पंचायत एक कमरा दे, सरकार उसमें बनाएगी आधुनिक लाइब्रेरी - दुष्यंत चौटाल
- सरकार का लक्ष्य, हर गांव में हो मॉडर्न सरकारी लाइब्रेरी - उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला

चंडीगढ़, 9 अगस्त। अब नौकरी की तैयारी करने वाले गांवों के विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए शहर नहीं जाना पड़ेगा क्योंकि प्रदेश सरकार उनके लिए गांव में ही ऐसी व्यवस्था स्थापित कर देगी कि वे प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकेंगे। इसके लिए प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने प्रदेशभर के हर गांवों में कोचिंग सेंटर के तर्ज पर मॉडर्न लाइब्रेरी स्थापित करने का लक्ष्य रखा है। डिप्टी सीएम ने सभी ग्राम पंचायतों से आह्वान किया है कि वे अपने-अपने गांव में लाइब्रेरी बनाने के लिए कमरा देने का कार्य करे, राज्य सरकार वहां अपने खर्चे पर ग्रामीण आंचल के पढ़ने वाले बच्चों को मॉडर्न लाइब्रेरी बनाकर तोहफे के रूप में देने का काम करेगी।

डिप्टी सीएम ने बताया कि वे गांवों में बनने वाली आधुनिक लाइब्रेरी में बच्चों की ऑनलाइन शिक्षा के लिए कंप्यूटर, नौकरी की तैयारी के लिए संबंधित प्रतियोगी परीक्षा की सभी किताबें उपलब्ध करवाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी गांवों में सामूहिक जगह चौपाल या जहां भी ग्राम पंचायत लाइब्रेरी के लिए कमरा उपलब्ध करवाएगी वहां जितना भी खर्चा आएगा, उसे सरकार वहन करते हुए मॉडर्न लाइब्रेरी बनाएगी। उन्होंने कहा कि गांवों मंन इस व्यवस्था के स्थापित होने के बाद ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को किताबें तथा कोचिंग लेने के लिए शहर नहीं जाना पड़ेगा और वे अपने गांव में ही प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकेंगे।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों की शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए यह लंबे समय से आवश्यकता थी और वे इसके लिए बतौर सांसद से लेकर अब उपमुख्यमंत्री के तौर पर निरंतर जोर दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि बतौर सांसद उन्होंने अपने क्षेत्र के प्राइमरी स्कूल में आधुनिक लाइब्रेरी बनाई थी और अब बतौर उपमुख्यमंत्री उन्होंने जींद व उचाना हलके के गांव करसिंधु में मॉडर्न लाइब्रेरी स्थापित करने का कार्य शुरू किया है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए आगामी समय में अन्य और भी कई अहम कदम उठाने जा रही है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के आधारभूत ढांचे को बदलने के लिए हमें टेक्नोलॉजी की तरफ तेजी के साथ आगे बढ़ना होगा और इस पर सरकार निरंतर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार केंद्र सरकार के मॉडल स्कूलों की तर्ज पर प्रदेश के प्रत्येक ब्लॉक में संस्कृति मॉडल स्कूल बनाने और प्राइमरी स्कूलों को बैग फ्री करते हुए उन्हें मॉडर्न स्कूल की ओर ले जाने जैसे कई महत्वपूर्ण कदम उठाएगी

====================================

- किसानों को मिलेगा अपनी फसल कहीं भी बेचने का अधिकार - उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला

- कपास की फसल के नुकसान पर स्पेशल गिरदावरी के दिए आदेश - दुष्यंत चौटाला

उचाना/चंडीगढ़, 9 अगस्त। मार्केटिंग बोर्ड भंग होने की चल रही चर्चाओं पर विराम लगाते हुए प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि मार्केटिंग बोर्ड भंग नहीं होगा बल्कि पहले किसान पर प्रतिबंध था कि वो अपनी फसल को केवल मार्केट कमेटी के दायरे में ही बेच सकता था लेकिन अब किसान अपनी फसल को देश में कहीं भी बेच सकता है। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में सरकार को रेवेन्यू लॉस जरूर होगा लेकिन किसानों को फायदा ही होगा। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कोई भी व्यक्ति मार्केट कमेटी की मंडियों से बाहर फसल खरीदना, बेचना चाहता है उन पर प्रतिबंध जो पहले था, वो अब नहीं है। वे उचाना हलके में लोगों की समस्याएं सुनने के बाद किसान सेवा केंद्र में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

डिप्टी सीएम ने कहा कि कुछ दिन पहले हुई बारिश के बाद उचाना, नरवाना के कई गांवों में कपास की फसल को नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि इसको लेकर स्पेशल गिरदावरी के आदेश दे दिए है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसानों को किसी तरह का नुकसान नहीं होने दिया जाएगा और स्पेशल गिरदावरी करवाकर किसानों को मुआवजा सरकार देगी।

वहीं बरोदा उपचुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि बरोदा उपचुनाव अब तक घोषित नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि कोरोना की क्या स्थिति रहेगी, उसको देखते हुए कब चुनाव घोषित होंगे उसके बाद ही गठबंधन अपने उम्मीदवार को लेकर फैसला लेगी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि बरोदा में निश्चित रूप से गठबंधन उम्मीदवार जीतेगा।

इस अवसर पर जोरा डूमरखा, प्रो. जगदीश सिहाग, विश्ववीर नंबरदार, भलेराम श्योकंद, शमशेर नगूरां, नसीब घसो, वीरेंद्र संदलाना, महीपाल खेड़ी मंसानिया, धूला राम थुआ, मोनी छातर, भूरिया श्योकंद, कर्ण सिंह दरोली, सिकंदर बुडायन, अश्वनी, सूर्यदेव सुदकैन, राकेश चहल, साब छातर, कपिल श्योकंद, नरेंद्र सुदकैन, वीरेंद्र कौशिक, सरणा तारखां, नंदलाल शर्मा, ओमदत्त डाहोला, पप्पू नगूरां मौजूद रहे।