सोलन दिनांक 30.06.2020
सोलन जिला में 2346 व्यक्ति स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में- डाॅ. गुप्ता

कोविड-19 के खतरे के दृष्टिगत स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय के दिशा-निर्देशानुसार सोलन जिला में वर्तमान में 2346 व्यक्तियों को निगरानी में रखा गया है। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 2346 व्यक्तियों में से 1855 व्यक्तियों को होम क्वारेन्टीन किया गया है। इनमें से 1380 व्यक्ति ऐसे हैं जिन्हें अन्य राज्योें से जिला में आने के उपरान्त होम क्वारेन्टीन किया गया है। 475 अन्य व्यक्ति होम क्वारेन्टीन हैं। 437 व्यक्ति संस्थागत क्वारेन्टीन में हैं।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि जिला में अभी तक 13339 व्यक्ति 14 दिन की निगरानी अवधि पूर्ण कर चुके हैं।
उन्होंने कहा कि जिला में अभी तक कुल 15685 व्यक्तियों को निगरानी में रखा जा चुका है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में 05 व्यक्तियों को आईसोलेशन में रखा गया है।
उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेन्सिग नियम का पालन करें और दो व्यक्तियों के मध्य कम से कम दो गज की दूरी बनाए रखें। उन्होेंने सभी से आग्रह किया कि आरोग्य सेतु एप डाऊनलोड करें और इस एप में दिए गए निर्देशों का पालन करें। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों से आ रहे सभी व्यक्तियों को क्वारेनटाइन के सम्बन्ध में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशांे का पालन करना आवश्यक है।
===============================================

सोलन दिनांक 30.06.2020
सोलन जिला से आज कोरोना संक्रमण जांच के लिए भेजे गए 338 सैम्पल

जिला में अभी तक 12356 व्यक्तियों के रक्त नमूने किए गए एकत्र
सोलन जिला से आज कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के लिए 338 व्यक्तियों के रक्त नमूने केन्द्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली भेजे गए। यह जानकारी आज यहां स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के एक प्रवक्ता ने दी।
प्रवक्ता ने कहा कि इन 338 रक्त नमूनों में से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नालागढ़ से 37, नागरिक अस्पताल बद्दी से 68, क्षेत्रीय अस्पताल सोलन से 49, ईएसआई काठा से 57, एमएमयू कुम्हारहट्टी से 46, नागरिक अस्पताल अर्की से 09, ईएसआई परवाणू से 40, ईएसआई बरोटीवाला से 16 तथा ईएसआई झाड़माजरी से 16 सैम्पल कोरोना वायरस संक्रमण जांच के लिए भेजे गए हैं।
उन्होंने कहा कि जिला में अभी तक कोरोना संक्रमण की जांच के लिए 12356 व्यक्तियों के रक्त नमूने एकत्र किए गए हैं।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि जिला में अभी तक 109 रोगी कोविड-19 पाॅजिटिव पाए गए हैं। इनमें से 54 व्यक्ति कोविड एक्टिव हैं। करोना संक्रमित व्यक्तियों में से ईएसआई काठा में 14, नौणी में 09, श्रमिक छात्रावास नालागढ़ में 26 का उपचार किया जा रहा है। मानकों के अनुसार 04 कोरोना रोगियों का उपचार घर पर किया जा रहा है। 01 रोगी को आईजीएमसी शिमला भेजा गया है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वाले लोगों से आग्रह किया कि वे क्वारेनटाइन सम्बन्धी दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन करें। उन्होंने कहा कि इन नियमों की अनुपालना न केवल बाहर से आने वाले व्यक्तियों के परिवारों अपितु समाज को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने में सहायक सिद्ध होगी।
डाॅ. गुप्ता ने सभी से आग्रह किया कि खांसी, जुखाम, बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर शीघ्र समीप के स्वास्थ्य संस्थान से सम्पर्क करें। इस सम्बन्ध में किसी भी सहायता के लिए हैल्पलाईन नम्बर 104 तथा दूरभाष नम्बर 221234 पर सम्पर्क किया जा सकता है।
.=========================================================

सोलन -दिनांक 30.06.2020
जिला कारागार सोलन में प्रथम जुलाई को वीडियो काॅल के माध्यम से बताए जाएंगे कैदियों के अधिकार
जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन की पहल

जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन द्वारा लोगांे को कोविड-19 के दृष्टिगत डिजिटल माध्यम से निःशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध करवाने का शुभारंभ प्रथम जुलाई, 2020 को जिला कारागार सोलन से किया जाएगा। यह जानकारी आज यहां जिला विधिक एवं सेवाएं प्राधिकरण की सचिव गुरमीत कौर ने दी।
गुरमीत कौर ने कहा कि प्रथम जुलाई, 2020 को जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा वीडियो काॅल के माध्यम से जिला कारागार सोलन के कैदियों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह वीडियो काॅल कारागार अधीक्षक के मोबाइल पर की जाएगी। इस वीडियो काॅल के माध्यम से कैदी जहां अपने अधिकारों के प्रति पूर्ण जानकारी प्राप्त कर पाएंगे वहीं वे इससे लाभान्वित भी हो सकेंगे।
उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा वर्तमान समय में लोगों को दूरभाष के माध्यम से निःशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है। इसके लिए हेल्पलाइन नम्बर जारी किए गए हैं।
गुरमीत कौर ने कहा कि लोग निःशुल्क कानूनी सहायता का लाभ उठाने के लिए जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन तथा उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति कण्डाघाट, सोलन, कसौली, अर्की तथा नालागढ़ में हेल्पलाइन नम्बर पर प्रातः 10.00 बजे से सांय 5.00 बजे तक किसी भी कार्यदिवस पर सम्पर्क कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि इन हेल्पलाइन नंबरों का लाभ उठाने के लिए सचिव, जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन से दूरभाष नंबर 01792-220713 पर सम्पर्क किया जा सकता है। उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति सोलन के अध्यक्ष से हेल्पलाईन नंबर 01792-220553, उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति अर्की के अध्यक्ष से हेल्पलाईन नंबर 01796-220619, उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति कंडाघाट के अध्यक्ष से हेल्पलाइन नंबर 01792-256256 पर, उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति नालागढ़ के अध्यक्ष से हेल्पलाईन नंबर 01795-221197 तथा उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति कसौली के अध्यक्ष से हेल्पलाइन नंबर 01792-273711 पर सम्पर्क किया जा सकता है।
गुरमीत कौर ने कहा कि इन हेल्पलाइन नम्बरों पर समस्या की जानकारी मिलने के उपरांत विधिक सेवाएं प्राधिकरण की टीम शिकायतकर्ता की समस्या का समाधान करने का प्रयास करेगी। .0.

=======================================

सोलन दिनांक 30.06.2020

कोविड-19 संक्रमण समय में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं की भूमिका सराहनीय-विवेक चंदेल
अतिरक्त उपायुक्त सोलन विवेक चंदेल ने कहा कि कोविड-19 महामारी के समय में महिला एवं बाल विकास विभाग विशेष रूप से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं ने प्रदेश सरकार एवं जिला प्रशासन के निर्देशानुरूप सराहनीय कार्य किया है। विवेक चंदेल आज यहां एकीकृत बाल विकास योजना, पोषाहार तथा किशोरी योजना, महिलाओं की सुरक्षा एवं सशक्तिकरण, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ तथा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए गठित ज़िला स्तरीय अनुश्रवण एवं समीक्षा समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
विवेक चंदेल ने कहा कि एक्टिव केस फाइडिंग अभियान, निगाह कार्यक्रम सहित लोगों को कोरोना संक्रमण के विषय में जागरूक बनाने तथा व्यापक स्तर पर घर पर मास्क तैयार करने में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं ने अनुकरणीय भूमिका निभाई है। जिला सोलन में अब तक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं तथा स्वयं सहायता समूहों द्वारा लगभग 01 लाख 05 हजार मास्क बनाए गए हैं। जिला की 60 ग्राम पंचायतों में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा सहकारिता मंत्री डाॅ. राजीव सैजल की अगुवाई में 20 हजार से अधिक मास्क वितरित किए गए हैं। लोगों को मास्क पहनने का सही तरीका भी बताया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा महिलाओं, बच्चों और किशोरियों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। इन योजनाओं का उद्देश्य लक्षित समूहों को विभिन्न लाभ प्रदान करना और उन्हें बेहतर भविष्य के लिए तैयार करना है। उन्होंने ज़िला कार्यक्रम अधिकारी तथा सभी बाल विकास परियोजना अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजनाओं के लाभार्थियों का चयन निर्धारित मापदण्डों के अनुसार किया जाए।
उन्होंने कहा कि जिला में निर्माणाधीन आंगनबाड़ी केंद्रों के भवन निर्माण कार्य पूरा किया शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए। आंगनबाड़ी केंद्रों में जिला के सभी समेकित बाल विकास अधिकारी अपने-अपने आंगनबाड़ी केंद्रों में शौचालय व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था को सुचारू बनाए रखें ताकि इन केंद्रों में पढ़ रहे बच्चों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो।
विवेक चंदेल ने सभी से आग्रह किया कि यदि उन्हें अपने आसपास कोई असहाय दिव्यांग दिखाई दे तो इसकी सूचना तुरंत प्रशासन को दें ताकि इस दिव्यांग व्यक्ति को समयबद्ध सहायता प्रदान की जा सके।
बैठक में अवगत करवाया गया कि सशक्त महिला योजना के अंतर्गत जिला में 219 सशक्त महिला केन्द्र बनाए गए हैं। इन केन्द्रों में साथ 02 हजार महिलाएं सदस्य के रूप में जुड़ी हैं। जिला में योजना के अंतर्गत 10 उत्कृष्ट बालिकाओं को पांच-पांच हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई है।
बैठक में अवगत करवाया गया कि विभिन्न कारणों से प्रताड़ित महिलाओं की सहायता के लिए स्थापित वन स्टाॅप सेंटर में वर्ष 2019-20 में 68 मामले दर्ज कर प्रभावित महिलाओं को समुचित सहायता प्रदान की गई। जिला में लाॅकडाउन अवधि के दौरान घरेलू हिंसा के 39 मामले दर्ज किए गए। इन मामलों में आवश्यक परामर्श प्रदान किया गया।
ज़िला कार्यक्रम अधिकारी वंदना चैहान ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया तथा विभाग की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी प्रदान की।
बैठक में भारतीय प्रशासनिक सेवा की परिवीक्षाधीन अधिकारी रितिका, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्दी एनके शर्मा, उप पुलिस अधीक्षक सोलन योगेश दत्त जोशी, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी राजकुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन डाॅ. राजन उप्पल, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एनके गुप्ता सहित अधिकारी उपस्थित थे।

========================================

सोलन दिनांक 30.06.2020
लक्षित वर्गों तक समय पर पहुंचे योजनाओं के लाभ-केसी चमन
सभी विद्यालयों में सूचना पट्ट पर छात्रवृत्ति योजनाआंे की जानकारी अंकित करने के निर्देश

उपायुक्त सोलन केसी चमन ने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा समाज के विभिन्न वर्गों के कल्याण एवं सुरक्षा के लिए कार्यान्वित की जा रही योजनाओं के लाभ लक्षित वर्गों तक समय पर पहुंचने चाहिएं। इसके लिए आवश्यक है कि लक्षित वर्गों को इन योजनाओं की पूर्ण जानकारी प्रदान करने के लिए जागरूकता शिविर आयोजित किए जाएं।
केसी चमन आज यहां अनुसूचित जाति, जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के अंतर्गत स्थापित जिला स्तरीय सतर्कता एवं प्रबोधन समिति के अंतर्गत गठित समिति, अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री नवीन 15-सूत्रीय कार्यक्रम की समीक्षा तथा राष्ट्रीय न्यास अधिनियम 1999 के अंतर्गत गठित स्थानीय स्तरीय समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
उपायुक्त ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत विशेष रूप से इन योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए सम्बन्धित विभागों एवं अधिकारियों को डिजिटल माध्यम का उपयोग करना चाहिए। इस दिशा में सभी विभागों को बेहतर तालमेल स्थापित कर कार्य करना होगा।
उन्होंने कहा कि उपरोक्त विभिन्न कार्यक्रम समाज के लक्षित वर्गों के संतुलित विकास एवं संविधान की अनुपालना के अनुरूप कार्यान्वित किए जा रहे हैं। भारत के संविधान में विभिन्न नियमों के माध्यम से समाज के कमजोर वर्गों की सुरक्षा सुनिश्चित बनाई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इन सभी नियमों का उचित कार्यान्वयन सुनिश्चित बनाया जाए।
उपायुक्त ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि जिला के सभी विद्यालयों में सूचना पट्ट पर छात्रवृत्ति योजनाओं के सम्बन्ध में संपूर्ण जानकारी अंकित की जाए ताकि पात्र छात्र इनसे लाभान्वित हो सकें। उन्होंने इस सम्बन्ध में शीघ्र रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश भी दिए।
बैठक में अल्पसंख्यकों के लिए प्रधानमंत्री के नए 15 सूत्रीय कार्यक्रम पर भी विस्तृत चर्चा की गई। बैठक में अवगत करवाया गया कि सोलन जिला में विशेष पोषाहार कार्यक्रम के अन्तर्गत मुस्लिम समुदाय के 2061, सिक्ख समुदाय के 1190 तथा इसाई समुदाय के 24 बच्चों को पोषाहार उपलब्ध करवाया जा रहा है। बैठक में कार्यक्रम के तहत चलाई जा रही अन्य योजनाओं की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।
बैठक में राष्ट्रीय न्यास अधिनियम 1999 के अन्तर्गत गठित समिति द्वारा दिव्यांग व्यक्तियों के कानूनी संरक्षक के मामलों पर विचार-विमर्श किया गया। बैठक में अवगत करवाया गया कि सोलन जिला में वर्तमान में 18 वर्ष से अधिक आयु के 414 व्यक्ति मानसिक रूप से दिव्यांग हैं। इनमें सोलन तहसील में 88, कण्डाघाट तहसील में 31, अर्की तहसील में 125, नालागढ़ तहसील में 115 तथा कसौली तहसील में 55 दिव्यांग हैं।
जिला कल्याण अधिकारी अनुराधा तनवर ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया तथा विभिन्न योजनाओं की जानकारी प्रदान की।
बैठक में भारतीय प्रशासनिक सेवा की परिवीक्षाधीन अधिकारी रितिका, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्दी एनके शर्मा, उप पुलिस अधीक्षक सोलन योगेश दत्त जोशी, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी राजकुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन डाॅ. राजन उप्पल, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एनके गुप्ता, गणपति एजुकेशन सोसायटी कुनिहार के अध्यक्ष रोशन लाल शर्मा, समितियों के गैर सरकारी सदस्य माया राम सहित अन्य सदस्य एवं अधिकारी उपस्थित थे।

===============================

पेंशनधारक 1 सितम्बर से जमा करवाएं जीवन प्रमाण पत्र

धर्मशाला 30 जून: जिला कोषाधिकारी कांगड़ा ने जिला कांगडा के सभी पैंषन भोगियों/पारिवारिक पैंषन भोगियों को सूचित किया है कि जिला के सभी कोशों में उनका वार्शिक सत्यापन दिनांक 01 सितम्बर 2020 से किया जाना सुनिष्चित किया गया है। उन्होनें जिला के सभी पैंषन धारकों से आग्रह किया कि वे अपने निकटतम कोश में अपने जीवन प्रमाण पत्र दिनांक 01 सितम्बर 2020 से जमा करवाएं।