चंडीगढ़,(सुनीता शास्त्री)10.01.20। ‘सडक़ सुरक्षा-जीवन रक्षा’, में विश्वास करने वाले एनजीओ ड्राइव स्मार्ट ड्राइव सेफ ने सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (एसआईएएम) और सीआईआई एवं कई अन्य समान सोच वाले संगठनों के साथ मिल कर एक नया अभियान ‘इंडिया अगेंस्ट रोड क्रैश हैशटैगआईएआरसी 2020’ की शुरुआत की है। इस अभियान को सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा घोषित 31वें राष्ट्रीय सडक़ सुरक्षा सप्ताह के दौरान आयोजित किया जा रहा है। यह जानकारी सडक़ सुरक्षा क्लब के रामाशंकर पाण्डे ने पत्रकारो को देते हुए बताया कि देते हुए बताया कि इसअभियान का उद्देश्य राष्ट्रव्यापी गतिविधियों की एक स्थायी श्रृंखला शुरू करना है, जो न केवल लोगों को जागरूक करेगा और सडक़ों पर उनके व्यवहार को बदल देगा, बल्कि यह विभिन्न स्थानों पर कॉर्पोरेट्स, संस्थानों और संगठनों के बीच सडक़ सुरक्षा क्लबों का गठन करेगा। इसके साथ ही ये गतिविधियां सभी के लिए सुनिश्चित करेंगी कि भारतीय सडक़ों पर सभी के लिए सुरक्षित हैं। अभियान का उद्देश्य लोगों को आत्म-बदलाव और सडक़ सुरक्षा नियमों के पालन के प्रति शिक्षित करना और उनसे प्रतिबद्धता प्राप्त करना है।इस अभियान के सहभागियों में से एक, रामा शंकर पांडेय, एमडी-हेला इंडिया लाइटिंग लिमिटेड ने इस अभियान के बारे में विवरण देते हुए कहा कि ‘‘अभियान 11 जनवरी से शुरू हो रहा है, जो कि सडक़ सुरक्षा सप्ताह के तहत वाघा बॉर्डर से सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा घोषित किया गया है, जहां 50 हजार लोग एक साथ सडक़ सुरक्षा शपथ लेंगे, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा। वहीं, देश भर में 70 से अधिक स्थानों पर देश भर से लाखों लोगों के इस अभियान में शामिल होने की उम्मीद है।’’ उन्होंने कहा कि 15 जनवरी को सीजीसी लांडरां में एक वॉकथॉन का आयोजन किया जाएगा। जबकि दुर्घटनाओं के कई कारण होते हैं, ऐसे में खुद से यह पूछना महत्वपूर्ण है कि हम इन मौतों से बचने के लिए क्या कर सकते हैं। अभियान का उद्देश्य ड्राइव सेफ क्लब बनाकर सुरक्षित ड्राइविंग को सकारात्मक रूप से सुदृढ़ करना है जहां प्रतिबद्ध सडक़ सुरक्षा योद्धाओं को देश भर में सडक़ सुरक्षा संगठनों के सहयोगी मंच द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी जाएगी।अभियान में प्रिंसिपल प्रायोजक महिंद्रा और एसोसिएट पार्टनर के रूप में वाबको एंड ब्रेक्स इंडिया हैं और अन्य लोगों के साथ हेला द्वारा समर्थित है। देश के विभिन्न हिस्सों में रोटरी क्लब, स्कूल और कॉलेज, ट्रैफिक पुलिस संगठन का भी भी इस अभियान में शामिल होने की उम्मीद है। सप्ताह भर चलने वाले इस अभियान से लोगों के विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से प्रेरणा मिलेगी जैसे कि-6पॉइंट रोड सेफऑफकोड की दो मिनट की प्रतिज्ञा लेना; देश भर में सडक़ दुर्घटनाओं में मारे गए लाखों पीडि़तों के लिए एक मिनट का मौन धारण करना; एक छोटी सडक़ सुरक्षा वॉकथॉन और वॉक डोनेशन, एक साथ आना और एक सडक़ सुरक्षाश्रृंखला बनाना; सडक़ सुरक्षा गान का सामूहिक गान होगा और स्थानीय सडक़ सुरक्षा क्लब बनाने के लिए प्रोत्साहित करना।