सोलन-दिनांक 22.05.2020
सोलन जिला से आज कोरोना संक्रमण जांच के लिए भेजे गए 268 सैम्पल
गत दिवस के 198 रक्त नमूनों में से 190 की रिपोर्ट नेगेटिव, 08 रिपोर्ट आनी शेष

सोलन जिला से आज कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के लिए 268 व्यक्तियों के रक्त नमूने केंद्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली भेजे गए। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.एन.के गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 268 रक्त नमूनों में से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नालागढ़ से 111, नागरिक अस्पताल बद्दी से 44, ईएसआई काठा से 18, नागरिक अस्पताल अर्की से 21, क्षेत्रीय अस्पताल सोलन से 28, ईएसआई परवाणू से 16 तथा ईएसआई बरोटीवाला से 30 सैम्पल कोरोना वायरस संक्रमण जांच के लिए भेजे गए हैं।
उन्होंने कहा कि गत दिवस भेजे गए 198 रक्त नमूनों में से 190 व्यक्तियों की रिपोर्ट नेगेटिव प्राप्त हुई है। शेष 08 की रिपोर्ट आनी शेष है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वाले लोगों से आग्रह किया कि वे क्वारेनटाइन सम्बन्धी दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन करें। उन्होंने कहा कि इन नियमों की अनुपालना न केवल बाहर से आने वाले व्यक्तियों के परिवारों अपितु समाज को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने में सहायक सिद्ध होगी।
डाॅ. गुप्ता ने सभी से आग्रह किया कि खांसी, जुखाम, बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर शीघ्र समीप के स्वास्थ्य संस्थान से सम्पर्क करें। इस सम्बन्ध में किसी भी सहायता के लिए हैल्पलाईन नम्बर 104 तथा दूरभाष नम्बर 221234 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

===============================

सोलन -दिनांक 22.05.2020
आवश्यक आदेश

जिला दण्डाधिकारी सोलन के.सी. चमन ने चिकित्सा व्यवसायियों, नर्सों, पैरा मेडिकल कर्मियों, स्वच्छता कर्मियों एवं रोगी वाहनों के निर्बाधित अन्तरराज्यीय एवं राज्य के भीतर आवागमन के सम्बन्ध में आदेश दिए हैं कि यह आवागमन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा जारी मानक परिचालन प्रक्रिया के अनुसार होगा।
इन आदेशों के अनुसार उक्त के अन्तरराज्यीय प्रवेश के लिए केवल वन टाईम प्रवेश पत्र जारी किया जाएगा। यह प्रवेश पत्र केवल कार्य पर उपस्थित होने के लिए जारी किया जाएगा। रेड जोन से आने वाले व्यक्तियों के लिए संस्थागत क्वारेनटाईन केन्द्र में रहना अनिवार्य होगा। ग्रीन तथा आॅरेंज जोन से आने वाले व्यक्तियों को होम क्वारेनटाईन में रहना अनिवार्य होगा।
क्वारेनटाईन के चार दिवस पूर्ण होने पर इन व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमण के लिए रक्त नमूने एकत्र किए जाएंगे। रक्त सैम्पल की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप कार्य पर उपस्थिति दी जा सकेगी। रक्त सैम्पल की रिपोर्ट पोजिटिव आने पर सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन सुनिश्चित बनाना होगा।
संस्थागत क्वारेनटाईन की सुविधा सम्बन्धित संस्थान द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी। किसी व्यक्ति के बार-बार स्थान छोड़ने एवं पुनः कार्य पर उपस्थित होने की स्थिति में उपरोक्त प्रक्रिया हर बार अपनाई जाएगी।
यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गए हैं तथा आगामी आदेशों तक प्रभावी रहेंगे।

=============================

भूतपूर्व सैनिकों की समस्याओं के समाधान के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी
धर्मशाला, 22 मई - कर्नल के.एस. चहल (सेवानिवृत्त) ने जानकारी देते हुए बताया भूतपूर्व सैनिक और सैनिक विधवाएं जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है और चलने-फिरने में असमर्थ हैं, कोरोना महामारी के मद्देनज़र रखते हुए उनकी समस्याओं का समाधान के लिए हेल्पलाइन दूरभाष नम्बर 01892-223279 किया है इस पर नंबर पर कॉल करके साठ वर्ष से उपर के भूतपूर्व सैनिक एवं सैनिक विधवाएं अपनी समस्याओं को लेकर संपर्क कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि ज़िला कांगड़ा के 522 भूतपूर्व सैनिकों और सैनिक विधवाओं को आर्थिक सहायता जोकि नोन पैंशनर को दी जाती है, का 71,11,109 रुपए की राशि का भुगतान 31 मार्च, 2020 तक कर दिया गया है।
उन्होंने बताया कि ज़िला कांगड़ा के सभी पूर्व सैनिकों, विधवाओं व उनके आश्रितों के लिए केन्द्रीय सैनिक बोर्ड द्वारा दी जाने वाली आर्थिक सहायता जो हवलदार रैंक तक लागू है, के लिए शैक्षणिक सत्र 2019-20 के पहली से नवमीं कक्षा तथा जमा एक कक्षा के लिए 30 सितम्बर, 2020 और कक्षा दसवीं व जमा दो कक्षा के लाभार्थी 30 अक्तूबर एवं स्नातक के 30 नवम्बर, 2020 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि अधिक जानकारी के लिए कार्यालय दूरभाष नम्बर 01892-223279 पर सम्पर्क करें।

=============================

रक्कड़ क्वारंटीन केंद्र में ठहराए दिल्ली से आए 39 लोग

ढलियारा क्वारंटीन केंद्रों को किया सैनिटाईज

देहरा 22 मई: एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि राजकीय महाविद्यालय रक्कड़ में बने क्वारंटीन सेंटर में कल रात अन्य 39 लोगों को रखा गया है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि यह सब लोग बस के माध्यम से दिल्ली से यहां पहुंचे हैं और पहुंचते ही इन्हें रक्कड़ में संस्थागत क्वारंटीन केंद्र में रखा गया है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त सभी क्वारंटीन केंद्रों में सैनिटेशन और साफ-सफाई का पूरा ध्यान द्वारा रखा जा रहा है। जिसके तहत राजकीय महाविद्यालय ढलियारा और राधा स्वामी सतसंग भवन ढलियारा के पूरे भवन और परिसर को अग्निशमन विभाग द्वारा पूर्ण रूप से सैनिटाईज करवाया गया है।
धनबीर ठाकुर ने बताया कि रिर्पाट सामान्य आने के बाद जिन लोगों को घर भेजा जा रहा है, उन्हें प्रशासन द्वारा होम क्वारंटीन में रहने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि घर जाने के बाद भी इन लोगों को 28 दिन की आवश्यक क्वारंटीन अवधि को पूरा करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी और उन्हें पुनः संस्थागत क्वारंटीन में भेज दिया जाएगा। आस-पास के क्षेत्रों में कोरोना के बढ़ते केसों के बाद उन्होंने उपमंडल की जनता को और अधिक सजग रहने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि बढ़ते केसों से जनता को किसी भी प्रकार से डरने की आवश्यता नहीं है, लेकिन सबको अब और अधिक सजगता से कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में प्रशासन के साथ-साथ जनता की जिम्मेवार भी बढ़ जाती है, अतः उपमंडल के सभी लोग नियमों का पालन करें और हर प्रकार से सावधानी बरतें।

=================================

आपदा से क्षतिग्रस्त हुए मकानों के निर्माण को 2 करोड़ तीस लाख का अनुदान
जिला कांगड़ा में 115 लोग होंगें लाभांवित
धर्मशाला, - मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत विभिन्न विकास खण्डों में गत वर्ष प्राकृतिक आपदा से क्षतिग्रस्त हुए 115 मकानों के पुनर्निमाण के लिए 2 करोड तीस लाख की राशि अनुदान के रूप में प्रदान की जाएगी। यह जानकारी देते हुए एडीसी राघव शर्मा ने बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य निर्धन परिवारों के गृह निर्माण तथा प्राकृतिक आपदा जैसे वर्फ, बारिश, बाढ़, बादल फटने, आसमानी बिजली गिरने, आग व भूकम्प इत्यादि से क्षतिग्रस्त मकानों के पुनः निर्माण के लिए सहायता प्रदान करना है।
उन्होंने बताया कि ज़िला कांगड़ा में इस योजना के तहत विकास खण्ड नूरपुर के 45, विकास खण्ड इंदौरा के आठ, विकास खण्ड नगरोटा-बगवां के 9, विकास खण्ड सुलह के भेडू महादेव के 6, विकास खण्ड भवारना के 3, विकास खण्ड देहरा के 13, विकास खण्ड पंचरूखी के 7, विकास खण्ड फतेहपुर के 7 व विकास खण्ड प्रागपुर के 17 लाभार्थियों को इसका लाभ सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारियों के माध्यम से शीघ्र दिया जा रहा है।
अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए ज़िला कांगड़ा के विभिन्न विकस खण्डों के 221 लाभार्थियों का चयन किया गया है जिसमें विकास खण्ड बैजनाथ के 37, विकास खण्ड भवारना के 11, विकास खण्ड देहरा के 17, विकास खण्ड धर्मशाला के 5, विकास खण्ड फतेहपुर के 24, विकास खण्ड इंदौरा के 11, विकास खण्ड कांगड़ा के 46, विकास खण्ड लंबागांव के 6, विकास खण्ड नगरोटा-बगवां के 21, विकास खण्ड नगरोटा सूरियां के 30 व विकास खण्ड प्रागपुर के 13 लाभार्थी शामिल है। उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत गृह निर्माण के लिए एक लाख 50 हजार रुपए की अनुदान राशि प्रति लाभार्थी को सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारियों के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाएगी तथा इन सभी मकानों का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा।
श्री राघव शर्मा ने स्थानीय जनता से अपील करते हुए कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से बचाव के लिए ज़िला प्रशासन तथा स्थानीय प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए सहयोग करें तथा सभी निर्माण कार्यों के निष्पादन में सामाजिक दूरी का बनाए रखें ताकि इस आपदा से बचा जा सके।

=====================================

कोरोना संक्रमण के खिलाफ डटे स्वच्छता योद्धा
धर्मशाला, 22 मई: कोरोना के खिलाफ जंग में चिकित्सा विभाग, पुलिस विभाग तथा अन्य सभी विभागों के अधिकारी व कर्मचारी योद्धा की तरह अपनी-अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं। इनमें से कुछ ऐसे योद्धा भी हैं जो प्रतिदिन हमारी नजरों के सामने से गुजरते हैं। वे परिश्रम तो कठोर करते है, लेकिन सुर्खियों में कम ही रहते है। इन्हें न खाने की चिंता होती है और न ही घर जाने का कोई समय है। परन्तु यह सब अपनी परेशानी भूलाकर शहर को स्वच्छ व सुन्दर रखते हैं।
जी हां, हम बात कर रहे हैं सफाई कर्मचारियों की। आपदा की इस घड़ी में शहर की हर गली व मोहल्ले को सैनिटाईज व साफ रखना इनकी जिम्मेदारी है, जिसका ये बखूबी निर्वहन भी कर रहे हैं। यही कारण है कि लोगों के बीच इन दिनों अभिनेता की तरह प्रसंशा बटोर रहे हैं, जो सही मायने में बेहतर कार्य कर रहे हैं। इन्हीं में से सुमित देवी, प्रेम चन्द, विनय, संजय कुमार, रजनी व सोनिका देवी, सुदेश, साधना देवी से बात की गई, तो इनका कहना है कि संकट की इस घड़ी में वे देश व समाज को अपनी ओर से सर्वोत्तम सेवा दे रहे हैं। ऐसे वक्त में उनकी जिम्मेदारी और अधिक बढ़ गई है। अगर, सफाई से कोरोना का संकट टलेगा तो हमें बहुत खुशी होगी।
‘‘सलाम है इन योद्धाओं के जज्बे को’’ शहर को स्वच्छ रखने में सफाई कर्मचारियों अहम के योगदान को कम नहीं आंका जा सकता है। विपरित परिस्थितियों में भी ये योद्धा कर्तव्य का निर्वहन में पीछे नहीं हैं। समाज के प्रति इनकी सेवाएं सराहनीय हैं।
लॉकडाउन में जहां लोग अपने घरों में हैं, वहीं धर्मशाला नगर निगम के सफाई कर्मचारी शहर को साफ-सुथरा करके कोरोना वायरस के खतरे को कम करने में जी जान से जुटे हैं। ये सफाई कर्मचारी जनता के लिए खुद की परवाह किए बिना मुस्तैद होकर अपनी डियूटी का निर्वाह कर रहे हैं। कोरोना वायरस को मात देने के लिए ये ‘सफाई के सिपाही’ सच्ची सेवा कर रहे हैं। एक तरह से सीधी जंग लड़ रहे हैं। सुबह-शाम सड़कों, नालियों और कूड़ेदानों को साफ करने वाले इन सफाई कर्मियों के जज्बे को शहरवासी सलाम कर रहे हैं।
कोरोना वायरस के बीच जोखिम लेते हुए नगर निगम के सफाई कर्मचारी अपने काम को अंजाम दे रहे हैं। नगर निगम धर्मशाला के 17 वार्डों में इस समय करीब 61 स्थाई और अस्थाई कर्मचारी शहर में सफाई अभियान और सेनेटाईजर के छिड़काव में लगे हैं। सड़कों के अलावा अस्पताल, सार्वजनिक स्थलों व सरकारी कार्यालयों को भी सेनेटाईज किया जा रहा है। इसके अलावा ठेकेदार के माध्यम से भी ये कर्मी काम कर रहे हैं। घर-घर से कूड़ा उठाने के लिए श्री गरूना एमजीटी के 117, विशाल प्रोटेक्शन फोर्स के 36 तथा एक्सप्रैसो मुम्बई के 70 कर्मचारी भी लगे हैं। यह भी शहर को साफ सुथरा रखने में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। सड़कों पर फैले कचरे ही नहीं बल्कि हर घर से लाउड स्पीकर के माध्यम से पुकार कर कूड़ा उठाने में भी ये पीछे नहीं हैं।
नगर निगम के आयुक्त प्रदीप ठाकुर कहते हैं कि कोरोना के खतरे को कम करने के लिए युद्धस्तर पर सफाई अभियान चल रहा है। सफाई कर्मचारी सुबह से शाम तक सफाई अभियान को सफल बनाने में अपनी अहम भूमिका अदा कर रहे हैं। सफाई कर्मचारियों को पर्याप्त मास्क, दस्ताने, जूते जैसी सुरक्षा सामग्री उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने लोगों से भी अपने स्तर पर साफ-सफाई रखने का आग्रह किया है।

===================================

संस्थागत क्वारंटीन केंद्रों में नागरिकों के ठहरने के पुख्ता इंतजाम: डीसी
डीसी-एसपी ने चक्की बैंक में लिया व्यवस्थाओं का जायजा
पठानकोट के अधिकारियों तथा रेलवे के अधिकारियों से भी की मीटिंग
धर्मशाला, 22 मई। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि बाहरी राज्यों से ट्रेन में आने वाले नागरिकों के मेडिकल चेकअप तथा संस्थागत क्वारंटीन केंद्रों में ठहराने के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।
उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने शुक्रवार को चक्की बैंक पठानकोट केंट रेलवे स्टेशन से नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन सेंटर तक पहुंचाने के व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया तथा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए गए तथा पठानकोट के डीएसपी, एसडीएम तथा रेलवे के अधिकारियों के साथ मीटिंग भी की गई। इस दौरान पुलिस अधीक्षक विमुक्त रंजन, एडीएम मस्त राम, डीएसपी डा साहिल अरोड़ा तथा एसडीएम सुरेंद्र ठाकुर सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि पठानकोट कैंट रेलवे स्टेशन से एचआरटीसी की बसों के माध्यम से नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में पहुंचाया जाएगा, क्वारंटीन सेंटर में सभी नागरिकों के सेंपल भी लिए जाएंगे। उपायुक्त ने कहा कि सभी क्वारंटीन सेंटर्स को नियमित तौर पर सेनेटाईज भी किया जा रहा है। उपायुक्त ने कहा कि हिमाचल पर्यटन निगम के होटलों में भी पेड क्वांरटीन की व्यवस्था की गई है।
उन्होंने कहा कि बाहर से आए नागरिक के पास अलग मकान, शौचालय इत्यादि की व्यवस्था हो तो उसे भी वहां पर प्रोटोकॉल की अनुपालना करते हुए स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में क्वारंटीन करने का प्रावधान भी किया गया। उपायुक्त ने कहा कि बच्चों, गर्भवती महिलाओं एवं बुर्जुगों को स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में होम क्वारंटीन में रखने की व्यवस्था भी की गई। उपायुक्त ने कहा कि बाहर से आने वाले सभी नागरिकों को सामाजिक दूरी की अनुपालना के साथ ही क्वांरटीन केंद्रों तक पहुंचाने के दिशा निर्देश भी दिए गए हैं।
कर्फ्यू नियमों का उल्लंघन करने पर चार के खिलाफ एफआईआर
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कर्फ्यू के दौरान नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। शुक्रवार को मंगरेला में किरयाने की दुकान कर्फ्यू में खोलने तथा जयसिंहपुर बाजार में रेहड़ी लगाने वाले के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है इसी तरह से नौहरा बैजनाथ तथा नुरपुर में बाहरी राज्य से बिना अनुमति के पहुंचे दो लोगों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला में कर्फ्यू में ढील का समय प्रातः सात से दोपहर बजे तक का है तथा इसके समयावधि के अतिरिक्त दुकानें खोलने की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि होम क्वारंटीन किए गए लोगों को भी घरों में ही रहना सुनिश्चित करना होगा अन्यथा उनके खिलाफ भी आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
कोविड केयर सेंटर से चार नागरिकों को किया डिस्चार्ज
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कोविड केयर सेंटर बैजनाथ में रखे गए लोगों में से चार के सेंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है जिसमें पपरोला का एक, पंचरूखी का एक तथा दो कांगड़ा उपमंडल के नागरिक शामिल हैं इन्हें शुक्रवार को डिस्चार्ज कर दिया गया है तथा सात दिन तक होम क्वारंटीन में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं।

========================================

थुरल क्षेत्र के एक नागरिक का सेंपल पॉजिटिव

बैजनाथ कोविड केयर सेंटर में किया शिफ्ट
धर्मशाला, 22 मई: उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि शुक्रवार को थुरल के कोउना एक नागरिक का कोविड-19 सेंपल पॉजिटिव आया है तथा उसे कोविड केयर सेंटर बैजनाथ के लिए शिफ्ट कर दिया है उक्त नागरिक मुंबई से टैक्सी के माध्यम से 18 मई को पहुंचा था।
उपायुक्त ने लोगों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सभी नागरिक अपने ही घरों में रहें तथा बहुत आवश्यक हो तो ही अपने घरों से निकलें। उन्होंनेे कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिये जरूरी है कि प्रशासन और विशेषज्ञों की सलाह का पालन करें। उन्होंने कहा कि बार-बार हाथ धोने, अपने चेहरे को न छूने और सैनिटाईजर के प्रयोग जैसी आम सावधानियों को बरतते हुए, इस संक्रमण से बचा जा सकता है। उन्होंने लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करने, घर में बुजुर्गों का ध्यान रखने तथा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा संक्रमण रोकने के लिए निर्देशित आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप डाउनलोड करने का भी आग्रह किया है।
उपायुक्त ने कहा कि सभी नागरिकों को स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की अनुपालना करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उनके गांव में या परिवार में बाहरी क्षेत्र से कोई भी व्यक्ति आया हो तो उसके बारे में तुरंत प्रशासन को सूचित करें ताकि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचने वाले इस कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।
..