इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन एंड डिजाइनिंग फ्रेशर पार्टी में मचाया धमाल
चंडीगढ़,( सुनीता शास्त्री),01.10.19- रैंप वॉक, डांस परफॉर्मेंस, 60-70 के दशक के गेटअप में थिरकते स्टूडेंट्स और स्टूडेंट्स का शोर शराबा ये सब कुछ देखने को मिला इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन एंड डिजाइनिंग की फ्रेशर पार्टी- द फैशन एरा में। यहाँ पर संस्थान के स्टूडेंट्स और मैनेजमेंट ने खुशी मस्ती और हंसी के ठहाकों के खूब एन्जॉय किया । इस फ्रेशर पार्टी के आयोजन का मकसद नए स्टूडेंट्स को संस्थान परिवार का एक अहम हिस्सा होने का एहसास कराना। इस अवसर पर 60-70 के दशक के गेटअप में मौजूद किया गयाा ।बेहद ही हसीन और आकर्षक दिख रही थी। वही इस दौरान मिस्टर फ्रेशर और मिस फ्रेशर सहित अन्य कई केटेगरी में प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया ।अक्षित को यहाँ मिस्टर फ्रेशर तो वहीँ जसमीत को मिस फ्रेशर के खिताब से नवाजा गया।आश्रय और आकाश मिस्टर फ्रेशर के फर्स्ट और सेकंड रनर अप चुने गए। इसी तरह मिस फ्रेशर केटेगरी में नवजोत और शिवानी को फर्स्ट और सेकंड रनर अप चुना गया। योगराज और करीना को मिस्टर का ॅनिफड और मिस कॉंफिडेंट के खिताब से नवाजा गया। दीक्षित को मिस्टर स्टाइल आइकॉन और मेघना को मिस स्टाइल आइकॉन चुना गया। आश्रय को मिस्टर डैशिंग और सिन्धुजा को मिस मोस्ट ग्लैमरस चुना गया। बेस्ट वाक का खिताब ज्वाला को मिला तो वहीँ मिस ब्यूटीफुल हेयर का खिताब महक को मिला । इसी तरह दिव्या को फ्रेश फेस, शालिका को बेस्ट पर्सनॅलिटी और कंचन को मिस चार्मिंग के खिताब से नवाजा गया। डायरेक्टर्स चॉइस अवार्ड दीक्षित और आश्रय को मिला। जीरकपुर के होटल पार्क प्लाजा में आयोजित फ्रेशर पार्टी के दौरान संस्थान के स्टूडेंट्स ने क्लासिकल, वेस्टर्न और पंजाबी गीत संगीत की धुनों पर डांस परफॉर्मेंस दी। इसके अलावा स्टूडेंट्स ने गीत संगीत की धुनों पर मॉडलिंग भी पेश की। स्टेज पर स्टूडेंट्स द्वारा दी जा रही लगभग प्रत्येक परफॉर्मेंस पर हॉल में मौजूद सभी सदस्यों ने जमकर लुत्फ उठाया और तालियों की गडग़ड़ाहट से परफॉर्मर की हौंसला अफजाइ्र्र की। इसी दौरान हाल में मौजूद स्टूडेंट्स और स्टाफ सदस्यों को भी कई गीतों की धुनों पर थिरकते देखा गया।संस्थान की निदेशिका विमी वंसिल ने संतान से जुड़ रही नई गर्ल स्टूडेंट्स को इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन एंड डिजाइ की पुत्री की संज्ञा से नवाजते हुए उनका स्वागत और आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम स्टूडेंट्स में फर्टेर्निटी का अहसास आता है। उन्होंने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए स्टूडेंट्स सराहना करते हुए उनके द्वारा की गई जी तोड़ मेहनत का आभार प्रकट किया। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने स्टूडेंट्स को अपने शैक्षणिक लक्ष्य पर भी ध्यान केंद्रित रखने की अपील की।