चंडीगढ़, 25 मई - शनिवार को चंडीगढ़ की आवाज पार्टी के कार्यालय में एक आपात बैठक बुलाई गयी जिसकी अध्यक्षता कैप के प्रदेश अध्यक्ष अविनाश सिंह शर्मा ने की । शर्मा ने कहा कि भाजपा सरकार चुनाव संपन्न होते ही अपना रंग बदलने लगी है | लोकसभा चुनाव से पूर्व भाजपा के द्वारा ठेके पर रखें गये कर्मचारियों को नियमित करने के बात हो रही थी। चुनाव समाप्त होते ही रंग बदल कर कर्मचारियों को निकालने का पत्र जारी होने लगा। चंडीगढ़ की सांसद किरन खेर ने भी ठेके कर्मचारियों को नियमित करने के बात की थी ।

23 मई को हरियाणा के परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, चंडीगढ़ ने पत्र लिखकर ठेके पर रखे सैकड़ों कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने की बात की है | एक तरफ भाजपा के प्रधानमंत्री चुनावी रैलियां में पूरे भारत में घूम-घूम कर नए रोजगार देने की बात करते रहे तो वहीं दूसरे ओर2016 से ठेके पर परिवहन विभाग में काम कर रहे चालक और दूसरे कर्मचारियों की रोजी रोटी से खिलवाड़ कर भूखे मरने पर विवश किया जा रहा है | यह तो हाथी को दिखाने के दांत कुछ और खाने की दांत कुछ और की कहावत सिद्ध हो रही है | उन्होंने कहा की चंडीगढ़ की आवाज पार्टी हरियाणा की आवाज,पंजाब की आवाज एवं चंडीगढ़ की आवाज बनकर किसी के साथ भी ज्यादती बर्दाश्त नहीं करेगी। भाजपा नेताओं को खुली चुनौती है कि गिरगिट के जैसे रंग बदलना बंद करें और किसी के रोज़ी-रोटी के साथ खिलवाड़ न करें अन्यथा चंडीगढ़ की आवाज पार्टी को सड़क पर उतरना होगा । इस बैठक में पार्टी के बंटी सिंह,बॉबी मेहता. राहुल मेहता देवेंद्र सिंह, पंकज सिंह, सुभाष, गुरनाम सिंह, काका सिंह, दीपक, विरेन्द्र शर्मा, निकु खान गौरव कुमार आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे |