जनगणना-2021 का पहला चरण अप्रैल माह से होगा आरंभ: डीसी

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को भी किया जाएगा अपडेट
जनगणना की प्रक्रिया में मोबाइल ऐप का भी होगा प्रयोग
धर्मशाला, 25 फरवरी। जनगणना-2021 के तहत पहले चरण में अप्रैल से लेकर सिंतबर-2020 तक जनगणना कर्मी घरों की सूची तथा उसमें रहने वाले व्यक्तियों के आंकड़े एकत्रित करेंगे इसके साथ ही राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को भी अपडेट करेंगे। यह जानकारी उपायुक्त राकेश प्रजापति ने मंगलवार को डीआरडीए सभागार में जनगणना अधिकारियों के आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ करने के उपरांत दी।
उन्होंने कहा कि जनगणना के दूसरे चरण का कार्य नौ फरवरी से लेकर 28 फरवरी 2021 तक पूर्ण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जनगणना की प्रक्रिया में पहली बार मोबाइल ऐप का प्रयोग भी किया जाएगा। जनगणना की प्रक्रिया को सुगम बनाने एवं इसकी गुणवत्ता को सुनिश्चित बनाने के लिए जनगणना निगरानी एवं प्रबंधन पोर्टल की व्यवस्था भी की जाएगी।
उन्होंने बताया कि वर्ष 1872 में शुरू हुई जनगणना प्रक्रिया में समय के अनुरूप कई परिवर्तन हुए हैं तथा जनगणना-2021 को कागज रहित बनाने और जनसंख्या के आंकड़ों के संग्रहण तथा वर्गीकरण की प्रक्रिया को पूर्णतय डिजिटल बनाने पर बल दिया गया है। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा स्वेच्छा से जनसांख्यिकी आंकड़े उपलब्ध करवाने के लिए आनलाइन सुविधा भी प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि जनगणना में प्रत्येक परिवार से 31 प्रश्नों पर आधारित नागरिकों की आर्थिक तथा सामाजिक स्थिति से संबंधित आंकड़े एकत्रित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जनगणना देश में नागरिकों के लिए योजनाएं बनाने हेतु आधार प्रदान करती हैं। उन्होंने नागरिकों से भी आग्रह करते हुए कहा कि जनगणना के कार्य में अपना रचनात्मक सहयोग प्रदान करें ताकि सही आंकड़े एकत्रित किए जा सकें।
इससे पहले सांख्यिकी विभाग के उपनिदेशक राजेंद्र प्रसाद ने जनगणना-2021 की प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि जनगणना कर्मियों को विशेष तौर पर ट्रेनिंग भी दी जाएगी।
इस अवसर पर एडीसी राघव शर्मा, एडीएम मस्त राम सहित उपमंडलाधिकारी तथा विभिन्न जनगणना अधिकारी उपस्थित थे।

=============================

सोलन -दिनांक 25.02.2020
जनगणना-2021 के लिए दो दिवसीय कार्यशाला
आवास सूचीबद्ध करने का कार्य 16 मई से 30 जून 2020 तक

वर्ष 2021 में होने वाले जनगणना कार्य के सुचारू कार्यान्वयन के दृष्टिगत आज यहां जनगणना निदेशालय द्वारा जनगणना अधिकारियों एवं फील्ड प्रशिक्षकों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला की अध्यक्षता उपायुक्त सोलन केसी चमन ने की।
कार्यशाला में जिला के उपमण्डलाधिकारियों, राजस्व अधिकारियों तथा शहरी निकायों के अधिकारियों ने भाग लिया।
केसी चमन ने कहा कि जनगणना देश के विकास का आधार है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर कार्यान्वित किए जाने वाले सभी कार्यक्रमों एवं नीतियों की सफलता के लिए जनगणना के सही आंकड़ों का होना आवश्यक है। यह तभी संभव है जब जनगणना कार्य के लिए नियुक्त अधिकारी एवं कर्मचारी पूर्ण रूप से प्रशिक्षित हों और अपने कार्य को समर्पण एवं निष्ठा के साथ समय पर पूरा करें। उन्होंने कहा कि जनगणना कार्य की सफलता के लिए आमजन का सहयोग भी आवश्यक है। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए आम लोगों को जनगणना के महत्व के विषय में जागरूक बनाया जाएगा।
उपायुक्त ने कहा कि विभिन्न लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं तथा स्थानीय निर्वाचन में जनगणना के आंकड़े महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि जनगणना के आधार पर ही नीतियों व योजनाओं के निर्माण के लिए मूल्यवान सूचना प्राप्त होती है। संसदीय, विधानसभा, पंचायत व अन्य स्थानीय निकायों का परिसीमन एवं निर्वाचन कार्य में आरक्षण जनगणना के आंकड़ों के आधार पर ही किया जाता है।
केसी चमन ने कार्यशाला में उपस्थित सभी अधिकारियों से आग्रह किया कि वे जनगणना कार्य से संबंधित समस्त पहलुओं को सूक्ष्मता से समझें ताकि जनगणना के कार्य को त्रुटिरहित एवं समयबद्ध पूर्ण किया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान अधिकारी एवं कर्मचारी प्रत्येक शंका का निवारण करें।
उन्होंने कहा कि अतिरिक्त उपायुक्त विवेक चंदेल को जनगणना कार्य के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनगणना कार्य को समय पर एवं त्रुटिरहित पूरा करने के लिए संबंधित अधिकारी के साथ दो तकनीकी सहायक संबद्ध किए जाएंगे जो कंप्यूटर पर प्रतिदिन डाटा को अद्यतन करेंगे।
केसी चमन ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आम लोगांे को जनगणना कार्य के बारे में जागरूक करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करें ताकि लोग जनगणना कार्य में पूर्ण रूप से अपना सहयोग दें। उन्होंने निर्देश दिए कि जनगणना कार्य के संबंध में ग्रामीण स्तर पर नुक्कड़-नाटकों के माध्यम से जन-जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएं।
उपायुक्त ने कहा कि जनगणना 2021 के तहत आवासों को सूचीबद्ध करने का कार्य 16 मई से 30 जून 2020 तक किया जाएगा। जनसंख्या गणना का कार्य 09 फरवरी से 28 फरवरी 2021 तक आयोजित होगा। बर्फ से आच्छादित क्षेत्रों में जनसंख्या गणना का कार्य 11 सितम्बर से 30 सितम्बर 2020 तक आयोजित किया जाएगा।
अतिरिक्त जनगणना निदेशक प्रवीण कुमार ने जनगणना कार्य की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
उन्होंने प्रशिक्षण में जनगणना अधिकारियों को उनके उत्तरदायित्व एवं विभिन्न कानूनी प्रावधानों व नियमों के बारे में जानकारी दी। ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में मानचित्र खाके की जानकारी तथा आवास सूचिबद्ध करने वाले अधिकारी के लिए मोबाइल ऐप से संबंधित जानकारी प्रदान की गई। प्रशिक्षण कार्यक्रम में ग्रामीण एवं शहरी रजिस्टर तैयार करने के विषय में भी जानकारी दी गई।
इस अवसर पर भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीविक्षाधीन अधिकारी डॉ. निधि पटेल, अतिरिक्त उपायुक्त विवेक चंदेल, उपमंडलाधिकारी नालागढ़ प्रशांत देष्टा, उपमंडलाधिकारी सोलन रोहित राठौर, उपमंडलाधिकारी कंडाघाट डॉ. संजीव धीमान, सहायक आयुक्त भानु गुप्ता, विभिन्न उपमंडलों के राजस्व अधिकारी एवं शहरी निकायों के अधिकारी उपस्थित थे।

==========================================

पारिस्थितिकीय तन्त्र जीव कोष भवन का लोकार्पण 26 फरवरी को
केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन सचिव सीके मिश्रा 26 फरवरी, 2020 को सोलन के सपरून स्थित भारतीय प्राणी सर्वेक्षण के उच्च उच्छाय क्षेत्रीय केंद्र में पारिस्थितिकीय तन्त्र जीव कोष भवन का लोकार्पण करेंगे तथा ‘फोनल डाईवर्सिटी ऑफ इंडियन ट्रान्स-हिमालयन लैंडस्केप’ विषय पर एक दिवसीय सम्मेलन का शुभारम्भ करेंगे।
कार्यक्रम प्रातः 10.00 बजे से भारतीय प्राणी सर्वेक्षण के उच्च उच्छाय क्षेत्रीय केंद्र में आयोजित किया जाएगा।

===============================================

जिला कार्यबल की बैठक 28 फरवरी को
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के अंतर्गत गठित जिला कार्यबल की बैठक 28 फरवरी, 2020 को उपायुक्त सोलन केसी चमन की अध्यक्षता में आयोजित की जाएगी।
यह बैठक उपायुक्त कार्यालय के सम्मेलन कक्ष में 28 फरवरी को सांय 3.30 बजे आयोजित की जाएगी।

=====================================
.0.