धर्मशाला 01 जून: कोरोना संकट के दौरान पेंशनर को तीन माह की सामाजिक सुरक्षा पेंशन घर-द्वार वितरित की जा रही है। इस संकट की घड़ी में डाक विभाग पेंशन वितरण में अपनी अहम भूमिका निभा रहा है। डाक विभाग का कर्मचारी अश्वनी कुमार जब रामनगर की 70 वर्षीय बुर्जुग सत्या कटोच तथा 75 वर्षीय महिला रोशनी देवी को उन्हें तीन-तीन महीने की 4500-4500 रुपये अग्रिम पेंशन देने उनके घर पहुंचा तो उनकी खुशी का ठिकाना न था। डाक विभाग के कर्मचारी ने जब उन्हें कहा माता जी प्रदेश सरकार द्वारा बुर्जुगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए तीन माह की अग्रिम पेंशन घर-द्वार दी जा रही है तो उन्होंने कहा कि वे प्रदेश सरकार खासकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की धन्यवादी हैं जिन्होंने इस संकट की घड़ी में हम बुर्जुगों का ख्याल रखा है तथा डाक विभाग के कर्मियों के माध्यम से उन्हें घर-द्वार पेंशन का भुगतान होने से उन्हें होने वाली परेशानियों से भी राहत मिली है।
प्रदेश सरकार द्वारा 70 वर्ष से अधिक बुजुर्गों को 15 सौ रूपये, 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को 850 रूपये, विधवाओं को एक हजार रूपये, 70 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगजनों को 15 सौ तथा 70 प्रतिशत से कम दिव्यांगजनों को एक हजार रूपये प्रतिमाह सामाजिक सुरक्षा पेंशन दी जा रही है।
इस दौरान जब डाक कर्मी अश्वनी कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों को घर में पेंशन पहुंचा कर वह सुखद अहसास महसूस कर रहे हैं साथ ही उन्हंे बुर्जुगों का आशीर्वाद भी प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन के अलावा वे जरूरतमंद लोगों को प्राथमिकता के आधार दवाईयां भी उनके घर पहुंचा रहे हैं।
पोस्टमास्टर दिलीप कुमार का कहना है कि डाक मंडल धर्मशाला के तहत दो मुख्य डाकघर धर्मशाला व पालमपुर आते हैं। जिसमें मुख्य डाकघर धर्मशाला में 34891 सामाजिक सुरक्षा पंेशनर को 12 करोड़ 81 लाख 69 हजार रुपये जारी किये गये हैं जबकि पालमपुर मुख्य डाकघर में 27314 सामाजिक सुरक्षा पेंशनर को 10 करोड़ 5 लाख 85 हजार 950 रुपये जारी किये गये हैं अर्थात डाक मंडल धर्मशाला के अन्तर्गत कुल 62205 लाभार्थियों को 22 करोड़ 87 लाख 54 हजार 950 जारी किये गये हैं। उन्होंने कहा कि डाक विभाग के कर्मचारी कर्मठता से जरूरतमंदों को सहायता राशि का घर-घर पहुंचाकर भुगतान कर रहे हैं। कोरोना और लॉकडाउन काल में यही खासकर ग्रामीण और दुर्गम इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए डाक विभाग बड़ा मददगार बन कर उभरा है।
डाक अधीक्षक धर्मशाला डाक मंडल सोमदत्त राणा का कहना कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के दृष्टिगत डाक वितरित करने वाले सभी कर्मचारियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उन्हें मास्क, सैनिटाईजर व दस्ताने उपलब्ध करवाए गये हैं। कोरोना को खतरे को देखते हुए पेंशन वितरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करने के साथ ही डाकिया पैसे देने से पहले संबंधित लोगों के हाथ भी सेनिटाइज करवा लोगों को लॉकडाउन के नियमों की अनुपालना सुनिश्चित करने को भी प्रेरित करते हैं। उन्होंने कहा कि जिन खाताधारकों के खाते बैंक में हैं, उनके लिए हैंडहेल्ड मशीनें दी गई हैं ताकि वे मशीनों का उपयोग कर अन्य जरूरत की राशि का भुगतान आधार एनवेल्ड पेमेंट(एईपीएस) के जरिये कर सकते हैं। पेंशनधारकों के सामने ही उनकी पासबुकों पर एंट्री करके उनके हस्ताक्षर भी लिये जा रहे हैं।
उपायुक्त राकेश प्रजापति का कहना है कि प्रदेश सरकार ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान समाज के सभी वर्गों विशेषकर कमजोर वर्गों तथा वरिष्ठ नागरिकों के सम्मान को सुनिश्चित करने के लिए सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लाभार्थियों को पोस्टल विभाग के माध्यम से उन्हें घर-द्वार पेंशन भुगतान की सुविधा प्रदान की है। प्रदेश सरकार के इन प्रयासों को लेकर जहां वृद्धजन, दिव्यांगजन तथा विधवा महिलाएं आभार जता रही हैं तो वहीं संकट की इस घड़ी में सरकार ने पेंशन का अग्रिम भुगतान करके समाज के कमजोर तबके को आर्थिक सहारा भी प्रदान किया है।