सोलन -दिनांक 16.11.2019
सरकार तथा प्रशासन के लिए मीडिया अत्यन्त महत्वपूर्ण-केसी चमन
राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित

उपायुक्त सोलन केसी चमन ने कहा कि प्रदेश सरकार तथा प्रशासन के लिए मीडिया अत्यन्त महत्वपूर्ण है और मीडिया द्वारा विभिन्न जनकल्याणकारी नीतियों एवं कार्यक्रमों के संबंध में प्रदान की जा रही वास्तविक फीडबैक सही अर्थों में मूल्यवान है। केसी चमन आज यहां राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर उपस्थित पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे।
इस वर्ष भारतीय प्रेस परिषद के सुझाव पर ‘रिपोर्टिंग-व्याख्या-एक यात्रा’ विषय पर पूरे देश के साथ-साथ सोलन जिला के पत्रकारों द्वारा भी सारगर्भित विचार-विमर्श किया गया।
केसी चमन ने कहा कि प्रदेश सरकार एवं जिला प्रशासन के लिए विभिन्न कार्यक्रमों एवं नीतियों के संबंध में वास्तविक फीडबैक प्राप्त करना आवश्यक होता है। इसी फीडबैक के आधार पर न केवल नीतियों के कार्यान्वयन के संबंध में आवश्यक बदलाव किए जाते हैं अपितु आमजन की अपेक्षाएं भी उचित स्तर तक पहुंचती हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया बंधुओं द्वारा उपलब्ध फीडबैक प्रशासन को चुस्त-दुरूस्त बनाने और कार्यप्रणाली में पारदर्शिता लाने में अत्यन्त सहायक है।
उपायुक्त ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है और मीडिया को जन-जन तक सही व सटीक सूचना पहुंचाने के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा कि मीडिया जहां समाचारों के माध्यम से विभिन्न समसामायिक विषयों से समाज को अवगत करवाता हैं वहीं समाज में व्याप्त विभिन्न समस्याआंे को भी प्रशासन व सरकार के सामने लाता है।
केसी चमन ने मीडिया कर्मियों से आग्रह किया कि वे जनता की सेवा के लिए स्पष्ट सोच एवं लेखनी में उद्देश्य व दिशा के साथ कार्य करें। उन्होंने कहा कि मीडिया में पूर्ण व्यवसायिक दृष्टिकोण होना आवश्यक है और किसी भी समाचार को वैयक्तिक नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मीडिया समाज में अपेक्षित सकारात्मक बदलाव ला सकता है और सभी मीडिया कर्मियों को इस दिशा में सामूहिक उत्तरदायित्व के साथ कार्य करना होगा।
उन्होंने आग्रह किया कि पत्रकार पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग से बचें। उन्होंने कहा कि आलोचनात्मक पत्रकारिता किसी भी समाज व राष्ट्र की मज़बूती के लिए आवश्यक है तथा यही वह माध्यम है जिसके द्वारा आम लोगों तक सही एवं आवश्यक सूचना पहंुचती है। उन्होंने कहा कि मीडिया कर्मी स्वस्थ आलोचनात्मक पत्रकारिता करें तथा ग्राम स्तर तक कल्याणकारी नीतियां पहुंचाएं।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी सोलन विवेक चंदेल ने कहा कि पत्रकार एवं प्रशासन का संबंध आपसी विश्वास का है। उन्होंने आग्रह किया कि पत्रकार, रिपोर्टिंग में विश्वसनीयता बनाए रखें। उन्होंने कहा कि वर्तमान में विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यम से हो रही रिपोर्टिंग अनेक मायनों में लाभदायक है किन्तु इस दिशा में मीडिया कर्मियों को समाचार की पुष्टि कर ही आगे बढ़ना चाहिए।
अमर उजाला के राकेश शर्मा ने कहा कि वर्तमान समय में पत्रकार का उत्तरदायित्व पहले से कहीं अधिक बढ़ा है। उन्होंने कहा कि सभी पत्रकारों को दबाव के मध्य भी वस्तुपरक रिपोर्टिंग के लिए तैयार रहना होगा। न्यूज-18 के कीर्ति कौशल ने कहा कि वर्तमान में रिपोर्टिंग का तरीका बदला है और अब यह प्रयास किया जा रहा है कि लोगों तक सही जानकारी त्वरित पहुंचे।
दूरदर्शन के लक्ष्मी दत्त शर्मा ने कहा कि वर्तमान में पत्रकारिता की शुचिता क्षीण हुई है और सभी पत्रकारों को इस दिशा में विचार करना होगा। पत्रकार यशपाल कपूर ने स्वतन्त्रता पूर्व से लेकर वर्तमान समय तक रिपोर्टिंग के कलेवर तथा आयामों पर प्रकाश डाला। हिन्दुस्तान समाचार एजैंसी के संदीप शर्मा ने कहा कि सभी पत्रकारों को मीडिया के व्यावसायीकरण पर विचार करना होगा।
इंडिया न्यूज़ के अनुराग शर्मा ने कहा कि रिपोर्टिंग में तथ्यात्मकता को बचाना हम सभी का कर्तव्य है। डेमोक्रेसी पोस्ट के मोहन चौहान ने कहा कि रिपोर्टिंग में सदैव सुधार की संभावना रहती है। उन्होंने कहा कि हम सभी को पत्रकारिता की जनहित के लिए कार्य करने की भावना को बनाए रखना होगा।
दैनिक जागरण समाचार पत्र के युवा पत्रकार विनोद ने कहा कि रिपोर्टिंग में तथ्यों की अनदेखनी नहीं की जानी चाहिए और हम सभी को यह स्मरण रखना चाहिए कि व्यावसायिक दृष्टिकोण के साथ-साथ पत्रकारिता के मूलभूत सिद्धान्तों के साथ समझौता न किया जाए।
ईटीवी भारत के योगेश शर्मा ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी के वर्तमान युग ने ब्रेकिंग न्यूज़ के दौर को लगभग समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि रिपोर्टिंग में अब चुनौतियां बढ़ी हैं। दिव्य हिमाचल की मोहिनी सूद ने कहा कि इलैक्ट्रॉनिक मीडिया एवं सोशल मीडिया की तेज़ गति ने प्रिंट मीडिया की रिपोर्टिंग पर भी प्रभाव डाला है।
जिला लोक संपर्क अधिकारी हेमन्त वत्स ने सभी का स्वागत किया तथा विषय की जानकारी प्रस्तुत की।
इस अवसर पर विभिन्न समाचार पत्रों, इलैक्ट्रॉनिक मीडिया के ब्यूरो प्रमुख तथा संवाद्दाताओं सहित जिला लोक संपर्क अधिकारी कार्यालय के कर्मचारी उपस्थित थे।

=============================

सोलन-दिनांक 16.11.2019
नशे की दुष्प्रवृति से बचाव में अध्यापक महत्वपूर्ण-रमेश शर्मा
एससीईआरटी सोलन में पांच जिलों के अध्यापकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न

पुलिस उपाधीक्षक सोलन रमेश शर्मा ने कहा कि विद्यालय स्तर पर छात्रों को नशे की दुष्प्रवृति से बचाने में अध्यापक महत्वपूर्ण हैं। रमेश शर्मा आज एससीईआरटी सोलन में नशे की रोकथाम विषय पर आयोजित तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।
इस तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में सोलन, सिरमौर, शिमला, बिलासपुर और ऊना जिलों के 28 प्रवक्ताओं ने भाग लिया।
रमेश शर्मा ने कहा कि नशे की प्रवृति पर लगाम लगाने के लिए प्रशासन, पुलिस एवं समाज के सभी वर्गों का आपसी समन्वय आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में अध्यापक विशेष सहायक बन सकते हैं। छात्र सबसे अधिक समय विद्यालय में व्यतीत करते हैं और अध्यापक उन पर ध्यान देकर यह जान सकते हैं कि छात्रों की मनोवृति और आचरण में क्या बदलाव आ रहा है। उन्होंने आग्रह किया कि अध्यापक छात्रों का पढ़ाई के अतिरिक्त भी ध्यान रखें।
उन्होंने इस अवसर पर विभिन्न प्रकार के मादक द्रव्यों और एनडीपीएस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
इस अवसर पर डॉ. अजय सिंह ने नशे के कारण युवाओं में होने वाले बदलाव की जानकारी दी। मनोचिकित्सक डॉ. कुशल वर्मा ने नशे के प्रभाव एवं पीडि़तों को नशे के प्रभावों से बचाने के लिए आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी दी।
कार्यक्रम के संयोजक डॉ. हेमराज शर्मा ने कहा कि विद्यालय स्तर पर बच्चों को नशे के दुष्प्रभावों एवं नशे से पारिवारिक स्तर पर होने वाली हानियों के विषय में जागरूक किया जाना चाहिए। उन्होंने इस अवसर पर अध्यापकों द्वारा बच्चों के मार्गदर्शन के संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने प्रवक्ताओं से आग्रह किया कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में अर्जित की गई जानकारी को अपने-अपने विद्यालयों में व्यावहारिक प्रयोग में लाएं ताकि अधिक से अधिक संख्या में छात्रों को नशे से दूर रखने में सहायता मिल सके।
रिसोर्स पर्सन मनीष तोमर ने कहा कि समाज को नशे के प्रति जागरूक करने में अध्यापकों के साथ-साथ अभिभावकों का भी महत्वपूर्ण योगदान है।
इस अवसर पर प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे नशा निवारण अभियान की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई। यह अभियान 15 दिसंबर, 2019 तक पूरे प्रदेश में कार्यान्वित किया जा रहा है

================================

सोलन -दिनांक 16.11.2019
नशे पर अंकुश के लिए युवा वर्ग का एकजुट होना आवश्यक-डॉ. शिव कुमार
छात्रों को दिलाई नशे के विरूद्ध शपथ

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सोलन डॉ. शिव कुमार शर्मा ने कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है और इस पर अंकुश लगाने के लिए युवा वर्ग को एकजुट होना होगा। डॉ. शिव कुमार आज राजकीय छात्र वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सोलन में मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए 15 दिसंबर, 2019 तक प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए गए विशेष अभियान के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे।
उन्होंने सभी को इस अवसर पर नशा उन्मूलन के लिए शपथ भी दिलवाई।
डॉ. शिव कुमार शर्मा ने कहा कि युवाओं को नशे से बचाने के लिए जहां अध्यापकों और अभिभावकों को आपसी समन्वय बनाकर कार्य करना होगा वहीं युवाओं को भी यह समझना होगा कि किसी भी प्रकार के नशे से उनका भला नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि अध्यापक विद्यालय में और अभिभावक घर में यदि बच्चों पर पढ़ाई के साथ-साथ अन्य मामलों में ध्यान दें तो युवाओं में हो रहे बदलावों से जाना जा सकता है कि कहीं युवा रास्ता तो नहीं भटक गए हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं के व्यवहार में आ रहे बदलाव हमें संकेत देते हैं कि उन पर अधिक ध्यान दिया जाना आवश्यक है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि हमारे युवाओं को भी यह समझना होगा कि नशा केवल नाश करता है। उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि यदि छात्रों को नशे करने वालों या नशा बेचने वालों के संबंध में कोई जानकारी मिलती है तो इसे पुलिस तक पहुंचाएं। उन्होंने छात्रों को ऐसी जानकारी पुलिस तक पहुंचाने के विषय में विस्तृत दिशा-निर्देश प्रदान किए।
डॉ. शिव कुमार शर्मा ने इस अवसर पर छात्रों को विभिन्न प्रकार के नशों की पूरी जानकारी दी। उन्होंने इनके दुष्प्रभावों पर भी सारगर्भित जानकारी प्रदान की। उन्होंने नशे के दुष्प्रभावों से पीडि़त के व्यवहार में होने वाले बदलाव से भी अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि कुछ नशे इतने खतरनाक हैं उनकी मात्र तीन खुराक लेने के बाद व्यक्ति सदा के लिए नशे का आदि हो जाता है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने छात्रों को विश्वास दिलाया कि पुलिस जनमित्र है और सही समय पर पुलिस को नशे के विरूद्ध दी गई जानकारी अनेक बहुमूल्य जीवन बचा सकती है। उन्होंने अवगत करवाया कि जिला पुलिस सोलन नियमित रूप से नशे के विरूद्ध कार्यशील है और प्रयास किया जा रहा है कि जिले में नशे के विरूद्ध सघन कार्रवाई की जाए।
इस अवसर पर जिला के विभिन्न स्कूलों में नशा उन्मूलन अभियान के तहत छात्रों को शपथ दिलाई गई और अभिभावक-अध्यापक संघ की बैठकें आयोजित की गई। इन बैठकों में अध्यापकों और अभिभावकों के मध्य नशे के विरूद्ध बेहतर तालमेल की दिशा में चर्चा की गई। विभिन्न विद्यालयों में नशा निवारण पर चित्रकला तथा नारा लेखन प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई। विद्यालयों में नशा निवारण जागरूकता रैलियां भी निकाली गईं।
महिला बहुतकनीकी संस्थान कंडाघाट में छात्राओं को प्रस्तुतिकरण के माध्यम से नशा निवारण के संबंध में जागरूक किया गया।
.================================

सोलन-दिनांक 16.11.2019
नशे पर अंकुश के लिए युवा वर्ग का एकजुट होना आवश्यक-डॉ. शिव कुमार
छात्रों को दिलाई नशे के विरूद्ध शपथ

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सोलन डॉ. शिव कुमार शर्मा ने कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है और इस पर अंकुश लगाने के लिए युवा वर्ग को एकजुट होना होगा। डॉ. शिव कुमार आज राजकीय छात्र वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सोलन में मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए 15 दिसंबर, 2019 तक प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए गए विशेष अभियान के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे।
उन्होंने सभी को इस अवसर पर नशा उन्मूलन के लिए शपथ भी दिलवाई।
डॉ. शिव कुमार शर्मा ने कहा कि युवाओं को नशे से बचाने के लिए जहां अध्यापकों और अभिभावकों को आपसी समन्वय बनाकर कार्य करना होगा वहीं युवाओं को भी यह समझना होगा कि किसी भी प्रकार के नशे से उनका भला नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि अध्यापक विद्यालय में और अभिभावक घर में यदि बच्चों पर पढ़ाई के साथ-साथ अन्य मामलों में ध्यान दें तो युवाओं में हो रहे बदलावों से जाना जा सकता है कि कहीं युवा रास्ता तो नहीं भटक गए हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं के व्यवहार में आ रहे बदलाव हमें संकेत देते हैं कि उन पर अधिक ध्यान दिया जाना आवश्यक है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि हमारे युवाओं को भी यह समझना होगा कि नशा केवल नाश करता है। उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि यदि छात्रों को नशे करने वालों या नशा बेचने वालों के संबंध में कोई जानकारी मिलती है तो इसे पुलिस तक पहुंचाएं। उन्होंने छात्रों को ऐसी जानकारी पुलिस तक पहुंचाने के विषय में विस्तृत दिशा-निर्देश प्रदान किए।
डॉ. शिव कुमार शर्मा ने इस अवसर पर छात्रों को विभिन्न प्रकार के नशों की पूरी जानकारी दी। उन्होंने इनके दुष्प्रभावों पर भी सारगर्भित जानकारी प्रदान की। उन्होंने नशे के दुष्प्रभावों से पीडि़त के व्यवहार में होने वाले बदलाव से भी अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि कुछ नशे इतने खतरनाक हैं उनकी मात्र तीन खुराक लेने के बाद व्यक्ति सदा के लिए नशे का आदि हो जाता है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने छात्रों को विश्वास दिलाया कि पुलिस जनमित्र है और सही समय पर पुलिस को नशे के विरूद्ध दी गई जानकारी अनेक बहुमूल्य जीवन बचा सकती है। उन्होंने अवगत करवाया कि जिला पुलिस सोलन नियमित रूप से नशे के विरूद्ध कार्यशील है और प्रयास किया जा रहा है कि जिले में नशे के विरूद्ध सघन कार्रवाई की जाए।
इस अवसर पर जिला के विभिन्न स्कूलों में नशा उन्मूलन अभियान के तहत छात्रों को शपथ दिलाई गई और अभिभावक-अध्यापक संघ की बैठकें आयोजित की गई। इन बैठकों में अध्यापकों और अभिभावकों के मध्य नशे के विरूद्ध बेहतर तालमेल की दिशा में चर्चा की गई। विभिन्न विद्यालयों में नशा निवारण पर चित्रकला तथा नारा लेखन प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई। विद्यालयों में नशा निवारण जागरूकता रैलियां भी निकाली गईं।
महिला बहुतकनीकी संस्थान कंडाघाट में छात्राओं को प्रस्तुतिकरण के माध्यम से नशा निवारण के संबंध में जागरूक किया गया।
===============================

सोलन-दिनांक 16.11.2019
17 नवम्बर को मतदान के लिए दस्तावेज
वार्ड संख्या-4 चंबाघाट सलोगड़ा में कुल 2012 मतदाता

निर्वाचन अधिकारी एवं उपमंडलाधिकारी सोलन रोहित राठौर ने 17 नवम्बर 2019 को नगर परिषद सोलन के वार्ड संख्या-4 चंबाघाट-सलोगड़ा के मतदाताओं से आग्रह किया कि मतदान के लिए राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार वैध 18 दस्तावेजों में से कोई एक अपने साथ रखें।
उन्होंने कहा कि इस वार्ड संख्या के लिए कुल 1053 पुरूष तथा 959 महिला मतदाता हैं। इस उप चुनाव के लिए दो मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं। मतदाता सूची में क्रम संख्या 01 से 1017 तक के सभी मतदाताओं के लिए जिला उद्यान कार्यालय चंबाघाट में मतदाता सूची में क्रम संख्या 1018 से 2012 तक के सभी मतदाताओं के लिए मोहन मिकिन सैनिक कैंटीन ब्रूरी में मतदान केंद्र स्थापित किया गया है।
उन्होंने कहा कि मतदान प्रातः 07.00 बजे से सांय 03.00 बजे तक होगा।
रोहित राठौर ने कहा कि मतदान के लिए वार्ड संख्या-4 के मतदाताओं को अपने साथ भारत के निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आयकर पहचान पत्र, केंद्र, राज्य, सार्वजनिक उपक्रम, स्थानीय निकाय अथवा उद्योगों द्वारा जारी पहचान पत्र, बैंक किसान, डाकघर पासबुक, राशन कार्ड, सक्षम अधिकारी द्वारा जारी अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अथवा अन्य पिछड़ा वर्ग प्रमाण पत्र, छात्र पहचान पत्र, लीज अथवा पंजीकृत डीड जैसे संपत्ति के कागज, शस्त्र लाईसेंस, परिवहन विभाग द्वारा जारी पहचान पत्र, पूर्व सैनिकों की पैंशन बुक अथवा पैंशन भुगतान ऑर्डर जैसे पैंशन संबंधी कागज, पूर्व सैनिकों की विधवा अथवा आश्रित को जारी प्रमाण पत्र, रेल अथवा बस पास, दिव्यांगता प्रमाण पत्र, स्वतन्त्रता सेनानी पहचान पत्र या आधार कार्ड में से कोई एक दस्तावेज साथ रखना होगा।
उन्होंने वार्ड संख्या-4 के मतदाताओं से 17 नवम्बर, 2019 को प्रातः 7.00 बजे से सांय 3.00 बजे के मध्य अपने मताधिकार के प्रयोग का आग्रह किया है।
.0.