15 दिसम्बर तक चलेगा मतदाता सूचियों का पुनरीक्षण कार्यः उपायुक्त
चम्बाः 25 नवम्बर, जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त चम्बा डी0 सी0 राणा ने जिला चम्बा के समस्त जनसाधारण से अपील करते हुए कहा कि 15 दिसम्बर, 2020 तक फोटोयुक्त मतदाता सूचियों में अपने नाम की पुष्टि कर लें। इन सूचियों के पुनरीक्षण के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा 16 नवम्बर, 2020 से 15 दिसम्बर, 2020 तक विशेष कार्यक्रम चलाया जा रहा है।
इसी विषय पर आज मुख्य निर्वाचन अधिकारी, हिमाचल प्रदेश द्वारा सभी मण्डलायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों (उपायुक्त) से वीडियो काॅन्फरैंस के माध्यम से चर्चा की गई। उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि जिन मतदाताओं की आयु 01 जनवरी, 2020 तक 18 वर्ष या इससे अधिक हो चुकी है उनका नाम मतदाता सूची में दर्ज करवाना सुनिशित करें। उपायुक्त डी0 सी0 राणा ने जिला चम्बा के लोगों से आह्वान किया कि वह सम्बन्धित मतदान केन्द्र, निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी तथा सहायक निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों के कार्यालय में अपना नाम मतदाता सूची में 15 दिसम्बर, 2020 से पहले दर्ज करवा लें। इसके अतिरिक्त अपात्र मतदाता जिनका नाम मतदाता सूची में दर्ज है उनके नाम को मतदाता सूची से हटाया जाये। जिन मतदाताओं के पहले से दर्ज नामों में किसी प्रकार की त्रुटि हो वह भी संशोधन से सम्बन्धित फार्म भरकर उसे ठीक करवा लें।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि जिन मतदान केन्द्रों में कम मतदाता पंजीकृत हुए हैं उन मतदान केन्द्रों में विशेष अभियान चलाकर लोगों को प्रेरित करें ताकि अधिक से अधिक मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज करवायें।

==============================

27 नवम्बर को बिजली बन्द
धर्मशाला 25 नवम्बर: विद्युत उपमंडल सिद्धपुर के सहायक अभियंता कर्म चंद भारती ने जानकारी देते हुए बताया कि 11 केवी बरवाला फीडर के आवश्यक रखरखाब कार्य के चलते 27 नवम्बर, 2020 (शुक्रवार) को प्रातः 9.30 बजे से सांय 5.30 बजे तक इस फीडर के तहत आने वाले क्षेत्र फतेहपुर, सिद्धपुर, सिद्धबाड़ी, बाग्नी, तपोवन, रंसा, छैंटी, बरवाला और झिओल आदि गांवों में बिजली बंद रहेगी।
मौसम खराब होने पर यह कार्य अगले दिन किया जाएगा। उन्होंने लोगों से सहयोग की अपील की है।

=================================

सोलन -दिनांक 25.11.2020
किसानों से रबी फसलों का बीमा करवाने का आग्रह

सोलन जिला में पुनरोत्थान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना तथा पुनरोत्थान मौसम आधारित फसल बीमा योजना के तहत विभिन्न रबी फसलों का बीमा किया जा रहा है। यह जानकारी कृषि उपनिदेशक सोलन डाॅ. राजेश कौशिक ने आज यहां दी।
राजेश कौशिक ने कहा कि पुनरोत्थान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम में गेहूं व जौ की फसलों को शामिल किया गया है। इसके अंतर्गत बीमा करवाने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2020 निर्धारित की गई है।
उन्होंने कहा कि पुनरोत्थान मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अन्तर्गत रबी मौसम में टमाटर व जिला के धर्मपुर विकास खंड के लिए शिमला मिर्च की फसल को शामिल किया गया है। इस योजना के तहत बीमा करवाने की अंतिम तिथि 28 फरवरी 2020 निर्धारित की गई है।
कृषि उपनिदेशक ने कहा कि किसान इन फसलों का बीमा अपने नजदीकी लोकमित्र केंद्रों के माध्यम से करवा सकते हैं। किसान अपने दस्तावेज जैसे जमाबंदी, आधार कार्ड, बैंक पासबुक, बिजाई प्रमाण पत्र इत्यादि लेकर लोकमित्र केंद्रों में जाएं अथवा आॅनलाइन पोर्टल पर आवेदन करें। उन्होंने कहा कि ऋणधारक किसान यदि इन योजनाओं का लाभ नहीं लेना चाहते तो वह संबंधित बैंक को इस बारे अंतिम तिथि से 7 दिन पूर्व अवश्य सूचित करें अन्यथा उनकी फसल का बीमा स्वतः हो जाएगा।
राजेश कौशिक ने कहा कि गेहूं की फसल के लिए कुल बीमित राशि 2400 रुपए तथा जौ की फसल के लिए बीमित राशि 2000 रुपए प्रति बीघा निर्धारित की गई है। किसानों को गेहूं की फसल के लिए 36 रुपए प्रति बीघा तथा जौ की फसल के लिए 30 रुपए प्रति बीघा प्रीमियम राशि अदा करनी होगी। टमाटर की फसल के लिए कुल बीमित राशि 8000 रुपए प्रति बीघा तथा शिमला मिर्च की फसल के लिए कुल बीमित राशि 3200 रुपए प्रति बीघा निर्धारित की गई है। किसानों को टमाटर की फसल के लिए 400 रुपए प्रति बीघा तथा शिमला मिर्च की फसल के लिए 160 रुपए प्रति बीघा प्रीमियम राशि अदा करनी होगी।
कृषि उपनिदेशक ने कहा कि पुनरोत्थान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना व पुनरोत्थान मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत कम वर्षा, सूखा, बाढ़, सैलाब, भूमि कटाव, ओलावृष्टि और फसल कटाई के उपरांत 02 सप्ताह तक होने वाले नुकसान तथा स्थानीय आपदाओं को कवर किया जाता है।
उन्होंने जिला के किसानांे से आग्रह किया है कि इन योजनाओं के अन्तर्गत अपनी फसलों का बीमा करवाएं ताकि फसलों का नुकसान होने पर बीमा कंपनियों से मुआवजा मिल सके। उन्होंने कहा कि बीमा करवाने के लिए एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी को चयनित किया गया है।
इस सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी कृषि अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।
.0.