SOLAN,20.01.20-हिमाचल प्रदेश कोली समाज की राज्य कार्यकारिणी की बैठक का आयोजन सोलन मे हिमाचल प्रदेश विद्युत बोर्ड के रेस्ट हाऊस में किया गया। इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेशाध्यक्ष उत्तम सिंह कश्यप ने की जिसमें मुख्यातिथि पूर्व कैबिनेट मंत्री और कोली समाज के मुख्य संरक्षक धनीराम शांडिल उपस्थित थे। बैठक में निम्न बिन्दुओ पर चर्चा की गई और प्रस्ताव भी पारित किए गए।
1. नवगठित पदाधिकारियों और सदस्यों का परस्पर परिचय ।
2. कुनिहार सम्मेलन के आय-वयय की प्रस्तुति ।
3. सम्मेलन के प्रतिनिधि सत्र में पारित प्रस्तावों पर कार्यवाही की योजना ।
4. सदस्यता पंजीकरण/नवीनीकरण तथा जिलों की गतिविधियों पर चर्चा ।
5. प्रदेश में जातीय भेदभाव, उत्पीड़न तथा जातीय अत्याचार के मामलों पर चर्चा ।
6. अनुसूचित जातियों के अधिकारों से सम्बंधित संविधान के प्रावधानों की रक्षा बारे चर्चा और कोली समाज की भूमिका ।
7. अध्यक्ष की अनुमति से कोली समुदाय या अनुसूचित जातियों के हितों से सम्बंधित अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की गई।
इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश कोली समाज के मुख्य संरक्षक धनीराम शांडिल ने भी अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि कोली समाज का एक संस्करण बनना चाहिए जिसमें समाज का देश भर में योगदान और इतिहास के बारे में जानकारी हो। उन्होंने प्रदेश कोली कल्याण बोर्ड का हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राजनीतीकरण का विरोध करते हुए कहा कि जब वे मंत्री थे तो उन्होंने ही इस बोर्ड का गठन किया था लेकिन राजनीतिक उदासीनता के कारण पिछले कई सालों से इसकी कोई बैठक भी आयोजित नही हुई है। यही नही कोली कल्याण बोर्ड में जो सदस्य बनाये गए है वे पूरी तरह से एक राजनीतिक दल से सम्बन्ध रखते है। कोली समाज मे अतुल्य योगदान रखने वाले किसी भी व्यक्ति को इसमे सदस्य नही बनाया गया है। उन्होंने कहा कि वे इन सब मामलो को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के साथ उठाएंगे। इस अवसर पर पूर्व आईएएस प्रेम सिंह ग्रेक, राजेश कोष,उत्तम कश्यप,गोपाल जिल्टा, रोशन लाल डोगरा,इत्यादि ने भी अपने विचार रखे।
इस अवसर पर कोली समाज हिमाचल प्रदेश की नवनियुक्त कार्यकारणी के संरक्षक रोशन लाल डोगरा, श्रवण कुमार पुंडीर बलवीर सिंह गोपाल जिल्टा रतन कश्यप बेलीराम सतीश आर्य लाइक राम कश्यप नेत्र सिंह चौहान चेतराम शांडेल महिला प्रकोष्ठ की बेबी कश्यप अनीता कॉल निर्मला हरनौट इत्यादि मौजूद थे। इस अवसर पर 50 सदस्य कार्यकारणी की घोषणा भी की गई।