उपायुक्त पंकज राय ने विजेताओं को नौकायन स्पर्धाओं के मैडल देकर किया सम्मानित।

बिलासपुर 26 अक्तूबर - जिला बिलासपुर के ऐतिहासिक लुहणु मैदान के साथ गोंविदसागर झील में चार दिवसीय, 31वीं राष्ट्रीय कायकिंग एव कनोइंग प्रतियोगिता 2021 के पहले व दूसरे दिन की विभिन्न नौकायन स्पर्धाओं के मैडल उपायुक्त एवमं आयोजन समिति के अध्यक्ष और राज्य कायकिंग व कनोइंग एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पंकज राय ने विजेताओं को प्रदान किये।
पारितोषिक वितरण समारोह के दौरान लक्ष्मी सांस्कृतिक दल बिलासपुर द्वारा संास्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गये।
इस अवसर पर अखिल भारतीय कायकिंग व कनोइंग एसोसिएशन प्रशांत कुश्वाह, इंड़ियन ओलपिंक के सदस्य बलबीर कुश्वाह, कायकिंग एव कनोइंग एसोसीऐशन के राज्य महासचिव पदम सिंह गुलेरिया, ए0डी0सी0 तौरूल रवीश, सहायक आयुक्त सिद्धार्थ आचार्य,उपमण्डलाधिकारी(ना0) सुभाष गौतम भी उपस्थित थे।

=============================

जननी शिशु सुरक्षा के अंतर्गत सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में मिल रही मुफ्त प्रजनन सुविधाएं- प्रकाश दरोच
बिलासपुर 26 अक्तूबर- कोविड-19 के साथ-साथ स्वस्थ्य विभाग की सभी योजनाओं के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम नवजात शिशुओं को स्वास्थ्य की सुविधाएं न मिलने के कारण मृत्यु की समस्या का निवारण करने के लिए स्वास्थओ एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने (जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम) एक जून 2011 को गर्भवती महिलाओं तथा रूगण नवजात शिशुओं को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए शुरू किया है यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिलासपुर डाॅक्टर प्रकाश दरोच ने देते हए बताया कि इस योजना के अंतर्गत मुफ्त सेवा प्रदान करने पर बल दिया गया है जिसमें गर्भवती महिलाओं तथा एक वर्ष आयु तक के रूगण नवजात शिशुओं को खर्चों से मुक्त रखा गया है। कार्यक्रम शुरू करने का मुख्य उद्देश्य मातृ मुत्यु दर तथा शिशु मृत्यु दर में भी कमी लाना है।
उन्होने बताया कि इस योजना के तहत सभी गर्भवती महिलाओं को राजकीय चिकित्सा संस्थानों में प्रसव कराने पर प्रसव संबंधी पूर्ण व्यय का वहन, प्रसवपूर्व, प्रसव के दौरान व प्रसव पश्चात दवाईयां व अन्य कंज्युमेबल्स निःशुल्क उपलब्ध करवाए जाते है तथा जांच भी निःशुल्क होती है। संस्थागत प्रसव होने पर तीन दिन व सिजेरियन ऑपरेशन होने पर सात दिन निःशुल्क भोजन दिया जाता है। जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत ओपीडी फीस एवं प्रवेश प्रभारों के अलावा अन्य प्रकार के खर्चे करने से मुफ्त रखा गया है और गर्भवती महिलाओं को मुफ्त दवाएं एवं खाद्य, मुफ्त इलाज, जरूरत पड़ने पर मुफ्त खून उपलब्ध करवाया जाता है जिसमें आयरन फॉलिक अम्ल जैसे सप्ली्मेंट भी शामिल हैं। इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं को खून, पेशाब की जांच, अल्ट्रा-सोनोग्राफी आदि अनिवार्य और वांछित जांच भी मुफ्त कराई जाती है।
उन्होने बताया कि निःशुल्क संस्थागत प्रसव, जननी सुरक्षा कार्यक्रम की शुरूआत यह सुनिश्चित करने के लिए की गई है कि प्रत्येक गर्भवती महिला को 42 दिनों तक बिना किसी लागत तथा खर्चे के स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाती है तथा आवश्यकता पड़ने पर निःशुल्क सीजेरियन ऑपरेशन - जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में मुफ्त प्रजनन सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती हैं।
इस योजना के तहत निःशुल्क रेफरल सुविधाएँ, आवश्यक ट्रांसपोर्ट सेवाएँ जिस में गर्भवती महिलाओं को घर से अस्पताल तक प्रसव करवाने के लिए 108 नम्बर तथा प्रसव कराने के बाद अस्पताल से घर तक 102 नम्बर गाडी की व्यवस्था निःशुल्क की जाती है तथा इसी प्रकार की सुविधा सभी बीमार नवजात शिशुओं के लिए भी दी जाती है। इस कार्यक्रम के तहत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों की गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं को योजना का लाभ प्रदान किया जा रहा है। इस कार्यक्रम से मातृ मृत्यु दर (एमएमआर) एवं शिशु मृत्यु दर काफी हद तक कम हुई है, इसमें और सुधार किए जाने की आवश्यकता है जिस के लिए हर गर्भवती महिलाओं को संस्थागत प्रसव करवाना जरूरी है।
उन्होने बताया कि जन्म के 1 वर्ष तक आयु के नवजात शिशुओं को मिलने वाली सुविधाएँ, एक वर्ष आयु तक रूगण नवजात शिशुओं को बिना किसी लागत तथा खर्चे के स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाती है तथा केन्द्र में प्रसव कराने से माता के साथ-साथ शिशु की भी सुरक्षा रहती है। नवजात शिशु हेतु सभी दवाएं और अपेक्षित खाद्य मुफ्त में मुहैया कराया जाता है ।
उन्होंने जनता से अपील की है कि वे इस योजना के बारे में स्थानीय स्वास्थ्य कर्मी व आशा वर्कर से सम्पर्क कर योजना का लाभ उठाएं ताकि जच्चा व बच्चा दोनों सुरक्षित रहें।

=================================

जिला बिलासपुर में 87 हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर कार्य कर रहे हैं:- डाॅ0 प्रकाश दरोच
बिलासपुर 26 अक्तूबर- मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिलासपुर डॉक्टर प्रकाश दडोच ने बताया कि लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं देने के उदेश्य से आयुष्मान भारत के तहत 87 हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर जिला बिलासपुर में कार्य कर रहे हैं, जिनमें 38 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व 49 स्वास्थ्य उप केन्द्रों को हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर बनाया गया है। हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर (पा्रथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों) में डाॅक्टरों की तैनाती होती है और हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर ( स्वास्थ्य उप केन्द्रों) में कम्युनिटी हेल्थ आॅफिसर की तैनाती की गई है । इन सभी हेल्थ एंड वैलनेस सेंटरों में ज्मसम.ब्वदेनसजंजपवद के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान की जा रही हैे। कम्युनिटी हेल्थ आॅफिसर ज्मसम.ब्वदेनसजंजपवद के माध्यम से स्वास्थ्य उप केन्द्रों से नजदीकी हेल्थ एंड वैलनेस केन्द्र (प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र) के डाॅक्टर या फिर श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल काॅलेज नेरचैक जिला मंडी में जिस रोग से मरीज ग्रसित है उसके स्पेषलिस्ट डाॅक्टर को ज्मसम.ब्वदेनसजंजपवद के माध्यम से उस मरीज को बैठे-बैठे ही उपचार उपलब्ध करवाया जाता है।
हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर (प्राथामिक स्वास्थ्य केन्द्रों) में ये सुविधाएं उपलब्ध हैंः-इन केन्द्रों में मातृत्व स्वास्थ्य, शिशु स्वास्थ्य, टीकाकरण, किशोर स्वास्थ्य, डायबिटीज, ब्लड पे्रशर, संचारी रोग प्रबंधन एवं उपचार, गैर संचारी रोग प्रबंधन एवं उपचार एवं परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों आदि की सुविधाएं उपलब्ध हैं।
हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर (उप स्वास्थ्य केन्द्रों) में ये सुविधाएं उपलब्ध हैंः- उप स्वास्थ्य केन्द्रों वाले हेल्थ एंड वैलनेस सेंटरों में मुख्य रुप से दो तरह की स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हैं, इसमें टीकाकरण और मातृत्व स्वास्थ्य की जांच और इलाज सम्मिलित है। इसके अलावा ब्लड पे्रशर व शुगर आदि की जांच भी की जाती हैं।

==================================

27 से 31 अक्तूबर को विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी
बिलासपुर 26 अक्तूबर - सहायक अधिशासी अभियंता विद्युत शमशेर ठाकुर ने बताया कि विद्युत उपमण्डल न0 1 कि अन्तर्गत आने वाले अनुभाग घाघस के 33 के0वी0 सर्किट पर तारे बदलने का कार्य करने के लिए पंचबटी से निहाल तक दिनांक 27 अक्तूबर को लोअर सुंगल, अप्पर संुगल व आसपास के क्षेत्रों तथा 25 के0वी0 संुगल में 28 से 31 अक्तूबर तक प्रतिदिन प्रातः 9 बजे से सांय 6 बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी।
उन्होंने विद्युत उपभोक्ताओं से सहयोग की अपील की है। उन्होंने बताया कि शट्डाउन मौसम की स्थिती पर निर्भर रहेगा।
=====================================

तीसरे दिन की स्पर्धाआंे में पुरूष वर्ग में भारतीय सेना के विषणु रघुनाथ प्रथम।
बिलासपुर 26 अक्तूबर - जिला बिलासपुर के ऐतिहासिक लुहणु मैदान के साथ गोंविदसागर झील में चार दिवसीय, 31वीं राष्ट्रीय कायकिंग एव कनोइंग प्रतियोगिता 2021 के तीसरे दिन विभिन्न नौकायन स्पर्धाएं आयोजित की गई। जिसमें 500 मीटर इवैन्ट सी- 1 के पुरूष वर्ग में भारतीय सेना के विषणु रघुनाथ प्रथम स्थान पर रहे व उडिसा के टौमथीलंगनवा नागेशपम द्वितीय स्थान पर तथा भारतीय पुलिस के ज्ञानेश्वर सिंह तृतीय स्थान पर रहे।
500 मीटर इवैन्ट के-1 के महिला वर्ग में उतराखण्ड की फ. सोनिया देवी प्रथम व मध्यप्रदेश की एल. मीना देवी द्वितीय तथा छतीसगढ़ की कौशल नंदनी ठाकुर ने तृतीय स्थान हासिल किया।
500 मीटर इवैन्ट सी-1 के महिला वर्ग में मध्यप्रदेश की कावेरी दीमार प्रथम व उतरााखण्ड की मीरा दास द्वितीय स्थान पर तथा गुजरात की किरती केवट तृतीय स्थान पर रही।
500 मीटर इवैन्ट के-2 के महिला वर्ग मंे हरियाणा की ज्योति तथा पुजा प्रथम स्थान पर रही मध्यप्रदेश की सुशमा वर्मा तथा टाउम दीमीता देवी द्वितीय स्थान पर रही जबकि केरला की अलीना तथा श्रीलक्ष्मी जय प्रकाश तृतीय स्थान पर रही।
500 मीटर सी-2 महिला श्रेणी में मध्यप्रदेश की कावेरी दीमार व ममीता चंन्देल प्रथम स्थान पर, केरला की अलीना सुनील व अनुशा प्रसाद द्वितीय स्थान तथा उड़ीसा लिचोनबन नेहा देवी व मयांगलमबम इनोचा देवी तृतीय स्थान पर रही।

============================

27 से 31 अक्तूबर को विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी
बिलासपुर 26 अक्तूबर - सहायक अधिशासी अभियंता विद्युत शमशेर ठाकुर ने बताया कि विद्युत उपमण्डल न0 1 कि अन्तर्गत आने वाले अनुभाग घाघस के 33 के0वी0 सर्किट पर तारे बदलने का कार्य करने के लिए पंचबटी से निहाल तक दिनांक 27 अक्तूबर को लोअर सुंगल, अप्पर संुगल व आसपास के क्षेत्रों तथा 25 के0वी0 संुगल में 28 से 31 अक्तूबर तक प्रतिदिन प्रातः 9 बजे से सांय 6 बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी।
उन्होंने विद्युत उपभोक्ताओं से सहयोग की अपील की है। उन्होंने बताया कि शट्डाउन मौसम की स्थिती पर निर्भर रहेगा।