सोलन-दिनांक 08.12.2019
नशे से बचाव के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति आवश्यक

सोलन जिला में सभी को नशे के दुष्प्रभावों के सम्बन्ध में जागरूक बनाने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा नियमित रूप से जागरूकता शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। इन शिविरों में प्रतिभागियों को नशे की विभिन्न किस्मों की जानकारी प्रदान करने के साथ-साथ नशे के कारण होने वाली सामाजिक, पारिवारिक एवं आर्थिक हानियों के बारे में भी अवगत करवाया जा रहा है। यह जानकारी एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यहां दी।
उन्होंने कहा कि अभियान का मुख्य उद्देश्य युवा पीढ़ी को यह समझाना है कि नशा केवल नाश करता है और नशे से बचाव के लिए व्यक्ति में दृढ़ इच्छा शक्ति का होना आवश्यक है। अभियान में युवाओं, अध्यापकों तथा अभिभावकों को नशे के विरूद्ध एकजुटता के साथ लड़ने का आह्वान किया जा रहा है।
इसी कड़ी में जिला में विभाग द्वारा 426 युवाओं एवं अन्य को नशाखोरी के खिलाफ जागरूक किया गया। क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में नशा निवारण ओपीडी में 20 व्यक्तियों को जागरूक किया गया। चिकित्सा खण्ड चण्डी के खरोटा गांव में 36, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भूमति में 58, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जाबली में 228 तथा नालागढ़ खण्ड में 84 प्रतिभागियों को मादक पदार्थोें एवं मदिरा व्यसन की हानियों एवं इससे बचाव के उपायों की जानकारी दी गई।
कार्यक्रमों में अध्यापकों तथा अभिभावकों से आग्रह किया गया कि बच्चों की पढ़ाई एवं व्यवहार में आने वाले परिवर्तनों पर ध्यान दें और इस विषय में उनसे नियमित संवाद बनाए रखें। छात्रों को नशे की हानियों के बारे में विस्तार से बताया गया।
जागरूकता शिविरों में सभी को नशे के विरूद्ध शपथ भी दिलाई गई।

======================================

नशाखोरी का समाप्त करने के लिए ग्राम स्तर तक नियमित जागरूकता आवश्यक- के.सी. चमन

डीसी एकादश तथा एसपी एकादश के मध्य क्रिकेट मैच आयोजित

उपायुक्त सोलन के.सी. चमन ने जिला के अधिकारियों एवं कर्मचारियों से आग्रह किया कि वे नशाखोरी को समाप्त करने के लिए ग्राम स्तर तक लोगों को नियमित रूप से जागरूक करें ताकि समाज के सभी वर्ग नशे जैसी सामाजिक बुराई के विरूद्ध एकजुट होकर कार्य करें। उपायुक्त आज यहां नशे के दुष्प्रभावों के सम्बन्ध में डीसी एकादश तथा एसपी एकादश के मध्य आयोजित क्रिकेट मैच के अवसर पर उपस्थित खिलाड़ियों एवं अन्य को सम्बोधित कर रहे थे।
के.सी. चमन ने कहा कि वर्तमान में 15 दिसम्बर, 2019 तक मादक पदार्थों एवं मदिरा व्यसन के विरूद्ध सघन जागरूकता अभियान आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम सभी को नशा निवारण अभियान को तब तक जारी रखना होगा जब तक सभी जन नशे को समाप्त करने की दिशा में प्रतिज्ञाबद्ध न हो जाएं। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को युवाओं को समय के मूल्य का बोध करवाना होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को नियमित खेल एवं लक्ष्यबद्ध पढ़ाई की दिशा में जागरूक बनाया जाना आवश्यक है ताकि वे नशे की गिरफ्त से दूर रहकर जीवन में अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए अग्रसर रहें।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मधुसूदन शर्मा ने इस अवसर पर सभी से आग्रह किया कि अपने आसपास घटित हो रहे क्रियाकलापों पर ध्यान दें और नशे के बारे में जानकारी मिलने पर पुलिस को सूचित करें। उन्होंने पुलिस कर्मियों से आग्रह किया कि नशे के विरूद्ध जीरो टोलरंेस की नीति अपनाएं और स्वस्थ प्रदेश एवं देश निर्माण में योगदान दें। उन्होंने कहा कि सोलन पुलिस नशे के कारोबार के खिलाफ निरन्तर अभियान कार्यान्वित कर रही है। इसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं।
नशे के दुष्प्रभावों के सम्बन्ध में आयोजित मैच में एसपी एकादश विजयी रही। पहले खेलते हुए डीसी एकादश ने निर्धारित 20 ओवरों में 9 विकेट के नुक्सान पर 165 रन बनाए। जवाब में एसपी एकादश ने 19.4 ओवर में 3 विकेट से जीत दर्ज की।
एसपी एकादश के अमित को मैन आॅफ द मैच, डीसी एकादश के दीपक को सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज, एसपी एकादश के राकेश कुमार को सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षक तथा एसपी एकादश के पुनीत को सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज का पुरस्कार प्रदान किया गया।
अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी विवेक चन्देल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डाॅ. शिव कुमार शर्मा, सहायक आयुक्त भानु गुप्ता, उप पुलिस अधीक्षक योगेश जोशी सहित प्रशासन तथा पुलिस के अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी इस अवसर पर उपस्थित थे।