मंडी, 28 नवम्बर : मंडी के वीर सपूत महान स्वतंत्रता सेनानी भाई हिरदा राम की जयंती पर कृतज्ञ मंडीवासियों ने उनकी स्मृति को नमन कर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस उपलक्ष्य पर भाई हिरदा राम के परिवार के सदस्यों के साथ साथ मंडी शहर के प्रबुद्ध लोगों ने मंडी की इंदिरा मार्केट में स्थित भाई हिरदा राम स्मारक में उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

इस मौके भाई हिरदा राम के पौत्र शमशेर सिंह मन्हास व परिवार के अन्य सदस्य, नगर परिषद मंडी की अध्यक्ष सुमन ठाकुर, वीरेंद्र भट्ट सहित मंडीवासियों ने उनकी प्रतिमा पर फूल माला अर्पित कर स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान को याद किया।

बता दें, क्रांतिकारी भाई हिरदा राम ने देश की स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों की अनेक यातनाएं हंसते हंसते सहीं। मंडी में गदर पार्टी की स्थापना और अंग्रजों के खिलाफ क्रांति का बिगुल बजाने में उनका योगदान अविस्मरणीय है।

शमशेर सिंह मन्हास ने बताया कि भाई हिरदा राम कालापानी में आजीवन कारावास की सजा भुगतते हुए स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के साथ जेल में रहे। एक बार उन्होंने देखा कि हथकड़ी और बेड़ियों में जकड़े वीर सावरकर को कोड़ों से पीटा जा रहे है, उन्होंने इसका विरोध किया। इस पर उन्हें 40 दिन तक 5 फीट के एक लोहे के पिंजरे में बन्द कर दिया गया।
28 नवंबर 1885 को मंडी में जन्मे भाई हिरदा राम का 21 अगस्त, 1965 को देहांत हुआ था।