सोलन जिला में धारा 144 के तहत जारी आदेशों में आवश्यक संशोधन
अब कफ्र्यू ढील का समय प्रातः 08.00 बजे से 11.00 बजे तक
सोलन-दिनांक 26.03.2020-जिला दण्डाधिकारी सोलन के.सी. चमन ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के खतरे के दृष्टिगत दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अन्तर्गत निहित शक्तियों के तहत आज जारी अपने आदेशों में आवश्यक संशोधन किए हैं।

इन संशोधित आदेशों के अनुसार किराना, दूध, बै्रड, फल, सब्जी, मीट, मछली, अन्य बिना पके खाद्य पदार्थ तथा पशु चारा एवं कीटनाशक का विक्रय कर रही दुकानें अब प्रातः 08ः00 बजे से दिन में 11.00 बजे तक खुली रहेंगी ताकि लोग इस अवधि में आवश्यक सामान क्रय कर सकेें। एपीएमसी की सोलन तथा नालागढ़ स्थित सब्जी मंडियां अब प्रातः 07.00 बजे से 11.00 बजे तक कार्य करेंगी।
इस अवधि में लोग केवल अपने आवास से आवश्यक खरीददारी करने या आवश्यक सेवाओं तक एवं वापिस आवास ही आ-जा पाएंगे। एक परिवार अथवा आवास से एक ही व्यक्ति को समीम की दुकान से आवश्यक वस्तुएं क्रय करने की अनुमति होगी। वाहनों का प्रयोग नहीं किया जाएगा। इस अवधि में सभी को ‘सोशल डिस्टैन्सिग’ प्रक्रिया का पालन करना होगा।
इन आदेशों के अनुसार मदिरा विक्रय करने वाली दुकानें बन्द रहेंगी।
इस सम्बन्ध में शेष शर्तें पूर्व में जारी आदेशों के अनुसार ही रहेंगी।
यह आदेश 27 मार्च, 2020 की सांय 05.00 बजे से प्रभावी हो जाएंगे।

=====================================

सोलन-दिनांक 26.03.2020

जन सुविधा के लिए सोलन में एक और हैल्पलाईन नम्बर जारी
मिनी सचिवालय सोलन स्थित नियन्त्रण कक्ष में कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण जिला में घोषित कफ्र्यू के दृष्टिगत जन सुविधा के लिए एक और हैल्पलाईन नम्बर 01792-220077 जारी कया गया है। यह जानकारी आज यहां सहायक आयुक्त सोलन भानु गुप्ता ने दी।
उन्होंने कहा कि कफ्र्यू के सम्बन्ध में 24X7 हैल्पलाईन पर सोलन जिला के निवासी 01792-220077 एवं 01792-297707 पर सम्पर्क कर सकते हैं।
===============================================================
धर्मशाला, 27 मार्च
कोरोना वायरस के बचाव को लेकर महत्वपूर्ण कदम
खाद्य वस्तुओं एवं उचित मूल्य की दुकानों तथा दवाइयों के खुलने का समय निर्धारित किया गया है?
- हिमाचल सरकार के दिशा निर्देशों के मुताबिक अब कर्फ्यू में प्रातः आठ बजे से लेकर 11 बजे तक छूट दी गई है। जिसके चलते कांगड़ा जिला में सभी खाद्य वस्तुओें एवं दवाइयों की दुकानों को सुबह आठ बजे से दोपहर 11 बजे तक खोलने का समय निर्धारित किया गया है तथा इन दुकानों के बाहर ग्राहकों के खड़े होने के लिए एक मीटर की दूरी चिह्न्ति करना जरूरी है इसके अलावा सेनिटाइजर तथा हैंडवॉश का प्रावधान करना जरूरी है और प्रशासन द्वारा अपील भी की गई है कि दुकानों में भीड़ एकत्रित नहीं होने दें।
मैकलोडगंज में सब्जियां, दूध, ब्रेड आवश्यक खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाने के लिए क्या निर्देश हैं ?
-जिला प्रशासन द्वारा मैकलोडगंज में आवश्यक खाद्य वस्तुओं की आवश्यक आपूर्ति कर दी गई है तथा अब मैकलोडगंज में लोगों को खाद्य वस्तुएं तथा सब्जियां इत्यादि नियमित तौर पर उपलब्ध रहेंगी।
कांगड़ा जिला में सब्जियां तथा फलों की सुचारू आपूर्ति के लिए क्या कदम उठाए गए हैं।
कांगड़ा जिला में सब्जियों तथा फलों की नियमित सप्लाई करने के लिए एपीएमसी के माध्यम से होशियारपुर तथा गुरदासपुर सब्जी मंडियों के साथ संपर्क हो चुका है तथा अब जिला के सभी क्षेत्रों में नियमित तौर पर सब्जियां उपलब्ध रहेंगी। इसके साथ ही शहरी क्षेत्रों में होम डिलीवरी की व्यवस्था भी की जा रही है।
झुग्गी झोंपड़ियों तथा निर्धन लोगों को राशन उपलब्ध करवाने के लिए प्रशासन ने क्या कदम उठाए हैं।
जिला प्रशासन की ओर से कांगड़ा जिला में पंद्रह सौ गरीब परिवारों को चिह्न्ति किया है तथा इन परिवारों को उपमंडल प्रशासन के माध्यम से राशन वितरित किया जा रहा है तथा स्वैच्छिक संस्थाओं से भी आग्रह रहेगा कि झुग्गी झोंपडियों में राशन इत्यादि वितरण के लिए नहीं जाएं क्योंकि प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सबको अपने अपने घरों में रहने की सलाह दी है। अगर स्वैच्छिक संस्थाएं झुग्गी झोंपड़ियों में जाएंगे तो सामाजिक दूरी का नियम भी टूट सकता है इसलिए सभी स्वैच्छिक संस्थाओं को अपने स्तर पर झुग्गी झोंपड़ियों इत्यादि में राशन वितरण नहीं करने के लिए कहा गया है।
कांगड़ा के बालाजी हॉस्पीटल को लेकर वर्तमान स्थिति के बारे में स्पष्ट किया जाए।
बालाजी हास्पीटल में स्थितियां अब सामान्य हैं तथा जल्द ही हास्पीटल को ओपीडी के लिए खोलने की अनुमति दे दी जाएगी।
क्या कर्फ्यू के दौरान स्वैच्छिक संस्थाएं मानवता के कार्य से जुड़ सकती हैं ।
जिला प्रशासन द्वारा स्वैच्छिक संस्थाओं से आग्रह किया है कि वह बिना अनुमति के किसी भी तरह के कार्य नहीं करें जब प्रशासन को आवश्यकता होगी तो स्वेच्छिक संस्थाओें से संपर्क कर उनकी सहभागिता सुनिश्चित की जाएगी।
कोरोना रिलीफ फंड में कहां दान दिया जा सकता है तथा क्या हिदायतें हैं।
कोरोना रिलीफ फंड के लिए पीएम तथा सीएम राहत कोष तथा कांगड़ा जिला की बेवसाइट तथा फेसबुक पर प्रदर्शित खातों में ही ई-फंडिंग के माध्यम से ही दान करने की सुविधा है किसी भी तरह कैश नहीं लिया जाएगा।
लवारिश पशुओं के खाने तथा गौशालाओं में चारे इत्यादि की क्या व्यवस्था है।
जिला प्रशासन द्वारा इस के लिए पूरा प्लान तैयार किया गया है तथा इसमें पशु पालन विभाग के माध्यम से किया्रन्वित किया जा रहा है। इसमें नोडल अधिकारी के तौर पर उपनिदेशक पशुपालन विभाग डा संजीव धीमान मोबाइल नंबर 94180 52747 से भी संपर्क किया जा सकता है जबकि एसी टू डीसी लीव रिजर्व संदीप सूद को उनके मोबाइल फोन नम्बर 9418062175 पर सम्पर्क किया जा सकता है ।
जीवन रक्षक दवाईयां तथा महत्वपूर्ण दवाइयों की सुचारू सप्लाई के लिए जिला प्रशासन ने क्या कदम उठाये हैं ?
जिला दंडाधिकारी द्वारा आदेश जारी कर जिला के विभिन्न क्षेत्रों के दवाई विक्रेताओं का व्हॉटसऐप गु्रप बनाया गया है। ये दवाई विक्रेता विशेष परिस्थितियों में आवश्यक दवाइयों की होम डिलीवरी भी सुनिश्चित करेंगे तथा जिला प्रशासन द्वारा उत्तर भारत से दवाईयां लाने के लिए इन विक्रेताओं को वाहन ले जाने की अनुमति भी प्रदान की जाएगी।
जिला में 27 मार्च को संदिग्ध कोरोना के कितने सेंपलों की रिपोर्ट प्राप्त हुई है।
कांगड़ा जिला में 27 मार्च को प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार संदिग्ध कोरोना के चार मामलों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। जबकि 13 संदिग्ध मामलों के सेंपल लिए गए हैं
अपील: उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए कांगड़ा जिला में कर्फ्यू लगाया गया है तथा इस दौरान कर्फ्यू पास के लिए किसी भी तरह का बाहरी दबाव प्रशासन पर नहीं बनाया जाए केवल मात्र आपात स्थितियों में अस्पताल इत्यादि जाने पर ही एसडीएम के माध्यम से कर्फ्यू पास मिलेगी तथा बिना किसी जरूरत के लिए कर्फ्यू पास के लिए दबाव बनाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उपायुक्त ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए अपने घरों में ही रहें तथा बहुत जरूरी हो तो ही घर से बाहर निकलें जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कर्फ्यू के सभी आवश्यक दिशा निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करें। घर में रहें सुरक्षित रहें