चंडीगढ़ (सुनीता शास्त्री),08.12.19-पंजाब का पहला स्कूल- जिसमें न होमवर्क न ट्यूशन,हैप्पी लर्निंगपर फोकस, प्रायोगिक और स्टैम शिक्षा में अग्रणी ट्राईसिटी में माइंडफुल लर्निंग के सिद्धांत पर आधारित वंडर स्कूल की शुरुआत की। आज पत्रकारों से रूबरू होकर अनु महाजन ने बताया कि प्ले क्लास से लेकर प्राथमिक और जल्द ही सीबीएसई +2 स्कूल बनने की दिशा में अग्रसर है। पंजाब सरकार द्वारा 8.5 एकड़ में फैले परिसर में इस स्कूल को संचालित करने की अनुमति मिली है। न्यू चंडीगढ़ रोड पर कुराली-बद्दी राजमार्ग की ओर एसएएस नगर (मोहाली) में स्थित, स्कूल ने एक खुला सत्र आयोजित करके संचालन शुरू करने की घोषणा की और इस क्षेत्र में पहली बार नवीन शिक्षण प्रणालियों का प्रदर्शन किया। स्कूल ने मूर्तिकला, एयरो-मॉडलिंग, खेल खेल में विज्ञान के सत्र, लेगो आधारित गतिविधि और पेंटिंग कार्यशाला का आयोजन किया। वहां पहुंचे बच्चों के लिए एक प्रमुख आकर्षण ब्रह्मांड को दिखाने वाला एक तारामंडल था। मेहमानों को स्कूल के अद्भुत शिक्षण तत्वों को दिखाने के लिए एक वॉक का आयोजन किया गया। इसमें श्री चितवन और टीम द्वारा दीवारों, स्टोरी वेल, चैट लैब और एक्सप्लोरेशन सेंटर पर बनाई गई शैक्षिक कहानियां प्रमुख हैं।