हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने सैनिक स्कूल रेवाड़ी के निर्माणाधीन भवन के दूसरे चरण के लिए कुल 2083.44 लाख रुपये की धनराशि की स्वीकृति दे दी है।

चंडीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने सैनिक स्कूल रेवाड़ी के निर्माणाधीन भवन के दूसरे चरण के लिए कुल 2083.44 लाख रुपये की धनराशि की स्वीकृति दे दी है।

एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सैनिक स्कूल रेवाड़ी का भवन निर्माण का कार्य चल रहा है। इस निर्माण कार्य के दूसरे चरण के लिए मुख्यमंत्री ने अंदरूनी सडक़ों, पार्किंग तथा वर्षा जल संचयन प्रणाली के लिए 1957.63 लाख रुपये, स्कूल की बाऊंडरी-वॉल के निर्माण के लिए 101.94 लाख रुपये तथा स्ट्रीट-लाईटस एवं सिक्योरिटी-लाईटस के लिए 23.87 लाख रुपये की धनराशि स्वीकृत कर दी है।

============================

हरियाणा के उप मुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला ने सिरसा में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि प्रदेश सरकार स्वास्थ्य के क्षेत्र में मैडिकल व्यवस्था सुधार की दिशा में कार्य कर रही है

चंडीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा के उप मुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला ने सिरसा में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि प्रदेश सरकार स्वास्थ्य के क्षेत्र में मैडिकल व्यवस्था सुधार की दिशा में कार्य कर रही है। इसी कड़ी में वर्तमान सरकार ने अपने सौ दिन के कार्यकाल में दो नये मैडिकल प्रोजैक्ट की शुरूआत की है, ताकि हैल्थ सैक्टर को तकनीकी रूप से विकसित किया जा सके। सरकार का प्रयास रहेगा कि अगले पांच साल में हैल्थ सैक्टर को तकनीकी रूप से मजबूत किया जाए।

उप मुख्यमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि आज जब डबवाली से सिरसा होते हिसार जाते हैं, तो हाईवे पर हर आधा किलोमीटर पर दो होस्पिटल उपलब्ध हैं। अस्पताल में अत्याधुनिक तकनीक के संसाधन उपलब्ध है। सभी डॉक्टरो ने मिलकर शहर को मेडिकल व्यवस्था में अत्याधुनिक बनाने का जो काम किया है, इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का प्रयास है कि मेडिकल व्यवस्था को और अधिक मजबूत किया जाए। वर्तमान सरकार ने अपने सौ दिनों के अंदर ही दो नये मैडिकल प्रोजैक्ट की शुरूआत की है, इससे हैल्थ सैक्टर को और अधिक मजबूत बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मैडिकल की शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र-छात्राएं ग्रामीण क्षेत्र में मैडिकल सुविधाएं बढ़ाने में अपना योगदान दें।

उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने उपस्थित डॉक्टरों से कहा कि वे मेडिकल व्यवस्था में और अधिक सुधार बारे अपने सुझाव दें, ताकि लैब को मोबाइल वैन के माध्यम से भी गांव में सेवाएं उपलब्ध करवाई जा सकें। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में इस तरह की सुविधा उपलब्ध करवाना समय की मांग है। इसी दिशा में शहर के सभी डॉक्टर मिलकर प्रयास करें तो मोबाईल लैब के रूप में मेडिकल सुविधा को और अधिक विकसित किया जा सकता है।

इसके लिए सभी डॉक्टर कल्ब बनाकर एक व्यवस्था बनाएं, इसके लिए सरकार की ओर से जो सहयोग होगा वो दिया जाएगा। सभी मिलकर यदि प्रयास करेंगे तो एक मोबाईल लैब मॉडल के तौर पर सिरसा जिला में शुरू हो सकती है, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के अंतिम व्यक्ति तक ब्लड टैस्ट की सुविधा पहुंचाई जा सके।

===========================

हरियाणा की महिला एवं बाल विकास तथा अभिलेखागार राज्य मंत्री श्रीमती कमलेश ढांडा ने कहा कि राज्य सरकार संतों के दिखाए गए मार्ग पर चलकर हर वर्ग के कल्याण के लिए कार्य कर रही है।

चंडीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा की महिला एवं बाल विकास तथा अभिलेखागार राज्य मंत्री श्रीमती कमलेश ढांडा ने कहा कि राज्य सरकार संतों के दिखाए गए मार्ग पर चलकर हर वर्ग के कल्याण के लिए कार्य कर रही है। संत गुरु रविदास ने मानव जाति को परस्पर प्रेम का संदेश दिया है। उन्होंने सदैव सामाजिक कुरीतियों का विरोध करते हुए मानव कल्याण के लिए कार्य किया। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर विश्व का सबसे बड़ा गुरु रविदास धाम बनाने की घोषणा की गई है, इससे समाज को उनकी शिक्षाओं की और अधिक जानकारी मिलेगी।

श्रीमती ढांडा कैथल जिला के कलायत में संत शिरोमणी गुरु रविदास की 643वीं जयंती पर गुरु रविदास सभा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि बोल रही थी। इस मौके पर राज्य मंत्री ने भवन निर्माण के कार्य के लिए 5 लाख रुपए देने की घोषणा की। इससे पहले राज्य मंत्री ने गुरु रविदास मंदिर में मत्था टेका। उन्होंने उपस्थित श्रद्धालुओं को संत गुरु रविदास जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि गुरु रविदास किसी विशेष वर्ग के नही, अपितु सभी वर्गों के पुजनीय है।

राज्य मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व में हरियाणा में पहली ऐसी सरकार है जिसने गुरु रविदास, महर्षि वाल्मीकि, संत कबीरदास, डॉ. भीम राव अंबेडकर जैसे संतों तथा महापुरूषों की जयंतियों को हर वर्ष सरकारी तौर पर मनाने का निर्णय लिया है, जोकि संतों व महापुरूषों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है। गुरु रविदास के दिखाए गए खुशहाली के मार्ग पर चलते हुए प्रदेश सरकार हरियाणा एक-हरियाणवी एक, सबका साथ-सबका विकास के मूलमंत्र पर चलते हुए अंत्योदय की नीति अपनाते हुए सभी कल्याणार्थ कार्य कर रही है। सरकार द्वारा समाज के कमजोर वर्ग के लिए सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक उत्थान के लिए अनेक योजनाएं लागू की हैं।

आज हम सभी को गुरु रविदास जी के दिखाए गए मार्ग पर चलना चाहिए और उनकी शिक्षाओं को अपने जीवन में धारण करना चाहिए।

============================

हरियाणा के खेल एवं युवा मामले मंत्री श्री संदीप सिंह ने कहा कि देश के लिए मैडल जीतने वाले खिलाड़ी हरियाणा का मान पूरी दुनिया में बढ़ा रहे है।

चण्डीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा के खेल एवं युवा मामले मंत्री श्री संदीप सिंह ने कहा कि देश के लिए मैडल जीतने वाले खिलाड़ी हरियाणा का मान पूरी दुनिया में बढ़ा रहे है। इन खिलाडियों को राज्य सरकार सरकारी नौकरियों में उच्च पदों पर नियुक्त करने के साथ-साथ करोड़ों रुपए की राशि ईनाम के रूप में देने का काम कर रही है। इतना ही नहीं जो खिलाड़ी देश के लिए कुछ अलग करेंगे और उन खिलाडियों को खेल नीति में प्रावधान ना होने के बावजूद अलग से सम्मानित भी किया जाएगा।

खेल मंत्री रविवार को शाहबाद में अपने आवास पर पद्मश्री एवं भारतीय हाकी टीम की कप्तान रानी रामपाल के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर पर पद्मश्री रानी राम पाल को स्मृति चिन्ह देकर सममानित किया। और मंत्री ने अपने नीजि कोष से भारतीय महिला हाकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को 2 लाख रुपए देने की घोषणा भी की है।

खेलमंत्री ने कहा कि पिहोवा में अलग से हाकी कोच को नियुक्त करने की बात कही है और हरियाणा विधानसभा सत्र के बाद सभी खिलाडियों से बातचीत कर खिलाडियों व खेलों को बढ़ावा देने पर चर्चा की जाएगी। इसके अलावा पद्मश्री रानी रामपाल को हरियाणा में प्रथम श्रेणी के पद पर सरकारी नौकरी देने के लिए सीएम मनोहर लाल से बातचीत की जाएगी।

श्री संदीप सिंह ने पद्मश्री रानी रामपाल व उनके परिजनों को बधाई देते हुए कहा कि शाहबाद की बेटी को पूरे हरियाणा को नाज है। इस बेटी ने देश के लिए खेलते हुए साल भर में सराहनीय प्रर्दशन किया है, जिसके कारण भारतीय हाकी टीम को कई उपलबिधयां हासिल हुई है। उन्होंने रानी रामपाल को ओलंपिक के मैडल हासिल करने व खेल रत्न अवार्ड मिले, इसके लिए शुभकामनाएं दी है। इस खिलाड़ी ने प्रदेश के युवा खिलाडियों के लिए एक उदारण पेश किया है। इससे बेटियों को हाकी खेलने के लिए भी प्रेरणा मिलेगी।

पद्मश्री एवं भारतीय महिला हाकी टीम की कप्तान रानी राम पाल ने कहा कि हरियाणा की खेल नीति देश में नंबर एक नीति है। इस नीति का अनुसरण देश के दूसरे राज्य कर रहे है। इस नीति के तहत खिलाडियों को उत्साह मिल रहा है। उन्होंने कहा कि ओलंपिक खेलों के लिए भारतीय टीम तैयार है और टीम देश के लिए मैडल जीत कर लाएगी।

==========================

हरियाणा के यमुनानगर जिला के जगाधरी में आज 12 दिवसीय सरस मेले का आगाज हुआ। इस अवसर पर हरियाणा के

चंडीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा के यमुनानगर जिला के जगाधरी में आज 12 दिवसीय सरस मेले का आगाज हुआ। इस अवसर पर हरियाणा के पर्यटन एवं शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल ने प्रदर्शनी का भी उदघाटन किया।

पर्यटन मंत्री ने इस मौके पर कहा कि मेले भारतीय संस्कृति की विशेष पहचान है। मेले जहां मंनोरंजन का साधन होते हैं वहीं कलाकारों, मूर्तिकारों और हस्त शिल्पकारों की प्रतिभा का भी प्रदर्शन होता है। उन्होंने कहा कि ऐसे मेले समय-समय पर लगने चाहिए। उन्होंने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा लगाए जाने वाला यह तीसरा सरस मेला है।

उपायुक्त श्री मुकुल कुमार ने बताया कि इस 12 दिवसीय मेले में 225 से अधिक स्टालों में लकड़ी और मिट्टी की कला पर आधारित सामान के साथ-साथ स्वादिष्ट व्यंजन, कपडे पर कढ़ाई से सम्बन्धित सामान, असम से आए कलाकारों द्वारा सिकदर निकासी से बने साज-सज्जा के सामान, सहारनपुर से आए कलाकारों द्वारा लकड़ी पर की गई निकासी से सम्बन्धित विभिन्न प्रकार के सामान, लखनऊ के चिन्हट से आए कलाकारों द्वारा प्रदर्शित मिट्टी की विभिन्न कला युक्त आईटमों के साथ-साथ अन्य दैनिक जरूरत, घर, ड्राईग रूम व कार्यालयों की साज-सज्जा से युक्त सामान प्रदर्शित किया गया है। इस मेले के उद्घाटन अवसर पर जहां यमुनानगर जिला के स्कूल और कॉलेजों की छात्राओं ने रंगारंग हरियाणवी सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए वहीं अन्र्तराष्टï्रीय ख्याति प्राप्त हरियाणवी कलाकार प्रकाश मलिक के सांस्कृतिक दल के कलाकारों ने नृत्य और गायन शैली से दर्शकों को मंत्र मुग्ध कर दिया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरूआत प्रकाश मलिक सांस्कृतिक दल के कलाकार यूसूफ खान ने सरस्वती वंदना से किया। इस मेले में कल 10 फरवरी को सायं 5 बजे विख्यात कलाकारों द्वारा रंगारंग सास्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे।

==========================================================

हरियाणा में आज श्री गुरु रविदास जी की जयंती धूमधाम से मनाई गई। हरियाणा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर श्री रणबीर सिंह गंगवा ने हिसार में गुरु रविदास की 643वीं जयंती पर आयोजित जन्मोत्सव समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थितगण को संबोधित करते हुए कहा कि श्री गुरु रविदास जी का जीवन समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए प्रेरणा का स्रोत है।

चंडीगढ़, 9 फरवरी- हरियाणा में आज श्री गुरु रविदास जी की जयंती धूमधाम से मनाई गई। हरियाणा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर श्री रणबीर सिंह गंगवा ने हिसार में गुरु रविदास की 643वीं जयंती पर आयोजित जन्मोत्सव समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थितगण को संबोधित करते हुए कहा कि श्री गुरु रविदास जी का जीवन समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए प्रेरणा का स्रोत है। उनके जीवन से शिक्षा लेकर सामाजिक सौहार्द और आध्यात्मिक ऊंचाइयों को प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने गुरु रविदास छात्रावास में बनाए जाने वाले गोल्डन जुबली हाल का शिलान्यास किया और 21 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री ओम प्रकाश यादव ने महेंद्रगढ़ जिला के नारनौल में श्री गुरु रविदास के 643वें जन्मदिन पर आयोजित कार्यक्रम में गुरू रविदास के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया तथा आयोजकों को 5 लाख रुपए देने की घोषणा की। श्री यादव ने कहा कि श्री गुरु रविदास महान संत रहे हैं। उन्होंने हमेशा सामाजिक बुराइयों को खत्म करने पर जोर दिया व साधु-संतों की संगति से व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त किया। आज भी उनकी शिक्षाएं प्रेरणा का स्रोत है। युवा पीढ़ी को उनके द्वारा दिखाए मार्ग पर चलना चाहिए। इस अवसर पर रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया।

श्रम, रोजगार एवं पुरातत्व मामलों के मंत्री श्री अनूप सिंह धानक ने भिवानी जिला के बाढड़ा कस्बा में रविदास मंदिर में आयोजित 643 वें गुरू रविदास जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि संत किसी एक समाज के नहीं होते, अपितु सभी छत्तीस बिरादरी के होते हैं। संतों ने सदा मानव जीवन को नई राह दिखाई है। उन्होंने कहा कि गुरु रविदास ने जाति-पाति में बंटे हिंदू समाज को एक सूत्र में बांधने का काम किया था।

हरियाणा सरकार महान संतों को आदर सम्मान देते हुए उनकी जयंती एवं पर्व मनाए जाने की समृद्ध परंपरा का पालन कर रही है। उन्होंने कहा कि विधायक श्रीमति नैना चौटाला की ओर से रविदास मंदिर में नए सभागार का निर्माण करवाया जाएगा। इसमें वह अपनी ओर से पांच लाख रूपए का अनुदान देंगे। श्रम, रोजगार एवं पुरातत्व मंत्री श्री अनूप सिंह धानक ने भिवानी जिला के ही गांव लोहरवाड़ा में भी रविदास मंदिर में आयोजित संत रविदास जयंती समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

========================


देशभर के दिव्यांग उद्यमियों की सफलता की कहानी बयां कर रहे हैं सूरजकुंड मेले के ये 12 स्टॉल

सूरजकुंड मेले के स्टॉल नंबर 901 से 912 तक देश के कोने-कोने से पहुंचे दिव्यांग उद्यमी मेले की प्रेरणा बन रहे हैं

नेशनल हैंडीकैप्ट फाईनेंस एंड डेवलेपमेंट कार्पोरेशन से 25 हजार से एक लाख तक का लोन लेन किया था काम शुरू

आज सभी के पास अपना कारोबार और प्रतिमाह लाखों रुपये की कमाई कर रहे हैं यह दिव्यांग उद्यमी


चण्डीगढ़, 9 फरवरी- 34वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेले के स्टॉल नंबर 901 से 912 के देशभर से दिव्यांग लघु उद्यमी सफलता की कहानी को बयां कर रहे हैं। इन लोगों के पास पहले न खुद का कोई रोजगार था और न ही भविष्य की कोई राह दिखाई दे रही थी। लेकिन अगर एक बार मन में ठान लिया जाए तो किसी भी बाधा को दूर किया जा सकता है।

इन लोगों ने जब जीवन में कुछ करने की ठानी तो इनके पास पैसे की कमी सबसे पहले आडे आई। इसके बाद नेशनल हैंडीकैप्ट फाईनेंस एंड डेवलेपमेंट कार्पोरेशन (एनएचएफबीसी) इन लोगों की मदद के लिए आगे आई और 25 हजार रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक के लोन इन दिव्यांगों को प्रदान किए गए और प्रशिक्षण भी दिलवाया गया। इस पैसे और प्रशिक्षण ने तो जैसे इनके पंखों को नई उड़ान दे दी थी। आज देशभर से आए यह उद्यमी इस सूरजकुंड मेले में अपने उत्पादों को लेकर पहुंचे और लोग इनका सामान भी हाथों-हाथ खरीद रहे हैं।

मेले में स्टॉल लगाने वाले मुंबई निवासी दिव्यांग अभिषेक कभी एक कंपनी में मजदूरी करते थे। 25 हजार रुपये का लोन लेकर हैंडीक्राफट का काम शुरू किया और आज इनके खुद के पास 12 कारीगर काम करते हैं। 12 लाख रुपये से उपर का प्रति महीने व्यापार करते हैं। कपड़ों पर इनके आरीवर्क को हर कोई पसंद कर रहा है। पुडुचेरी के हैय्यपन भी दिव्यांग हैं। एक लाख रुपये लोन लेकर रोजगार शुरू किया तो आज इनकी आटिफिशियल ज्वैलरी सभी की पसंद बनती चली गई।

पंजाब के पटियाला जिला के रहने वाले विक्की ने मेहनत के बल पर इतना अच्छा कारोबार खड़ा दिया कि उनकी फुलकारी आज देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी पसंद की जाती है। कोल्हापुर महाराष्ट्र से पहुंचे पांडुरंग ने कोल्हापुरी चप्पलों का कारोब शुरू किया तो आज उनकी कोल्हापुरी चप्पलों को सूरजकुंड में आने वाले हाथों-हाथ खरीद रहे हैं। चंडीगढ़ के अकील अहमद ने भी इसी ढंग से दिव्यांगता के बावजूद अपना हैंडीक्राफ्ट का व्यवसाय शुरू किया तो आज इनको हर कोई एक सफल व्यवसायी के तौर पर पहचानता है।