सोलन दिनांक 04.06.2020
सोलन जिला में 2677 व्यक्ति स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में- डाॅ. गुप्ता

कोविड-19 के खतरे के दृष्टिगत स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय के दिशा-निर्देशानुसार सोलन जिला में वर्तमान में 2677 व्यक्तियों को निगरानी में रखा गया है। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 2677 व्यक्तियों में से 2352 व्यक्तियों को होम क्वारेनटाईन किया गया है। इनमें से 2045 व्यक्ति ऐसे हैं जिन्हें अन्य राज्योें से जिला में आने के उपरान्त होम क्वारेनटाईन किया गया है। 307 अन्य व्यक्ति होम क्वारेनटाइन हैं। 303 व्यक्ति संस्थागत क्वारेनटाईन में हैं। 06 व्यक्तियों को आईसोलेट किया गया है। इनमें से 02 व्यक्ति ईएसआई काठा, 02 व्यक्ति एमएमयू कुम्हारहट्टी, 01 व्यक्ति सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नालागढ़ तथा 01 व्यक्ति ईएसआई परवाणू में आईसोलेट किया गया है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि जिला में अभी तक 8554 व्यक्ति 14 दिन की निगरानी अवधि पूर्ण कर चुके हैं।
उन्होंने कहा कि जिला में अभी तक कुल 11231 व्यक्तियों को निगरानी में रखा जा चुका है।
उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेन्सिग नियम का पालन करें और दो व्यक्तियों के मध्य कम से कम दो गज की दूरी बनाए रखें। उन्होेंने सभी से आग्रह किया कि आरोग्य सेतु एप डाऊनलोड करें और इस एप में दिए गए निर्देशों का पालन करें। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों से आ रहे सभी व्यक्तियों को क्वारेनटाइन के सम्बन्ध में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशांे का पालन करना आवश्यक है।

==============================================

सोलन दिनांक 04.06.2020
आवश्यक आदेश

जिला दण्डाधिकारी सोलन केसी चमन ने कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश में बाहरी राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की पूर्ण जानकारी रखने, उनमें कोविड-19 के लक्षणांे का ब्यौरा, मानक के अनुसार परीक्षण तथा उनकी क्वारनेटाइन अवधि के विषय में प्रदेश सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुरूप आदेश जारी किए हैं।
इन आदेशों के अनुसार जिला के टीटीआर परवाणू तथा बद्दी में स्थापित चेकपोस्ट राज्य में बाहरी राज्यों से होने वाले आवागमन के दृष्टिगत क्रियाशील रहेंगे। पुलिस अधीक्षक सोलन तथा पुलिस अधीक्षक बद्दी यह सुनिश्चित बनाएंगे कि राज्य में बाहरी राज्यों से होने वाला आवागमन आदेशों के अनुरूप केवल प्रवेश पत्र/अनुमति पत्र के माध्यम से ही हो। अंतररराज्यीय चेकपोस्ट पर भीड़ एकत्र न होने देने के लिए इन व्यक्तियों के प्रवेश समय को क्रमबद्ध किया जाएगा।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित बनाएंगे कि उपरोक्त चेकपोस्ट के माध्यम से प्रदेश में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को ऐसे सूचनाप्रद पैम्फलेट उपलब्ध करवाए जाएं जिनमें होम क्वारेनटाइन की आवश्यकता एवं तरीके के बारे में विवरण दिया हो।
पुलिस विभाग इन अंतरराज्यीय नाकों पर ‘कोविड-19 ई-पास सत्यापन’ एप्लीकेशन का प्रयोग कर यह सुनिश्चित बनाएगा कि ई-पास पर दर्शाए गए क्यूआर कोड को स्केन कर जानकारी सर्वर को प्रदान की जाए। यदि किसी कारणवश क्यूआर कोड स्केन नहीं हो पा रहा है तो प्रवेश पत्र की संख्या मैनुअली दर्ज की जाए तथा अन्य सभी जानकारियां प्रक्रिया अनुसार प्रस्तुत की जाएं।
सम्बन्धित उपमण्डलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अथवा नगर पंचायत के सचिव सम्बन्धित पंचायत, नगर परिषद अथवा नगर पंचायत के माध्यम से यह सुनिश्चित बनाएंगे कि अंतरराज्यीय नाकों से प्रवेश करने वाले जिलावासी निर्धारित स्थान तक पहुंचे। यदि जिला से सम्बन्धित कोई व्यक्ति ई-पास में दर्शाए गए सोलन जिला के निर्धारित स्थान तक नहीं पहुंच पाता है तो उसे अपने क्षेत्राधिकार में सक्रिय रूप से तलाशा जाए अथवा निगरानी में रखा जाए। यदि कोई व्यक्ति निर्धारित स्थान तक नहीं पहुंचता है तो उसके विरूद्ध हिमाचल प्रदेश महामारी रोग (कोविड-19), नियमन 2020 एवं अन्य उपयुक्त अधिनियमों के अनुरूप कार्रवाई की जाएगी।
सोलन जिला से चिकित्सा, व्यापार अथवा अन्य आधिकारिक कार्य के लिए राज्य से 48 घण्टे से कम की अवधि के लिए अनुमति प्राप्त कर बाहर जाने वाले ऐसे व्यक्तियों को क्वारेनटाइन नहीं किया जाएगा जिनमें कोविड-19 का कोई लक्षण नहीं है। बीमारी के लक्षण वाले व्यक्तियों की निगरानी की जाएगी तथा सम्बन्धित उपमण्डलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित बनाएंगे कि उनका कोविड-19 के लिए परीक्षण किया जाए।
सम्बन्धित पुलिस अधीक्षक, जिला के सभी उपमण्डलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित करेंगे कि बाहरी राज्यों से आने वाले सभी व्यक्ति अनिवार्य रूप से 14 दिन के लिए क्वारेनटाइन में रहें। फ्लू तथा इन्फ्लुएंजा जैसे लक्षणों वाले व्यक्तियों को 14 दिन की अतिरिक्त निगरानी में रहना होगा।
सम्बन्धित उपमण्डलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अथवा नगर पंचायत के सचिव यह सुनिश्चित बनाएंगे कि बाहरी राज्यों से आने वाले ऐसे सभी यात्रियों को 14 दिन के लिए होम क्वारेनटाइन किया जाए जो 48 घण्टे से अधिक की अवधि के लिए प्रदेश से बाहर रहे हों और जो ऐसे शहरों से न आ रहे हों जिन्हें कोविड-19 संक्रमण के लिए उच्च श्रेणी स्थल के रूप में चिन्हित किया गया है। इन सभी व्यक्तियों को 14 दिन की अतिरिक्त निगरानी में रहना होगा। यदि इन व्यक्तियों में फ्लू अथवा इन्फ्लुएंजा के लक्षण पाए जाते हैं तो यह व्यक्ति या तो निगरानी कर्मी को सूचित करेंगे अथवा टोल फ्री नम्बर 104 पर सूचना देंगे।
सम्बन्धित पुलिस अधीक्षक, जिला के सभी उपमण्डलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित बनाएंगे कि कोविड-19 संक्रमण के लिए उच्च श्रेणी स्थल के रूप में चिन्हित शहरों से यात्रा करने वाले सभी अंतरराज्यीय यात्रियों को संस्थागत क्वारेनटाइन किया जाए और इस सम्बन्ध में स्वास्थ्य मानकों का पूर्ण पालन किया जाए।
कोविड-19 संक्रमण के लिए मुम्बई, चेन्नई, अहमदाबाद, थाने, पूना, हैदराबाद, थिरूवल्लूर, कोलकाता अथवा हावड़ा, इंदौर, जयपुर, जोधपुर, चेंगलपट्टू तथा दिल्ली राज्य (नई दिल्ली, शाहदरा, दक्षिण दिल्ली, उत्तर-पूर्वी एवं दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली जिलों के अतिरिक्त) को उच्च श्रेणी स्थल के रूप में चिन्हित किया गया है। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित उच्च कोविड-19 संक्रमित शहरों को इस सूची में जोड़ा जाएगा।
जिला के सभी उपमण्डलाधिकारी एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी यह सुनिश्चित बनाएंगे कि संस्थागत क्वारेनटाइन केन्द्र से होम क्वारेनटाइन के लिए तब तक किसी भी व्यक्ति को नहीं छोड़ा जाएगा जब तक प्रयोगशाला अथवा स्वास्थ्य विभाग से इस सम्बन्ध में लिखित पुष्टि प्राप्त नहीं हो जाती।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित करेंगे कि यदि किसी व्यक्ति में क्वारेनटाइन अथवा निगरानी अवधि में कोविड-19 जैसे लक्षण पाए जाते हैं तो उसके रक्त नमूने एकत्र कर परीक्षण किया जाए।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन यह सुनिश्चित बनाएंगे कि अंतरराज्यीय यात्रा करने वाले बिना लक्षण वाले यात्रियों विशेषकर आयु एवं रोग के अनुसार अति संवेदनशील जनसंख्या का क्रमरहित (रेन्डम) परीक्षण किया जाए ताकि समय पर बीमारी का पता लगाकर इन्हें आईसोलेट किया जा सके और बीमारी को फैलने से रोका जा सके।
जिला दण्डाधिकारी ने आदेश दिए हैं कि बाहरी राज्यों से आने वाला कोई भी यात्री 28 दिन की निगरानी अवधि में घर पर या बाहर 60 वर्ष से अधिक आयु के किसी व्यक्ति अथवा मधुमेह, उच्च रक्तचाप, दमा, गुर्दा रोग से पीड़ित या अन्य रोगियों से नहीं मिलेगा।
यदि किसी व्यक्ति का कोविड-19 संक्रमण के लिए परीक्षण पाॅजिटिव पाया जाता है तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन मानक अनुसार इस सम्बन्ध में कार्रवाई अमल में लाएंगे।

===============================================

सोलन दिनांक 04.06.2020
सोलन जिला से आज कोरोना संक्रमण जांच के लिए भेजे गए 273 सैम्पल

गत दिवस के 209 रक्त नमूनों में से 204 की रिपोर्ट नेगेटिव, 05 सैम्पल की होगी पुनः जांच
सोलन जिला से आज कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के लिए 273 व्यक्तियों के रक्त नमूने केन्द्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली भेजे गए। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.एन.के गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 273 रक्त नमूनों में से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नालागढ़ से 121, नागरिक अस्पताल बद्दी से 46, ईएसआई काठा से 10, क्षेत्रीय अस्पताल सोलन से 31, एमएमयू कुम्हारहट्टी से 06, नागरिक अस्पताल अर्की से 17, ईएसआई परवाणू से 14 तथा ईएसआई झाड़माजरी से 28 सैम्पल कोरोना वायरस संक्रमण जांच के लिए भेजे गए हैं।
उन्होंने कहा कि गत दिवस भेजे गए 209 रक्त नमूनों में से 204 की रिपोर्ट नेगेटिव प्राप्त हुई है। 05 सैम्पल को पुनः जांच के लिए भेजा जा रहा है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वाले लोगों से आग्रह किया कि वे क्वारेनटाइन सम्बन्धी दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन करें। उन्होंने कहा कि इन नियमों की अनुपालना न केवल बाहर से आने वाले व्यक्तियों के परिवारों अपितु समाज को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने में सहायक सिद्ध होगी।
डाॅ. गुप्ता ने सभी से आग्रह किया कि खांसी, जुखाम, बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर शीघ्र समीप के स्वास्थ्य संस्थान से सम्पर्क करें। इस सम्बन्ध में किसी भी सहायता के लिए हैल्पलाईन नम्बर 104 तथा दूरभाष नम्बर 221234 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

===============================================
.कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के चार नए मामलेः डीसी
सभी को कोविड केयर सेंटर बैजनाथ में किया शिफ्ट
नौ कोविड पॉजिटिव नागरिकों की रिपोर्ट नेगेटिव
कांगड़ा जिला में एक्टिव केस 49 तथा 48 नागरिक हुए स्वस्थ्य
धर्मशाला, 04 जून। कांगड़ा जिला में कोविड-19 के चार नए पॉजिटिव मामले आए हैं, इसमें तीन पुरूष तथा एक महिला शामिल है ये सभी बैजनाथ उपमंडल से संबंधित हैं। दो नागरिक होम क्वारंटीन में थे जबकि दो संस्थागत क्वांरटीन में रखे गए थे। परौर संस्थागत क्वारंटीन में रखा गया एक नागरिक स्पाईस जेट की फ्लाइट से यूएसए से धर्मशाला 29 मई को आया था इसके संपर्क में आए नागरिकों की पहचान की जा रही है तथा सभी के सेंपल भी लेने के निर्देश दिए गए हैं ताकि किसी भी स्तर पर कोरोन संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। कोविड-19 के पॉजिटिव नागरिकों को कोविड केयर सेंटर बैजनाथ शिफ्ट कर दिया गया इसके साथ ही नौ कोरोना पाजिटिव नागरिकों की रिपोर्ट नेगेटिव भी आई है। स्वस्थ हुए नागरिकों में तीन ज्योल उपमंडल धर्मशाला के तथा दो लंबागांव, एक नागरिक भवारना से संबंधित है, दो जयसिंहपुर उपमंडल तथा एक पाइसा से संबंधित है इन सभी नागरिकों को सात दिन के लिए होम क्वारंटीन में रहने के निर्देश दिए गए हैं।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि जिला में कोरोना पॉजिटिव के अब तक कुल 98 मामले सामने आ चुके हैं तथा इनमें से 49 एक्टिव केस हैं जबकि 48 पॉजिटिव नागरिक स्वस्थ हो चुके हैं तथा एक की मौत हो चुकी है।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि सामाजिक दूरी की अनुपालना सुनिश्चत करें तथा फ्लू जैसे लक्षण दिखने पर फ्लू कार्नर में ही तुरंत चेकअप करवाएं ताकि किसी भी स्तर पर कोरोना का संक्रमण नहीं फैल सके। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए लोगों को स्वयं ही स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करनी होगी।

==============================================

कोरोना को मात देकर सकुशल घर पहुंचा लंबागांव का एक परिवार
धर्मशाला, 04 जून। कांगड़ा जिला के लंबागांव के एक परिवार के चार सदस्यों ने कोरोना को मात देकर सकुशल घर वापिसी की है। इसी परिवार के कोरोना पॉजिटिव दो सदस्यों सत्तर वर्षीय महिला एवं उसके 48 वर्षीय बेटे का कोविड-19 सेंपल नेगेटिव आया था जबकि वीरवार को इसी महिला की कोविड पॉजिटिव 41 वर्षीय बहू और नौ वर्षीय पोती का सेंपल भी नेगेटिव आने से परिवार में खुशी का माहौल बन गया है।
उल्लेखनीय है कि उक्त परिवार 18 मई को मुंबई से अपने घर के लिए निकला था और इनको संस्थागत क्वारंटीन किया गया और सेंपल भी लिए गए, 23 मई को इनका कोविड-19 का सेंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है इसके पश्चात 73 वर्षीय महिला को उपचार के लिए कोविड अस्पताल धर्मशाला में रखा गया जबकि उसके बेटे, बहू तथा बेटी को कोविड केयर सेंटर बैजनाथ में रखा गया था।
अब कोविड-19 सेंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात परिवार ने राहत की सांस ली है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि बाहरी राज्यों से आने वाले नागरिकों के नियमित तौर पर सेंपल लिए जा रहे हैं तथा संस्थागत क्वारंटीन भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 पॉजिटिव नागरिकों को बैजनाथ, डाढ, धर्मशाला तथा फतेहपुर में कोविड केयर सेंटर स्थापित किए गए हैं जहां पर लोगों की उचित देखभाल की जा रही है। उपायुक्त ने कहा कि कांगड़ा जिला में अब तक 8325 सेंपल लिए जा चुके हैं जिनमें से 7988 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है जबकि कुल पॉजिटिव मामले 98 रिपोर्ट किए गए हैं जिसमें 48 नागरिक स्वस्थ हो चुके हैं और एक की मौत हुई है। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि लोगों को रोगों से लड़ने की क्षमता को मजबूत करना होगा इसके साथ ही सामाजिक दूरी की पूरी अनुपालना भी सुनिश्चित करना होगा।