चण्डीगढ़,13.02.20- : आज श्री चैतन्य गौड़ीय मठ एवं इस्कॉन विशुद्ध कृष्ण भक्ति आंदोलन के प्रणेता श्री भक्ति सिद्धांत गोस्वामी प्रभु पाद जी का 146 वां जन्म महोत्सव मठ मंदिर सेक्टर 20, चण्डीगढ़ में बड़ी धूमधाम से मनाया गया। प्रातः काल मंगल आरती तत्पश्चात संकीर्तन एवं प्रवचन का कार्यक्रम दोपहर तक चलता रहा। मठ मंदिर को बहुत ही आकर्षक ढंग से सजाया गया था बसंत ऋतु में तरह तरह के फूल लगाकर श्री प्रभुपाद जी को फूलों के सेज पर बिठाया गया था। मठ के प्रवक्ता जयप्रकाश गुप्ता ने बताया कि चण्डीगढ़ मठ के अध्यक्ष पूजा बामन जी महाराज ने भक्तों को संबोधित करते हुए कहा आज जो विश्व के कोने-कोने में श्री कृष्ण नाम संकीर्तन गूंज रहा है उसके पर नेता श्री भक्ति सिद्धांत गोस्वामी प्रभु पाद ही थे। उन्होंने पूरे विश्व में हरि नाम रूपी ऐसी छत का निर्माण किया जिसमें जात-पात धर्म का कोई बंधन नहीं। इस हरि नाम संकीर्तन रूपी छत के नीचे प्रत्येक व्यक्ति आकर आनंद पूर्वक वास कर सकता है। संदेश साफ है कि जो हरि को भजे सो हरि का होई। आज पाश्चात्य जगत के लाखों लोग इस हरी नाम आंदोलन के साथ जुड़कर माथे पर तिलक धोती चोटी के साथ कृष्ण नाम संकीर्तन कर वैष्णव जीवन व्यतीत कर रहे हैं। आज मठ मंदिर में भक्तजनों ने अपने इस प्रणेता के जन्म महोत्सव पर नृत्य संकीर्तन कर उनकी कृपा प्रार्थना की भोग आरती के पश्चात उपस्थित सैकड़ों लोगों ने प्रसाद ग्रहण कर प्रभु पाजी को याद किया ।