चंडीगढ़, 19 सितंबर। हरियाणा में जल्द सड़कों के जाल को और मजबूती मिलेगी क्योंकि प्रदेश सरकार ग्रामीण आंचल में सड़कों का कायाकल्प करने जा रही है। लोक निर्माण (भवन एवं संड़कें) विभाग द्वारा नाबोर्ड के सहयोग से 183 करोड़ रूपये की लागत से प्रदेश की 63 सड़कों का मरम्मत व नवीनीकरण का कार्य किया जाएगा। यह जानकारी प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने दी।

दुष्यंत चौटाला ने बताया कि प्रदेश के 16 जिलों में 63 सड़कों को बेहतर बनाकर मुसाफिरों का सफर सुहाना किया जाएगा। वित्त वर्ष 2020-21 में लोक निर्माण द्वारा सोनीपत में 35 करोड़ रूपये की राशि से 10 सड़कों का मरम्मत कार्य किया जाएगा तथा करीब सात करोड़ रूपये की लागत से दो सड़कों का पुनर्निर्माण होगा। वहीं फतेहाबाद में करीब 20 करोड़ रूपये की लागत से जिले की सात सड़कों का मरम्मत कार्य होगा।

डिप्टी सीएम ने बताया कि रोहतक जिले में 25 करोड़ रूपये की राशि से छह सड़कों का मरम्मत कार्य होगा। झज्जर जिला में 1.41 करोड़ रूपये की लागत से एक सड़क का पुनर्निर्माण और करीब 6 करोड़ की लागत से चार सड़कों की मरम्मत कर उसे बेहतर बनाया जाएगा।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि करनाल जिला में 12 करोड़ रूपये, भिवानी में करीब 37 करोड़ रूपये और कैथल में 21 करोड़ रूपये की राशि से तीनों जिलों में पांच-पांच सड़कों की मरम्मत होगी। इनके अलावा हिसार जिला में करीब 7 करोड़ रूपये, पानीपत में करीब 9 करोड़ रूपये, यमुनानगर में 6 करोड़ रूपये व पंचकुला में 9 करोड़ रूपये की लागत से चारों जिलों में तीन-तीन सड़कें मरम्मत कर सुधारी जाएगी।

दुष्यंत चौटाला ने बताया कि सरकार सिरसा जिला में 9 करोड़ रूपये खर्च कर दो सड़कों का मरम्मत कार्य करवाएगी। वहीं यमुनानगर में 1.28 करोड़ रूपये, पलवल में 2.73 करोड़ रूपये, जींद में करीब तीन करोड़ रूपये व अंबाला में 1.21 करोड़ रूपये खर्च किए जाएंगे और इन चारों जिलों में एक-एक सड़क का मरम्मत कार्य करवाते हुए सड़कों का सुधार किया जाएगा।

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि गांव को शहर-कस्बों से जोड़ने वाली सड़कों पर प्रदेशवासी आरामदायक सफर कर सके। उन्होंने कहा कि इससे गांव और शहर की कनेक्टिविटी बढ़ेगी और सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी।