों की उम्मीदवारी रद्ध कर दी जाएगी।
.0.




.0.