ड्रग्ज (नशा) को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री के जीरो टॉलरैंस वाले बयान का इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने स्वागत करते हुए कहा कि नशे के व्यापार ने हरियाणा के युवाओं को बुरी तरह से अपनी गिरफ्त में ले रखा है।
चंडीगढ़, 15 फरवरी: ड्रग्ज (नशा) को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री के जीरो टॉलरैंस वाले बयान का इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने स्वागत करते हुए कहा कि नशे के व्यापार ने हरियाणा के युवाओं को बुरी तरह से अपनी गिरफ्त में ले रखा है। हरियाणा के उन जिलों में जो पंजाब की सीमा के साथ लगते हैं उनमें नशे का धंधा कोरोना वायरस की तरह अपने पैर मजबूत कर रहा है। ऐसे में तो एक दिन हरियाणा भी 'उड़ता हरियाणाÓ के नाम से बदनाम हो जाएगा। केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा है कि नशे के धंधे को समाप्त करने के लिए भाजपा वचनबद्ध है। परंतु केंद्रीय गृहमंत्री के बयान के बिलकुल विपरीत हरियाणा सरकार तो इस धंधे पर लगाम लगाने की बजाय उल्टा इसे करने वाले राजनीतिज्ञों को भरपूर संरक्षण दे रही है।
इनेलो नेता ने कहा कि विधानसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री ने भी स्वयं माना था कि हरियाणा में नशे के कारण युवाओं का भविष्य अंधकारमय हो रहा है। उन्होंने ने कहा कि नशे के व्यापार बारे वह मुख्यमंत्री व प्रदेश के ग्रह मंत्री को चि_ी लिखकर भी सूचित कर चुके हैं कि उनके हलके ऐलनाबाद में चुनाव के दौरान और अब भी नशे का व्यापार धड़ल्ले से चल रहा है। राजनैतिक संरक्षण के तहत व अधिकारियों की मिलीभगत से इस धंधे के कारण युवाओं का भविष्य चौपट हो रहा है। इस बारे इनेलो नेता ने स्वयं प्रदेश के ग्रह मंत्री से मिलकर ध्यान में भी लाया जा चुका है कि इसके कारण युवाओं के भविष्य के साथ-साथ घर और परिवार दोनों ही बर्बाद हो रहे हैं।
इनेलो नेता ने कहा कि पुलिस छोटे-छोटे नशाखोरों को पकड़ कर अपनी कारगुजारी दिखाकर सरकार की आंखों में धूल झोंक रही है। नशे का धंधा करने वाले बड़े मगरमच्छों पर हाथ डालना पुलिस के बस की बात नहीं क्योंकि उनके सिर पर राजनीतिज्ञों की छत्रछाया जो है। अगर सरकार चाहे तो शाम तक नशे के कारोबार को बंद करा सकती हैं परंतु भाजपा सरकार की नीयत और नीति में अंतर है। भाजपा सरकार द्वारा नशे की गिरफ्त में आए नशेडिय़ों को नशा छुड़ाने का लिए भी कोई सार्थक प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। सरकारी अस्पतालों में नशेडिय़ों के लिए दवाओं आदि की सुविधा नहीं है और उनको मानसिक तौर पर तैयार करने के लिए काउंसिल आदि की व्यवस्था भी नहीं है। इनेलो अपने मतदाताओं से वचनबद्ध है कि हरियाणा के आगामी विधानसभा बजट स्तर में इस मुद्दे को जोरदार ढंग से उठाया जाएगा। नशे के धंधे को बंद करवाने के लिये इनेलो हरियाणा में आम आदमी को गांव-गांव जाकर जागरुक करेगी, अगर आवश्यकता हुई तो प्रदेश स्तर पर हर गली-मोहल्ले में आंदोलन भी चलाया जाएगा।