मंडी,03.08.20-मात्र डेढ़ साल की बेटी को परिजनों के हवाले छोड़ मीना शर्मा नेरचौक स्थित मैडिकल कॉलेज में कोविड -19 के मरीजों के इलाज में जुटी हैं। 2017 से नर्सिंग की फील्ड में अपनी सेवाएं दे रहीं मीना शर्मा बल्ह विधानसभा क्षेत्र के रथोहा गांव से संबध रखती हैं और नेरचौक स्थित मैडिकल कॉलेज में स्टाफ नर्स के पद पर कार्यरत हैं। मीना बताती हैं कि वे 29 जुलाई 2020 से मैडिकल कॉलेज नेरचौक में कोरोना वार्ड में सेवाएं दे रहीं है तथा एक सप्ताह तक वहीं पर सेवाएं देंगी। उसके पश्चात क्वारंटाइन के लिए 14 दिन तक रहेंगी। उन्होंने कहा कि वे आजतक एक दिन के लिए भी बेटी से अलग नहीं रही हैं पर अब 21 दिन तक अलग रहना पड़ रहा है यह मां और बेटी दोनो के लिए परीक्षा की घड़ी है। मीना बताती हैं कि उनके पति उनका पूरा सहयोग करते हैं तथा अपनी नौकरी की व्यस्तता के बावजूद अपनी पत्नी की सेवाओं को ज्यादा महत्व देते हैं। उनका कहना है कि अगर जन सेवा करने का जुनून हो तो बड़ी से बड़ी बिमारी से भी डर नहीं लगता क्योंकि हमारा काम ग्रसित हुए लोगों को ठीक करना है ना कि बिमारी से डरना फिर भी पूरी सावधानियां बरती जा रही हैं।