जागरूक से एच0आई0वी0, एडस रोग से होगा बचाव - डाॅ0 प्रकाश दरोच

बिलासपुर 2 मार्च - मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 प्रकाश दरोच ने जानकारी देते हुए बताया कि एडस बीमारी 1981 के दशक से शुरू होने वाली बीमारी है जिसका आज भी कोई ईलाज नहीं है। उन्होंने बताया कि सही जानकारी व जागरूकता ही इस बीमारी से बचाव है। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा प्रदान की जा रही सेवाओं के कारण 2010 से 2017 तक नए केसों में 27 प्रतिशत तथा एडस के कारण होने वाली मोतों में 56 प्रतिशत की कमी आई है।
उन्होंने बताया कि हिमाचल सरकार ने एडस उन्मूलन के लिए 2030 का लक्ष्य रखा है जिसके लिए राज्य एडस नियन्त्रण समिति द्वारा 47 आईसीटीसी केन्द्र एफआईसीटीसी केन्दों के माध्यम से सेवाए दी जा रही है। उन्होंने बताया कि एच0आई0वी0/एडस से प्रभावित माता-पिता के बच्चों को उम्र के अनुसार 300 से 800 रूपये की आर्थिक सहायता 18 वर्ष तक दी जाती है। इसके अतिरिक्त एच0आई0वी0/एडस के सभी रोगियों के लिए 1500 रूपये की मासिक सरकार द्वारा आर्थिक सहायता भी दी जाती है।
उन्होंने बताया कि 90, 90, 90 ए.आर.टी. उपचार लक्ष्यों के उपर जानकारी देते हुए बताया कि 90 प्रतिशत लोगों का एच0आई0वी0 स्टेटस जानना है, 90 प्रतिशत का ही निदान व इलाज करना है और 90 प्रतिशत का फौलोअप भी करना है। उन्होंने बताया कि एच0आई0वी0/एडस मुख्यतः चार कारणों से होता है। संक्रमण के लिए सुरक्षात्मक कदम उठा कर घातक रोग से सुरक्षित रहने का लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पति पत्नि में बफादारी या निरोध का सही प्रायोग, निरोध स्वास्थ्य केन्द्रों में मुफ्त मिलते हैं, टीका लगवाने के लिए नई सूई सीरिंज का प्रयोग, टैटू गुदवाने व नाक कान छेदने के लिए सुरक्षित नई सूई का प्रयोग, शेव करती बार नई ब्लेड का इस्तेमाल, जरूरत मन्द को स्वैच्छिक रक्त दाता द्वारा दान किया हुआ एच.आई.वी. मुक्त रक्त ही चढ़ाना और आईसीटीसी केन्द्र में गर्भवती की जांच पर एच.आई.वी. का पता चलने पर उसे प्रथम प्रसव वेदना के समय तथा नवजात को जन्म के 72 घंटे के अन्दर नेविरापिन दवा की खुराक, बच्चे मेें एच.आई.वी. होने का खतरा 30 प्रतिशत से घट कर 4 प्रतिशत रह जाता है।
उन्होंने बताया कि जांच व दवा दोनों आईसीटीसी केन्द्र में मुफ्त हैं। उन्होंने बताया कि एडस लाइलाज रोग है पर अब रोगी को एंटिरिटरावाइल ट्रिटमैंट देकर उसकी उमर बढ जाती है, जबकि यौन संचारित रोगों का उपचार शत प्रतिशत संम्भव है, समय पर इन रोगों का उपचार न होने पर व्यक्ति को एच.आई.वी. संक्रमण का खतरा 10 गुणा अधिक हो जाता है।
उन्होंने बताया कि मर्दों में धात चलना, रूक-रूक कर पेशाब आना, जनन अंग पर पीडा़ रहित घाव होना, पेशाब करती बार दर्द व जलन होना, अण्ड कोष में सूजन आना, कुल्हों में गिल्टयां होना तथा औरतों में जनन अंग से बदबूदार-रंगदार पानी चलना व पीड़ा रहित घाव होना, निचले पेट मे सूजन तथा पीड़ा होना, कुल्हों में गिल्टयां होना यौन संचारित रोगों के लक्षण हैं। उन्होंने बताया कि नजदीकी चिकित्साल्य में इन रोगों का समय पर इलाज जरूरी है।
उन्होंने बताया कि अज्ञानतावश एच आई वी/एडस के साथ जीवन जी रहे व्यक्तियों से भेद भाव करना भूल है क्योंकि रोगी से हाथ मिलाने, साथ खाने-पीने, उठने बैठने, साथ पढ़ने, खेलने व गले मिलने से एडस नहीं होता बल्कि सही सेवा व व्यवहार से रोगी का जीवन जीने में आसान व दीर्घ हो जाता है।
उन्होंने बताया कि एडस प्रभावित व्यक्ति को इन्दिरा गान्धी चिकित्सा महाविद्यालय शिमला, चिकित्साल्य हमीरपुर, चिकित्सा महाविद्यालय टांडा और लिंक ए आर टी सैंटर बिलासपुर व अन्य सभी जिलों में उपचार हेतु दवा मुफ्त उपलब्ध है तथा रोगी व्यक्ति के साथ एक व्यक्ति के आने जाने का किराया भी देय है।

================================

तीसरे चरण के अंतर्गत टीकाकरण की प्रक्रिया आरम्भ
बिलासपुर 2 मार्च - मुख्य चिकित्सा अधिाकारी बिलासपुर डाॅ0 प्रकाश दरोच ने जानकारी देते हुए बताया कि तीसरे चरण के अंतर्गत 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति तथा 45 से 59 वर्ष के लोग जिन्हें कोई अन्य बीमारी है, ऐसे लोगों को कोविड का टीका लगाया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि यह टीका सभी सरकारी अस्पतालों तथा प्रधानमन्त्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के अन्तर्गत आने वाले निजी अस्पतालों मे लगाया जाएगा। सरकारी अस्पतालोें में यह टीका निःशुल्क लगाया जा रहा है तथा निजी अस्पतालों में मात्र 250 रुपये प्रति व्यक्ति देकर लगवाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि टीका लगवाने के लिए नजदीकी सरकारी अस्पताल/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में निर्धारित दिनों में टीका लगवा जा सकता है।
उन्होंने बताया कि इस विषय में निर्धारित तिथि से पहले आम जनता को समाचार पत्रों के माध्यम से अवगत करवा दिया जाएगा कि उनके नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों में किस-किस दिन टीकाकरण होगा। उन्होंने बताया कि इच्छुक व्यक्ति आरोग्य सेतु ऐप या कोविड ऐप के माध्यम से नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में अपने-अपने टीकाकरण का दिन चुनकर नाम दर्ज करवा सकता है। उन्होंने बताया कि व्यक्ति अपनी इच्छानुसार टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य केन्द्र तथा दिन का चयन कर सकता है।
उन्होंने बताया कि पहले से स्वास्थ्य विभाग द्वारा निर्धारित किया जाएगा कि किस-किस स्वास्थ्य केन्द्र में किस दिन टीकाकरण होगा। इच्छुक व्यक्ति को उन्हीं निर्धारित तिथियों में से चयन करना होगा। इसके अतिरिक्त कुछ सीमित संख्या में इन स्वास्थ्य केन्द्रों में टीकाकरण के दिन आॅन स्पाॅट रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था भी होगी जिसका लाभ भी इच्छुक व्यक्ति उठा सकता है।
उन्होंने बताया कि बिलासपुर जिले में प्रधानमन्त्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत एक ही प्राईवेट अस्पताल पंजीकृत है इसलिए इसी में टीकाकरण किया जा सकता है।

=============================

गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन फीस अब ऑनलाइन की जाएगी स्वीकार - विकास शर्मा
बिलासपुर 2 मार्च - एस.डी.एम. झंडुत्ता विकास शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि उपमंडल झंडुत्ता कार्यालय में 3 मार्च से गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन फीस ऑनलाइन माध्य्म से स्वीकार की जाएगी।
उन्होंने आम लोंगो से आग्रह किया कि एस.डी.एम. कार्यालय में गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए बैंक का एटीएम कार्ड अवश्य साथ लाये ताकि एटीएम कार्ड से फीस का भुगतान किया जा सके।
उन्होंने बताया कि पहले सप्ताह में 1 हजार रुपये से अधिक की रजिस्ट्रेशन फीस ऑनलाइन माध्यम से स्वीकार की जाएगी। इसके पश्चात रजिस्ट्रेशन एवं लाइसेंसिंग कार्यालय में सभी प्रकार की फीस ऑनलाइन कार्ड से ही स्वीकार की जाएंगी।

===================================

एसडीएम सदर ने की राज्य स्तरीय नलवाड़ी मेले की तैयारियों की बैठक की अध्यक्षता
बिलासपुर 2 मार्च - राज्य स्तरीय नलवाड़ी मेले की तैयारियों को लेकर मंच व्यवस्था, स्टाॅल व शोभा यात्रा की उप समितियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए एसडीएम सदर रामेश्वर दास ने बताया कि नलवाड़ी मेले के शुभारम्भ अवसर पर 17 मार्च को भव्य शोभा यात्रा श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर से 11 बजे निकाली जाएगी जिसमें मुख्यातिथि के साथ-साथ शहर के सभी गणमान्य व्यक्ति अपनी उपस्थिति से इसकी गरिमा को बढ़ाएंगे।
उन्होंने बताया कि शोभा यात्रा में स्थानीय व प्रदेश की संस्कृतिक को प्रतिबिंबित करने वाले महिला मण्डल, युवक मण्डल, गैर सरकारी संस्थाएं, स्वयं सेवक व वाद्य यंत्रियों को शामिल किया जाएगा। इसके साथ-साथ ऋषि वेद व्यास व अन्य सांस्कृतिक झांकियों को शोभा यात्रा में सम्मिलित कर यात्रा की गरिमा को बढ़ाया जाएगा।
उन्होंने मंच स्थापना उप समिति के सदस्य को दिशा निर्देश देते हुए कहा कि मेले के दौरान लुहणू के हाॅकी मैदान में 17 मार्च तक मंच की स्थापना का कार्य पूर्ण करना सुनिश्चित कर ले। उन्होंने कहा कि मंच की ऊंचाई, बैरीकेटिंग व निरंतर रूप से विद्युत आपूर्ति, जलापूर्ति की सुचारू व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए।
उन्होंने बताया कि मेले के दौरान प्रदेश सरकार द्वारा कोविड-19 महामारी के बचाव हेतु जारी किए गए सभी दिशा निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित बनाई जाएंगी। उन्होंने बताया कि मेले के दौरान लगने वाले झूले व डोम तथा व्यापारियों के लिए प्लाॅट की नीलामी 6 तथा 7 मार्च को 12ः30 बजे तक होगी। प्लाॅट का आवंटन 8 मार्च से शुरू कर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष नलवाड़ी मेले में प्लाॅट का आवंटन पहले की अपेक्षा कम दामों में किया जाएगा।
इस अवसर पर तहसीलदार सदर अमित कुमार, अधिशाषी अभियंता विद्युत एम.एस. गुलेरिया, पीओडीआरडीए आर.के. गौतम, जिला पंचायत अधिकारी शशिबाला के अतिरिक्त समिति के सरकारी व गैर सरकारी सदस्य भी उपस्थित रहे।

==================================

सोलन दिनांक 02.03.2021
एनीमिया जांच शिविरों की तिथियों व स्थान में आंशिक परिवर्तन

आयुष विभाग द्वारा धर्मपुर विकास खण्ड की विभिन्न ग्राम पंचायतों में आयोजित किए जा रहे एनीमिया जागरूकता शिविरांे की तिथियों तथा स्थान में आंशिक परिवर्तन किया गया है। यह जानकारी जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. राजेन्द्र शर्मा ने आज यहां दी।
डाॅ. राजेन्द्र शर्मा ने कहा कि 04 मार्च को ग्राम पंचायत आंजी मातला में आयोजित होने वाला एनीमिया जागरूकता शिविर अब 06 मार्च को आंजीमातला में ही होगा। 04 मार्च को ग्राम पंचायत दाड़वा के अन्तर्गत राजकीय प्राथमिक विद्यालय बनलगी में आयोजित होने वाल शिविर अब पंचायत घर दाड़वा में आयोजित किया जाएगा। 05 मार्च को ग्राम पंचायत धर्मपुर के तहत महिला मण्डल धर्मपुर में आयोजित होने वाला एनीमिया जागरूकता शिविर अब आर्य समाज मंदिर धर्मपुर में आयोजित किया जाएगा।

=================================

सोलन दिनांक 02.03.2021
डिजिटल माध्यम से प्रदान की विभिन्न कानूनों की जानकारी

जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन द्वारा कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत जिला के विभिन्न स्थानों पर डिजिटल माध्यम से विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में प्राधिकरण द्वारा फरवरी माह विभिन्न विषयों पर विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए गए।
इन श्वििरों की अध्यक्षता जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन के अध्यक्ष एवं जिला व सत्र न्यायाधीश भूपेश शर्मा तथा जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन की सचिव गुरमीत कौर ने की। यह जानकारी जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन की सचिव गुरमीत कौर ने आज यहां दी।
गुरमीत कौर ने कहा कि शांति निकेतन बाल आश्रम सुबाथू सोलन तथा बाल आश्रम अर्की के बच्चों को निःशुल्क कानूनी सहायता, नशे के दुष्प्रभाव, गुड टच व बैड टच तथा कोरोना माहामारी से निपटने के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।
उन्होंने कहा कि दुर्गा ग्राम संगठन कण्डाघाट की महिलाओं के लिए आयोजित जागरूकता शिविर में निःशुल्क कानूनी सहायता, घरेलू हिंसा अधिनियम तथा कोविड-19 से बचाव के बारे में अवगत करवाया गया। शिविर में लोगों को डिजिटल माध्यम से नागरिकता का भाव, वरिष्ठ नागरिकों को राष्ट्रीय, राज्य, जिला व तहसील स्तर पर विधिक सहायता तथा परामर्श प्रदान करना और तस्करी व वाणिज्यिक यौन शोषण योजना 2015 के पीड़ितों की रोकथाम व बचाव के बारे में भी जानकारी प्रदान की गई।
गुरमीत कौर ने कहा कि अधीक्षक जिला कारागार सोलन के साथ डिजिटल माध्यम से आयोजित शिविर में कैदियों के अधिकार, प्ली बारगेनिंग तथा निःशुल्क कानूनी सहायता तथा कोविड-19 के बारे में जागरूक किया गया।
उन्होंने कहा कि फरवरी माह के दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विभिन्न विद्यालयों में विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए गए। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कोठों, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कदौर तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हरिपुर मेें बच्चों को कोरोना वायरस से बचाव के बारे में जागरूक किया गया। विद्यार्थियों को उनके मौलिक अधिकारों एवं कर्तव्यों, सड़क सुरक्षा नियमों तथा किशोर कानून के बारे में जानकारी प्रदान की गई।
उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा ग्राम पंचायत कोट, चेवा, खनलग, दानोघाट, सायरी में डिजिटल माध्यम से विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए गए। लोगों को विधिक सहायता प्रदान करने के तरीकों तथा विभिन्न विवादों के वैकल्पिक समाधान के बारे में भी जागरूक किया गया। लोगों को 10 अप्रैल 2021 को आयोजित होने वाली लोक अदालत के बारे में भी अवगत करवाया गया।
उन्होंने कहा कि प्राधिकरण द्वारा विश्व सामाजिक न्याय दिवस पर डिजिटल माध्यम से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला रतवाड़ी तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ओच्छघाट के छात्रों को जागरूक किया गया। शिविर में विद्यार्थियों को सामाजिक समानता के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।
गुरमीत कौर ने कहा कि खण्ड विकास अधिकारी कुनिहार के सहयोग से विकास खण्ड कुनिहार की 17 ग्राम पंचायतों में डिजिटल माध्यम से विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए गए। शिविर में लोगों डिजिटल माध्यम से निःशुल्क कानूनी सहायता, पंचायती राज संस्थाओं की न्यायिक शक्तियां, पीड़ित मुआवजा योजना, नशीली दवाओं के शिकार लोगों के लिए कानूनी सेवाएं योजना, कोविड-19 से बचाव तथा मध्यस्थता एवं लोक अदालत के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।
उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोलन द्वारा डीएलएसए सोलन के नाम से बने यू-टयूब चैनल के माध्यम से 41 वीडियो को अपलोड किया है। इनमें जिला के विभिन्न न्यायाधीशों द्वारा विभिन्न कानूनों के बारे में जानकारी प्रदान की गई है।
उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोलन द्वारा इस माह 11 पीड़ित प्रतिकर महिलाओं तथा 2 ऐसिड अटैक पीड़ित महिलाओं को मुआवजा राशि प्रदान की गई है।
गुरमीत कौर ने कहा कि किसी भी प्रकार की कानूनी सहायता के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन के दूरभाष नम्बर 01792-220713 पर किसी भी कार्य दिवस पर प्रातः 10.00 बजे से सांय 5.00 बजे तक संपर्क किया जा सकता है।
====================================

सोलन दिनांक 02.03.2021
कोविड-19 टीकाकरण का तृतीय चरण 03 मार्च से-केसी चमन

उपायुक्त सोलन केसी चमन ने आज यहां कोविड-19 टीकाकरण के सफल कार्यान्वयन के लिए गठित जिला कार्यबल की बैठक की अध्यक्षता की।
केसी चमन ने कहा कि जिला में कोविड-19 टीकाकरण का तृतीय चरण 03 मार्च से आरम्भ किया जा रहा है। टीकाकरण के सफल कार्यान्वयन तथा इस कार्य को गति प्रदान करने के लिए प्रतिदिन जिला के 10 से 12 स्वास्थ्य संस्थानों में कोविड-19 के लिए टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिन स्वास्थ्य संस्थानों में टीकाकरण होना है उनकी पूरी जानकारी जिला के सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को समय पर उपलब्ध करवा दी जाएगी ताकि इन केन्द्रों पर टीकाकरण के लिए आने वाले व्यक्तियों को कोई असुविधा न हो।
उपायुक्त ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण करवाने वाले सभी व्यक्तियों को पूर्व निर्धारित टीकाकरण केन्द्र के लिए आरोग्य सेतु ऐप तथा वैबसाईटcovid.gov.in पर जाकर पंजीकरण करवाना होगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक टीकाकरण सत्र के लिए 70 प्रतिशत आॅनलाइन पंजीकरण होगा तथा 30 प्रतिशत लोगों को आॅन स्पाॅट टीकाकरण के लिए पंजीकृत किया जाएगा।
केसी चमन ने कहा कि यदि आॅन स्पाॅट 30 प्रतिशत से अधिक व्यक्ति टीकाकरण के लिए पहुंच जाते हैं तो उन्हें अगले कार्यदिवस पर टीकाकरण के लिए बुलाया जाएगा ताकि टीकाकरण सत्र पर अनावश्यक रूप से भीड़ एकत्र न हो तथा कोविड-19 के लिए निर्धारित नियमों की अनुपालना सुनिश्चित की जा सके।
उन्होंने पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सार्वजनिक स्थलों पर लोगों द्वारा मास्क न पहनने वालों के चालान काटे जाए।
उपायुक्त ने जिलावासियों से आग्रह किया कि कोविड-19 से सुरक्षा के लिए जिला प्रशासन को सहयोग प्रदान करें। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहने तथा सोशल डिस्टेन्सिग नियम का पालन करंे और बार-बार अपने हाथ साबुन तथा एल्कोहल युक्त सेनिटाइजर से साफ करें।
बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. राजन उप्पल ने कोविड-19 टीकाकरण के तृतीय चरण की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
बैठक में पुलिस अधीक्षक सोलन अभिषेक यादव, उपमंडलाधिकारी सोलन अजय यादव, आदेशक गृह रक्षा डाॅ. शिव कुमार शर्मा, उपमंडलाधिकारी कण्डाघाट डाॅ. संजीव धीमान, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. राजन उप्पल, जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. अजय सिंह तथा स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।
.0.