Chandigarh,05.08.19-मेहरा एनवायरमेंट एंड आर्ट फाउंडेशन चंडीगढ़ द्वारा डड्डूमाजरा गाँव के द्रोणाचार्य स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में वन विभाग चंडीगढ़ के सहयोग से पौधारोपण किया गया। वहाँ उन्होंने 50 से अधिक बरगद, पीपल, गुलमोहर, आम और आँवले आदि के छायादार एवं हरे रहने वाली प्रजातियों के 50 से अधिक पौधे लगाये क्योंकि स्पोर्ट्स क्लब डम्पिंग ग्राउंड के साथ होने की वजह से वायु प्रदूषण अधिक रहता है।
इस पौधारोपण कार्यक्रम में मुख्यातिथि डॉ० अब्दुल कयूम, आईएफएस, उप-संरक्षक वन विभाग चण्डीगढ़ एवं स्थानीय पार्षद श्रीमती फर्मिला देवी पहुँचे।
मेहरा एनवायरमेंट एंड आर्ट फाउंडेशन चंडीगढ़ के संस्थापक एवं चेयरमैन कुलदीप मेहरा ने बताया कि सामान्य तौर पर शरीर में ऑक्सीजन का स्तर 95 से 100 प्रतिशत तक होता है। जब शरीर में ऑक्सीजन का स्तर 90% से नीचे जाता है तो उसे ऑक्सीजन की कमी माना जाता है। उन्होंने कहा कि वह खुद भी राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी रहे है और किसी भी खेल के खिलाड़ियों के लिए 100% शुद्ध ऑक्सिजन की आवश्यकता पड़ती है। शुद्व ऑक्सीजन की वजह से ही खिलाड़ियों की कौशल क्षमता के साथ उनका न्यूरोमस्कुलर कोऑर्डिनेशन ठीक रहता है, शारिरिक बल भी बढ़ता है। जब खिलाड़ी शारीरिक क्रियाकलाप करता है तो ऑक्सीजन अथवा भोजन के अभाव में शरीर के क्रियाकलापों का अंत हो जाता है। शरीर में अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होने पर उसकी पूर्ति ऑक्सीजन एवं भोजन की अधिक मात्रा से होती है। अत: जीवन के लिए श्वसन एवं स्वांगीकरण क्रियाएँ आवश्यक हैं। शरीर में होने वाली ऑक्सीकरण की क्रिया से ऊर्जा उत्पन्न होती है, जो जीवित प्राणी की क्रियाशीलता के लिए उपलब्ध रहती है। इसलिए शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने के लिए आपके आसपास ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पेड़-पौधे होने बहुत जरूरी है।
पौधरोपण में पहुँचे डॉ०अब्दुल कयूम ने लोगों को जानकारी दी कि वर्तमान समय में पौधारोपण करने का उचित समय है। बारिश का समय चल रहा है और इस मौसम में हर प्रकार के पौधे आसानी से बढ़ जाते है। इस मौसम में पेड़-पौधों की उचित वृद्धि होती है। कल यही पौधे बड़े होकर हमें ऑक्सीजन के साथ साथ सुंदर फूल-फल एवं छाया भी देंगे। इनके बड़े होने से आपके घर-आंगन और गाँव में सुंदरता आ जाएगी। इसीलिए हमें वृक्षारोपण के मामले में व्यक्तिगत तौर पर स्वयं एक कार्यकर्ता बनना होगा। जब से पृथ्वी पर वृक्षों का अस्तित्व रहा है, तब से आज तक वृक्षों ने अपने धर्म का ईमानदारी से पालन किया है। वृक्षों को ईश्वर ने जो काम सौंपा है, उसे वे बखूबी निभाते रहे हैं। वृक्ष ईश्वर के सच्चे उपासक हैं, जो समस्त प्राणी जगत को प्राण वायु देते हैं। उन्होंने स्थानीय पार्षद फर्मिला और पूर्व सरपंच तरसेम सिंह राणा को पौधों की सुरक्षा के लिए ट्री-गॉर्ड, बांस-बल्लियों या लोहे की जाली लगाने के लिए भी कहा।
इस पौधारोपण कार्यक्रम में डॉ० अब्दुल कयूम, आईएफएस, स्थानीय पार्षद श्रीमती फर्मिला, संस्था के संस्थापक एवं चेयरमैन कुलदीप मेहरा, प्रदीप गुलिया, रेंज ऑफिसर एवं वन खंड अधिकारी जितेंद्र सिंह, पूर्व सरपंच तरसेम सिंह राणा, सरबजीत सिंह लहिरी, प्रताप सिंह, सुशील कुमार कौशिक, संजय सिंह चौधरी, हरविंदर सिंह, संदीप सिंह सहित काफी लोग उपस्थित रहे।