3 अक्तूबर को रहेगी विद्युत आपूर्ति बाधित
धर्मशाला, 01 अक्तूबर - सहायक अभियंता, विद्युत उपमण्डल, सिद्धपुर, कर्म चंद भारती ने जानकारी देते हुए बताया कि 11 के.वी. होडल फीडर की आवश्यक मरम्मत व उचित रखरखाव के कारण फतेहपुर, सिद्धपुर, अप्पर सुक्कड़, लोअर सुक्कड़, होडल, घुरलूनाला, उपाहू, होटल क्लब मोहिन्द्र, बाग्नी इत्यादि क्षेत्रों में 3 अक्तूबर, 2020 को प्रातः 9 बजे से सायं 6 बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी।
उन्होंने बताया कि मौसम खराब होने की स्थिति में यह कार्य अगले दिन किया जाएगा। उन्होंने इस दौरान लोगों से सहयोग की अपील की है।
==================================

टी.जी.आर्टस, मेडिकल, नॉन मेडिकल विषयों की बैचबाइज भर्ती हेतु कांऊसलिंग 8 अक्तूबर से 15 अक्तूबर तक
धर्मशाला, 01 अक्तूबर - उप निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा, धर्मशाला ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रशिक्षित स्नातक अध्यापक कला, नॉन मेडिकल , मेडिकल (सामान्य वर्ग, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग, अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व गरीबी रेखा से नीचे एवं स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों) के पदों को अध्यापक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यार्थियों में से अनुबंध आधार पर भरने हेतु कांऊसलिंग अक्तूबर माह में होगी। उन्होंने बताया कि यह कांऊसलिंग राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (छात्रा), धर्मशाला में की जाएगी।
उन्होंने बताया कि टी.जी.टी. आर्टस अभ्यार्थियों के लिए कांऊसलिंग 8, 9 और 12 अक्तूबर, 2020 को की जाएगी तथा टी.जी.टी. नॉन मेडिकल अभ्यार्थियों के लिए कांऊसलिंग 13 अक्तूबर से 15 अक्तूबर, 2020 और टी.जी.टी. मेडिकल अभ्यार्थियों के लिए 15 अक्तूबर, 2020 को होगी।
उन्होंने बताया कि बी.एड.पास अभ्यार्थियों की कांऊसलिंग बैचवाइज की जाएगी। उन्होंने बताया कि टी.जी.टी आर्टस के सामान्य वर्ग का अनारक्षित 2000 बैच, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का 2003 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों के लिए 2006 बैच, अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्यार्थियों का सामान्य का 2003 बैच, बी.पी.एल. के 2004 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों के अभ्यार्थियों का 2020 बैच तक, अनुसूचित जाति का 2003 बैच, बी.पी.एल. 2004 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों का 2020 बैच तक, अनुसूचिज जनजाति का 2004 बैच, बी.पी.एल. का 2006 बैच के अभ्यार्थी इस कांऊसलिंग में भाग ले सकते हैं।
उन्होंने बताया कि टी.जी.टी नॉन-मेडिकल के सामान्य वर्ग का अनारक्षित 1999 बैच, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का 2003 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों के लिए 2006 बैच, ओ.बी.सी.के अभ्यार्थियों का अनारक्षित 2002 बैच, बी.पी.एल. के 2004 बैच, अनुसूचित जाति का 2006 बैच, बी.पी.एल. 2009 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों का 2020 बैच तक, अनुसचित जनजाति वर्ग का 2007 बैच, बी.पी.एल. का 2020 बैच तक के अभ्यार्थी इस कांऊसलिंग में भाग ले सकते हैं।
उन्होंने बताया कि टी.जी.टी मेडिकल के सामान्य वर्ग का अनारक्षित 2001 बैच, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का 2006 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों के लिए 2020 बैच तक के, ओ.बी.सी.के अभ्यार्थियों का अनारक्षित 2006 बैच, बी.पी.एल. के 2020 बैच तक, अनुसूचित जाति का 2006 बैच, बी.पी.एल. 2010 बैच, स्वतंत्रता सैनानियों के आश्रितों का 2020 बैच तक, अनुसचित जनजाति वर्ग का 2005 बैच, बी.पी.एल. का 2010 बैच तक के अभ्यार्थी इस कांऊसलिंग में भाग ले सकते हैं।
उन्होंने बताया कि जिन अभ्यार्थियों ने मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान से बी.ए./बी.कॉम/बी.एससी. व बी.एड. पास की हो तथा अभ्यार्थी ने हिमाचल प्रदेश अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड हमीरपुर या हि0प्र0 स्कूल शिक्षा बोर्ठ धर्मशाला से अध्यापक पात्रता परीक्षा भी पास की हो और इस बैच के अंतर्गत आता हो, वह ही अभ्यार्थी इस कांऊसलिंग में भाग ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि इन विषयों के पदों के लिए कांऊसलिंग हेतु जिले के सभी रोजगार कार्यालयों द्वारा मांग पत्र प्रस्तुत किए गए हैं, उसके अनुसार सभी अभ्यार्थियों को कांऊसलिंग के लिए कॉल लैटर भेजे जा रहे हैं। उन्होंने बताया जिन अभ्यार्थियों को कांऊसलिंग के लिए कॉल लेटर भेजे जा रहे हैं, यदि उन्हें किसी कारण कॉल लेटर नहीं प्राप्त होते हैं तो, वे अपना नाम व बायोडॉटा फार्म इस कार्यालय की वेबसाइट ूूूण्ककममांदहतंण्पद से डाउनलोड कर सकते हैं और कांऊसलिंग में उपस्थित हो सकते हैं।

=======================================

महात्मा गांधी के जीवन पर संगोष्ठि का आयोजन
मंडी, 1 अक्तूबर: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयन्ती के उपलक्ष में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग द्वारा आज महात्मा गांधी के जीवन पर एक संगोष्ठि का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर बतौर मुख्यतिथि शिरकत करते हुए सहायक आयुक्त संजय कुमार ने कहा कि महात्मा गांधी के जीवन में दो मूल्यों के प्रति सबसे अधिक आग्रह और निष्ठा के दर्शन होते हैं, ये दो मूल्य हैं सत्य और अहिंसा। उनका दर्शन एक प्रकार से जीवन, मानव समाज और जगत का नैतिक भाषय है।
उन्होंने कहा कि अहिंसा के मार्ग पर चलकर देश की आजादी की लड़ाई लड़ने वाले महात्मा गांधी लगभग 10 बार शिमला आए थे। उनका शिमला आने का सिलसिला वर्ष 1921 से आरम्भ होकर 1946 तक चलता रहा। गांधी जी का शिमला आने का उद्धेश्य अंग्रेजी शासनकाल के विभिन्न मंत्रियों व वायसराय से अलग-अलग मुददों पर चर्चा करना होता था।
उन्होंने कहा कि इस दौरान उन्होंने गोल मेज सम्मलेन, नमक कानून, गांधी इरविन समझौता व इसके अतिरिक्त शिमला आने से प्रदेश के असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाले लोगों को भी एक नई दिशा मिली थी।
संगोष्ठी में विभागीय अधिकारियों के अतिरिक्त विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।

==========================================

राष्टपिता महात्मा गांधी की 150वी जयंती के उपलक्ष्य पर 30 सितंबर को "स्वच्छता" विषय पर जिला स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता का ऑनलाइन आयोजन किया गया।

MANDI,01.10.20-भाषा एवं संस्कृति विभाग मण्डी द्वारा राष्टपिता महात्मा गांधी की 150वी जयंती के उपलक्ष्य पर 30 सितंबर को "स्वच्छता" विषय पर जिला स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता का ऑनलाइन आयोजन किया गया।जिसमें रा०आदर्श व० मा० पा० चौंतड़ा के आदित्य ने प्रथम स्थान, रा०व० मा० पा० गागल की नव ज्योति शर्मा ने द्वितीय तथा रा०आदर्श व०मा० पा० जोगिन्दरनगर की जिनिया तथा आर के इंटरनेशनल स्कूल नबाही की आस्था ने तृतीय स्थान प्राप्त किया ।विजेता प्रतिभागियों को ऑनलाइन नकद पुरस्कार दिया जाएगा ।इसके अतिरिक्त 3 सांत्वना पुरस्कार भी दिए जाएंगे