CHANDIGARH,25.12.20-प्राचीन कला केन्द्र की ओर से हर हफते आयोजित किए जाने वाली वैबबैठकों की 28वीं कड़ी में पटना के अनुदीप डे ने शास्त्रीय गायन प्रस्तुत किया । कार्यक्रम का आयोजन केन्द्र के सोशल मीडिया माध्यम जैसे यूट्यूब चैनल,फेसबुक एवं टविटर पेज पर किया गया ।
अनुदीप डे की अल्पायु से ही शास्त्रीय संगीत में गहरी रूचि थी । इन्होंने संगीत की प्रारम्भिक शिक्षा अपने पिता श्री अनूप कांति डे से प्राप्त की उपरांत संगीत की बारीकियां प्रो. डाॅ. नीरा चैधरी से सीखी और आजकल ये कोलकाता की प्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका श्रीमती अंजना नाथ से संगीत की शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं । इन्होंने विभिन्न प्रस्तुतियों से संगीत जगत में अपनी प्रतिभा का बखूबी प्रदर्शन करके संगीत प्रेमियों के दिल में खास जगह बनाई है ।

आज के कार्यक्रम की शुरूआत अनुदीप ने राग हंसध्वनि से की । जिसमें आलाप के पश्चात विलम्बित एक ताल में एक बंदिश जिसके बोल थे ‘‘तेरा भाग जागा’’ पेश की। उपरांत द्रुत तीन ताल में छोटा ख्याल की बंदिश ‘‘लगी लगन पति सखी संग’’ प्रस्तुत की । कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए अनुदीप ने राग मिश्र खमाज में एक खूबसूरत ठुमरी ‘‘कौन गली गयो श्याम’’ पेश की । कार्यक्रम के अंत में राग मिश्र पहाड़ी में एक प्रसिद्ध भजन ‘‘जमुना किनारे मेरों गांव सांवरे आ जइयो’’ प्रस्तुत किया ।
कार्यक्रम में अनुदीप के साथ तबले पर बिहार के जाने माने तबला वादक शांतनु राय तथा हारमोनियम पर मोहित मयंक ने बखूबी संगत की ।