चंडीगढ़, 6 दिसम्बर: हैदराबाद की डॉ. प्रियंका रेड्डी के बलात्कार की घटना ने तमाम देश व प्रदेशवासियों को झकझोर कर रख दिया है और सख्त से सख्त सजा दिलाने के लिए जगह-जगह पर प्रदर्शन हो रहे हैं। इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा है कि सरकार और न्यायालय को जनमानस चेता रहा है कि अगर निर्भया कांड के दोषियों को तुरंत सजा दी जाती तो शायद महिलाओं के विरुद्ध बलात्कार की घटनाओं में कुछ कमी आ जाती।
इनेलो नेता का कहना है कि सवेरे अखबार देखते हैं तो महिलाओं के विरुद्ध बलात्कार की घटनाएं अखबारों की प्रमुख सुर्खियां होती हैं। हरियाणा में फिरोजपुर झिरका क्षेत्र में शौच के लिए गई युवती के साथ गैंगरेप करना ओर आरोपियों के परिवारों के दबाव में परिजनों ने शिकायत पुलिस को नहीं दी परंतु महिला सैल को पीडि़ता ने लिखित रूप में शिकायत दी है। इसी तरह जींद सदर थाना के अधीन आने वाले एक गांव की नाबालिका के साथ गांव के ही युवक ने घर में घुसकर जबर्दस्ती दुष्कर्म किया था। पलवल जिले के एक गांव में शौच के लिए खेतों की तरफ जाती एक युवती का कार में अपहरण करके दुष्कर्म किया गया और भाजपा सरकार हाथ पर हाथ रखे मूकदर्शक बनी बैठी है।
इनेलो नेता ने बताया कि हरियाणा राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष श्रीमती प्रीति भारद्वाज ने कहा है कि प्रदेश में छोटी बच्ची हो या महिला, सभी असुरक्षित माहौल से गुजर रही हैं और अपराधी बेखौफ प्रदेश में घूम रहे हैं। इसलिए जब महिला आयोग की उपाध्यक्ष ही चिंता व्यक्त कर रही है तो आम आदमी तो इस दौर में अपनी बहन-बेटी को बाहर स्कूल या कॉलेज में पढऩे को भेजने के लिए चिंतातुर होना कुदरती बात है। गठबंधन की सरकार ने महिलाओं के लिए वायदे तो बहुत किए हैं परंतु जमीनी स्तर पर अभी तक कोई भी सुरक्षा सहित कारगर कदम नहीं उठाया गया।
एक तरफ जहां महिला उत्पीडऩ की घटनाएं लगातार हो रही हैं वहीं महिलाओं की सुरक्षा के लिए केंद्र सरकार द्वारा दिए गए निर्भया फण्ड को हरियाणा सरकार खर्च नहीं कर पाई। हरियाणा में महिला जागरुकता वाले गैर-सरकारी संगठन द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार 2017 से जनवरी 2018 तक महिला विरुद्ध अपराध के 9196 मामले दर्ज हुए हैं, दुष्कर्म के 1016 मामले और छेड़छाड़ के 2041 मामले दर्ज किए गए हैं। हरियाणा सरकार को केंद्र सरकार ने महिलाओं के विरुद्ध अपराध रोकने के लिए 16.71 करोड़ रुपए दिए थे जिसमें से सरकार ने केवलमात्र 6.6 करोड़ रुपए ही खर्च किए और बाकी राशि सरकार के पास ही पड़ी है। हरियाणा प्रदेश में दुष्कर्म और छेड़छाड़ के मामले होना आम बात हो गई है। इनेलो नेता ने कहा कि गठबंधन की सरकार को महिलाओं के विरुद्ध अपराध के न्यायालयों में लंबित पड़े मामलों की पैरवी करके मुल्जिमों को सजा दिलवाने का काम करे। भाजपा सरकार को कानून में ऐसा प्रावधान करना चाहिए कि न्यायालय समयबद्ध फैसला करके दोषियों को ऐसा दण्ड दें जिससे असामाजिक तत्वों में खौफ पैदा हो। बलात्कार करने वाले पकड़े जाने के बाद पुलिस को सात दिन के अंदर-अंदर न्यायालय में चार्जशीट दाखिल करनी चाहिए और फास्टट्रैक अदालतों में लगातार सुनवाई होने के पश्चात दोषी को तुरंत दण्डित किया जाए।