चंडीगढ़, 28 जुलाई। हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों को निर्देश है दिए कि वे इस तरह का सिस्टम तैयार करें जिससे बेरोजगार युवाओं को उनके क्षेत्र में औद्यागिक-कलस्टर की आवश्यकतानुसार कौशल का प्रशिक्षण दिलाकर उनके घर के नजदीक रोजगार उपलब्ध करवाया जा सके, इससे उनके दूर-दराज के क्षेत्र में जाने पर होने वाला खर्च व समय की भी बचत हो सकेगी। डिप्टी सीएम, जिनके पास श्रम एवं रोजगार विभाग का प्रभार भी है, ने बुधवार को यहां रोजगार विभाग के अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता की। उन्होंने रोजगार पोर्टल पर ग्रेडअप के माध्यम से सरकारी नौकरियों के लिए दी जा रही कोचिंग के बारे में भी जानकारी हासिल की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राज्य के सभी सरकारी विभागों से समन्वय स्थापित करके रोजगार पोर्टल पर ऐसा डाटाबेस तैयार करें जिससे वहां खाली पदों व कांट्रेक्ट आधार पर कार्य करने वाले युवाओं की डिटेल्स एकत्रित हो सके। उन्होने कहा कि प्राइवेट उद्योगों की मांग के अनुसार युवाओं को आधुनिक तकनीकी कौशल दिया जाएगा ताकि कौशलयुक्त होने पर उन्हीं उद्योगों में युवाओं की प्लेसमेंट करवाई जा सके।

उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सभी एंप्लाइमेंट-एक्सचेंज्स में नवीन तकनीक से युक्त बेहतरीन करियर काउंसलर भी नियुक्त किए जाने चाहिएं ताकि वे पंजीकृत युवाओं को उनके रोजगार के लिए मार्गदर्शन कर सकें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऐसी संभावनाएं भी तलाशी जाएं जिससे रोजगार पोर्टल पर पंजीकृत बेरोजगार को पोर्टल के माध्यम से ही पलंबर से लेकर हाऊस-मेड तक की पार्ट टाइम नौकरी मिल सके। उन्होंने नौकरियां देने वाली प्राइवेट वेबसाइट्स का निरीक्षण कर उनकी बेहतर आधुनिक तकनीक व कार्यशैली का अध्ययन करने के भी अधिकारियों को निर्देश दिए।