धर्मशाला, 13 सितंबर - शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सुधीर शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकारी पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। पंचायती राज संस्थाओं को अनेक वित्तिय शक्तियां प्रदान की गई हैं। प्रदेश में पंचायती राज संस्थाओं को कम्पयूटरीकृत किया जा रहा है तथा इन संस्थाओं में आवश्यक कर्मचारियों की उपलब्धता सुनिश्चित बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि पंचायती राज विभाग के लिये चालू वित्त वर्ष में 1627 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। वे आज 8 लाख 40 हजार रूपये की लागत से निर्मित होने वाले ग्राम पंचायत भवन जूहल की आधारशिला रखने के उपरांत बोल रहे थे।
    सुधीर ने कहा कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के कुशल नेतृत्व में सरकार प्रदेश के हर वर्ग के उत्थान और विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा सरकार द्वारा गरीब लोगों के कल्याणार्थ करोड़ो रूपये की कल्याणकारी योजनाएं चलाई गई हैं। जिसका लाभ लोगों को प्राप्त हो रहा है।
    उन्होंने कहा कि धर्मशाला विधान सभा क्षेत्र में उन्होंने लोगों से जो वायदे किये थे वह पूरे किये गये हैं। उन्हांेने कहा कि धर्मशाला विधान सभा क्षेत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य और बिजली क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य किया गया है।
सुधीर ने सुनी जन-समस्याएं
    इस दौरान सुधीर शर्मा ने उनसे मिलने आए लोगों की समस्यायंे सुनीं तथा अधिकांश का मौके पर ही निपटारा कर दिया तथा शेष समस्याओं के समाधान हेतू सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी आम जनता की समस्याओं का समयबद्ध निपटारा सुनिश्चित करें ताकि आम जनता को परेशानी का सामना न करना पड़े।
इस अवसर पर उप-महापौर देवेन्द्र जग्गी, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राकेश धीमान, खण्ड विकास अधिकारी के.सी. ठाकुर, कनिष्ट अभियंता अक्षय अत्री, जूहल की प्रधान सुनीता देवी, टऊ (इन्द्रुनाग) के प्रधान हंस राज, विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित स्थानीय लोग मौजूद थे।