असंगठित श्रमिकों की जिंदगी बदल देगा नया पोर्टल - डिप्टी सीएम

- हर परिवार तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाना सरकार का मकसद - दुष्यंत चौटाला

- मील का पत्थर साबित होगी परिवार पहचान पत्र योजना - उपमुख्यमंत्री

चंडीगढ़, 4 अगस्त। अब प्रदेश में असंगठित क्षेत्र से जुड़ा कोई भी श्रमिक सरकार की ओर मिलने वाली योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं रहेगा। इतना ही नहीं सरकार स्वयं कामगारों को सूचित कर घर बैठे ही उनका हक पहुंचाने का काम करेगी, बस इसके लिए असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा। प्रदेश उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने पंचकुला में मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा लॉन्च किए गए पोर्टल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के असंगठित श्रमिकों के हित के लिए राज्य सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए उनके पंजीकरण के लिए एक वेब पोर्टल लॉन्च किया है। इस पोर्टल के माध्यम से जहां राज्य के असंगठित श्रमिकों का पंजीकरण करके डाटा तैयार होगा तो वहीं उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

डिप्टी सीएम ने कहा कि आज असंगठित श्रमिकों का डाटा न होने की वजह से उन्हें कोई भी मॉनिटर नहीं कर पाता है और वे सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रह जाते है। उन्होंने कहा कि अब इसके लिए हरियाणा सरकार ने बड़ा ऐतिहासिक कदम उठाया हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा लॉन्च किए गये इस नये वेब पोर्टल के जरिये प्रदेश भर असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों का डाटा तैयार होगा और जिससे सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में पारदर्शिता आएगी। दुष्यंत चौटाला ने बताया कि पोर्टल पर पंजीकृत होने के बाद असंगठित क्षेत्र के कामगारों को उनकी जरूरत के मुताबिक उन्हें निपुण करने, नए रोजगार के नए अवसर देने तथा अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ देने में मदद मिलेगी।

वहीं उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इसके साथ-साथ आज हरियाणा सरकार ने एक और ऐतिहासिक कदम उठाया है। उन्होंने परिवार पहचान पत्र योजना को लेकर कहा कि यह योजना परिवारों को समृद्ध बनाने की दिशा में सार्थक व ऐतिहासिक कदम हैं और इससे सरकार की योजनाओं का प्रभावी तरीके से प्रत्येक प्रदेशवासी तक पारदर्शिता से लाभ पहुंचाने में पूरी सहायता मिलेगी। डिप्टी सीएम ने कहा कि उनका मानना है कि आने वाले समय में प्रदेश सरकार की अलग-अलग योजनाओं को प्रभावी तरीके से प्रत्येक प्रदेशवासी तक पहुंचाने में परिवार पहचान पत्र की अहम भूमिका होगी और यह योजना रीढ़ की हड्डी साबित होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने इस योजना को लागू कर बड़ा बदलाव लाने का कार्य किया है और प्रदेश को इसकी लंबे समय से जरूरत थी।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इसका फायदा हमने कोरोना महामारी के शुरूआत में जब हरियाणा सरकार ने श्रम कल्याण बोर्ड में निर्माण क्षेत्र से जुड़े सभी श्रमिकों को एक हजार रूपये प्रति सप्ताह की सहायता राशि देने का निर्णय लिया था, उसमें देखने को मिला। उन्होंने बताया कि जितने भी सरकार के पास रजिस्टर्ड वर्कर थे, उन्हें परिवार पहचान पत्र के डाटा से सिंक किया। उन्होंने कहा कि इस दौरान यह भी देखने को मिला कि कई जगहों पर टेक्नोलॉजी न होने की वजह से अन्य लोग फायदा उठा रहे थे और जिन्हें यह मदद मिलनी चाहिए थी वे वंचित रह गये।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के संकट के बीच सरकार ने जनता तक पहुंचाने वाली सुविधाओं में आने वाली परेशानियों को अवसर बनाया और इन्हें दुरुस्त करने की दिशा में मजबूती के साथ आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दौरान चाहे डिस्ट्रेस राशन टोकन वितरित करने की बात हो या रोजगार पोर्टल, मिस्ट्री एप आदि लॉच करना हो, सरकार ने ऐसे तमाम कदम जनहित में उठाए।

डिप्टी सीएम ने बताया कि इसी वर्ष 26 जनवरी, 2020 को गणतंत्र दिवस के अवसर पर गांव सिरसी को लाल डोरा से मुक्त करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश सरकार ने परिवार समृद्धि योजना को लॉच किया था। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि छह महीने के कम समय में 80 प्रतिशत से ज्यादा प्रदेश की आबादी (करीब 1 करोड़ 94 लाख लोग/56 लाख परिवार) को परिवार पहचान पत्र से जोड़ने का काम किया है। उन्होंने पूरा विश्वास जताते हुए कहा कि जिस प्रगति से इस योजना पर कार्य चल रहा है, इसके अनुसार प्रदेश सरकार आगामी 40 दिनों में ही 100 प्रतिशत हरियाणा के लोगों को परिवार पहचान पत्र योजना से जोड़ने का कार्य करेगी। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं प्रदेश का नागरिक सरकार द्वारा उसे मिलने सभी योजनाओं को पीपीपी (परिवार पहचान पत्र) के माध्यम से एक क्लिक के साथ देख सकेगा तो वहीं सरकार बेहतर तरीके से प्रदेशवासियों को मिलने वाली सरकारी सुविधाओं को उन तक पहुंचाने का कार्य कर सकेगी।

-------------------------------------------------------------------------------------

- अब रिहायशी क्षेत्र के साथ-साथ दूसरी सम्पति का भी होगा सर्वे
- डिप्टी सीएम ने दिए अधिकारियों को आदेश

चंडीगढ़, 4 अगस्त। अब प्रदेश में आबादी वाले क्षेत्र के साथ-साथ कृषि सहित अन्य भूमि व जायदाद का भी ड्रोन सर्वे होगा। यह आदेश मंगलवार को प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने दिए। वे मंगलवार को चंडीगढ़ में अपने कार्यालय में ‘हरियाणा लार्ज स्केल मैपिंग एंड स्वामित्व प्रोजेक्टस’ से संबंधित अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।


डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आबादी देह के साथ-साथ राजस्व संपदा का भी ड्रोन-सर्वे किया जाए ताकि लोगों को उनके मालिकाना हक की संपत्ति का ऑनलाइन रिकार्ड मिल सके। उन्होंने महात्मा गांधी जयंती 2 अक्तूबर 2020 तक लक्षित 242 गांवों में आबादी देह के सर्वे को जल्द से जल्द पूरा करने के भी निर्देश दिए, उस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे देश में हर जिला के एक गांव को लाल डोरा मुक्त करने की घोषणा करके डीड-टाइटल वितरित करेंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा में प्रत्येक जिला से 11 गांवों अथवा कुल 242 गांवों को 2 अक्तूबर तक लाल डोरा मुक्त किए जाने का लक्ष्य है।

बैठक में डिप्टी सीएम को जानकारी दी गई कि उक्त 242 गांवों के अतिरिक्त 8 अन्य गांवों में भी ड्रोन सर्वे का कार्य तो पूरा कर लिया गया है बाकि कार्य भी तेजी से किए जा रहे हैं। यही नहीं 214 गांवों में डाटा-प्रोसेसिंग भी पूरा हो गया है। यह भी बताया कि 123 गांवों के मैप जिला प्रशासन को सौंप दिए गए हैं। जब उपमुख्यमंत्री को जानकारी दी गई खराब मौसम के चलते कुछ ड्रोन खराब हो गए थे तो उपमुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि अतिरिक्त ड्रोन मंगवा कर कार्य जल्द से जल्द पूरा किया जाए।

दुष्यंत चौटाला ने सर्वे ऑफ इंडिया के अधिकारियों को निर्देश दिए कि आबादी देह के साथ-साथ राजस्व-संपदा का भी सर्वे किया जाए ताकि एक-एक इंच जमीन के मालिकाना हक का पता चल सके। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लोगों को यह लाभ होगा कि वे अपनी जमीन का डिजिटली रिकॉर्ड कभी भी ले सकेंगे। इससे उनके समय व संसाधनों की बचत होगी। उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार ने सर्वे ऑफ इंडिया से जो समझौता किया था, इसमें ड्रोन सर्वे से जहां गांव-शहर, राजस्व की संपत्तियों की हद को सुरक्षित किया जाएगा, वहीं किसी भी प्रकार के अतिक्रमण से निपटना सुनिश्चित होगा। उन्होंने कहा कि इससे व्यवस्था में पादर्शिता आएगी।

बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन, भूमि रिकार्ड हरियाणा की निदेशक कुमारी आमना तसनीम, उपमुख्यमंत्री के विशेष कार्यकारी अधिकारी कमलेश कुमार भादू, सर्वे ऑफ इंडिया चंडीगढ़ के निदेशक श्री प्रशांत कुमार समेत अन्य वरिष्ठï अधिकारी उपस्थित थे।

=================================================================

5 हजार यूनिट रक्त और 15 हजार पौधों के साथ मना इनसो का दो दिवसीय स्थापना दिवस

डॉ. अजय चौटाला व जेजेपी के 8 विधायकों ने लगाए पौधे, हजारों युवाओं ने दिया जीवनरक्षक रक्त

- बुधवार को प्रदेशभर के गांवों-शहरों को किया जाएगा सेनेटाइज, ऑनलाइन रैली के माध्यम से डॉ. अजय चौटाला देंगे युवाओं को संदेश

चंडीगढ़, 4 अगस्त। छात्र संगठन इनसो के 18वें स्थापना दिवस के अवसर पर शुरू हुए दो दिवसीय कार्यक्रम की कड़ी में मंगलवार को इनसो कार्यकर्ताओं ने प्रदेशभर में करीब पांच हजार यूनिट रक्तदान किया और 15 हजार से अधिक पौधे लगाए। यह जानकारी इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने दी।

दिग्विजय चौटाला ने बताया कि प्रदेशभर में इनसो द्वारा आयोजित रक्तदान शिविरों में युवा साथियों ने बढ़कर भाग लेते हुए रक्तदान किया। उन्होंने कहा कि इनसो संस्थापक डॉ. अजय सिंह चौटाला समेत जेजेपी-इनसो के वरिष्ठ नेताओं तथा पार्टी के आठ विधायकों ने सभी जिलों में पौधारोपण के बाद जिलों में आयोजित रक्तदान शिविरों का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि जींद में डॉ. अजय सिंह चौटाला, करनाल में जेजेपी प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह, हिसार में राज्य मंत्री अनूप धानक, दादरी में जेजेपी विधायक नैना सिंह चौटाला, अंबाला में जेजेपी विधायक रामनिवास वाल्मिकी, भिवानी में विधायक जोगीराम सिहाग, कैथल में विधायक ईश्वर सिंह, कुरुक्षेत्र में विधायक रामकरण काला, रोहतक में विधायक अमरजीत ढांडा, सिरसा में विधायक देवेंद्र सिंह बबली तथा बाकी जिलों में पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की और रक्तदाताओं का हौंसला बढ़ाया ।

जींद में डॉ. अजय सिंह चौटाला ने रक्तदान शिविर का उद्घाटन करने उपरांत वहां खुद रक्तदान किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इनसो के रूप में जो पौधा उन्होंने कई साल पहले लगाया था आज वो निरंतर फल-फूल रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीति में छात्र राजनीति का बड़ा महत्व होता है और कई बड़े नेता हुए जो छात्र राजनीति से ही आगे आए। डॉ. अजय चौटाला ने कहा कि इस बार इनसो के स्थापना दिवस पर जन संदेश देने के लिए दो दिनों तक प्रदेश स्तर पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

हिसार में राज्यमंत्री अनूप धानक ने पौधों को संरक्षित तथा वायुमंडल को स्वच्छ रखने का संदेश दिया और इसके उपरांत रक्तदान शिविर का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि हमें अपने जीवन में अधिक से अधिक पेड़ लगाकर जीवन को सुरक्षित बनाने में अपना सहयोग देना चाहिए क्योंकि प्रकृति से खिलवाड़ हमें विनाश की तरफ ले जाएगा। अनूप धानक ने रक्तदान शिविर का उद्घाटन करते हुए कहा कि हम सभी को नियमित अंतराल के बाद रक्तदान करना चाहिए क्योंकि दान किए गए रक्त से दुर्घटना में घायल मरीजों, गर्भवती महिलाओं व अन्य पीड़ितों को जीवनदान मिलता है।

दादरी में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंची विधायक नैना सिंह चौटाला ने कहा कि छात्रों हितों को पूरा करने और युवाओं के अधिकारों की रक्षा करने के लिए इनसो सदैव संघर्षशील रही है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2003 में जब डॉ. अजय सिंह चौटाला ने इनसो की स्थापना की तब उनका लक्ष्य केवल एक ही था कि आम घर का युवा राजनीति में आगे बढ़े और देश और प्रदेश की भलाई के लिए काम करें। आज इनसो की अनुशासित टीम को देखकर लगता है कि डॉ अजय सिंह चौटाला का सपना जरूर पूरा होगा।

सिरसा में पौधारोपण व रक्तदान शिविर के दौरान टोहाना से जेजेपी विधायक देवेंद्र बबली बतौर मुख्यातिथि शरीक हुए और उन्होंने दोनों ही कार्यक्रमों में इनसो के पदाधिकारियों व सदस्यों का हौंसला बढ़ाया।

वहीं कैथल में गुहला से जेजेपी विधायक ईश्वर सिंह ने पौधारोपण के बाद रक्तदान शिविर का उद्घाटन करते हुए कहा कि रक्तदान करने से इंसान जहां दूसरों की जिंदगी बचाने का कार्य करता है तो वहीं खुद के लिए भी रक्तदान करना लाभकारी होता है। कुरुक्षेत्र में शाहबाद से जेजेपी विधायक रामकरण काला ने कोरोना महामारी के दौरान रक्तदान को महादान बताया और कहा कि इस समय रक्तदान करके युवा साथी पुण्य करने का काम कर रहे है। अंबाला में नरवाना से जेजेपी विधायक रामनिवास वाल्मिकी, भिवानी में बरवाला से पार्टी के विधायक जोगीराम सिहाग तथा रोहतक में जुलाना से जेजेपी विधायक अमरजीत ढांडा ने कार्यक्रम में शिरकत कर युवाओं को रक्तदान के लिए प्रेरित किया।

दिग्विजय चौटाला ने इनसो के साथियों का धन्यवाद करते हुए कहा कि जैसे पौधारोपण तथा रक्तदान शिविरों को युवाओं ने बढ़चढ़ कर भाग लेते हुए इन्हें फल बनाया, इसी तरह पांच अगस्त को शहरों और गांवों को सेनिटाइज किया जाएगा और कोरोना से बचाव हेतू लोगों को मास्क, सेनेटाइजर आदि वितरित किए जाएंगे। इसके उपरांत शाम को एक एक ऑनलाइन रैली के माध्यम से डॉ. अजय सिंह चौटाला युवाओं को अपना संदेश देंगे, जिसमें लाखों युवा भाग लेंगे।