सोलन-दिनांक 12.11.2019-हिमाचल प्रदेश रेडक्रॉस समिति की उपाध्यक्ष डॉ. साधना ठाकुर ने कहा कि रेडक्रॉस समिति की सहायता के लिए मेलों का आयोजन ग्राम स्तर पर भी किया जाना चाहिए ताकि ग्रामीण परिवेश में अधिक से अधिक लोग रेडक्रॉस समिति के बारे में जागरूक बन सकें। डॉ. साधना ठाकुर आज सोलन जिला के कंडाघाट में आयोजित प्रथम उपमंडल स्तरीय रेडक्रॉस मेले के शुभारंभ के अवसर पर सभी को संबोधित कर रही थी।
डॉ. साधना ठाकुर ने कहा कि आज भी हिमाचल की लगभग 90 प्रतिशत जनसंख्या गांव में निवास करती है। उन्होंने कहा कि रेडक्रॉस गतिविधियों का विस्तार गांव-गांव तक किया जाना आवश्यक है। इसमें प्रतिवर्ष विभिन्न स्तरों पर आयोजित किए जाने वाले रेडक्रॉस मेले विशेष रूप से सहायक बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि बूंद-बूंद से घड़ा भरता है और प्रदेश के जन-जन के रेडक्रॉस समिति से जुड़ने से समिति अपने कार्यों के माध्यम से सभी को लाभान्वित कर पाएगी। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि रेडक्रॉस समिति से जुड़ें और अपनी क्षमता के अनुसार पीडि़त मानवता की सेवा में सहयोग दें।
रेडक्रॉस समिति की उपाध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिलों में रेडक्रॉस द्वारा भिन्न-भिन्न कार्य किए जा रहे हैं। मंडी तथा कुल्लू जिलों में रेडक्रॉस समिति वरिष्ठ नागरिकों तक पहुंच रही है। उन्होंने आग्रह किया कि सोलन जिला में रेडक्रॉस समिति अन्य कार्यों के साथ-साथ एक कपड़ा बैंक आरंभ करने की दिशा में प्रयासरत हो। उन्होंने कहा कि शीत ऋतु में इस कपड़ा बैंक की सहायता से अनेक ज़रूरतमंद व्यक्तियों को गर्म कपड़े उपलब्ध करवाए जा सकते हैं।
डॉ. साधना ठाकुर ने कहा कि रेडक्रॉस समिति के माध्यम से सभी अक्षम तथा असहाय लोगों तक पहुंचना हमारा उद्देश्य है। इस कार्य के लिए समिति को समयदान और संसाधनों की आवश्यकता है। उन्होंने आशा जताई कि रेडक्रॉस समिति सोलन जिला में अपनी गतिविधियों के माध्यम से पूरे प्रदेश को राह दिखाएगी। उन्होंने कहा कि रेडक्रॉस समिति के कार्यों के साथ महिला मंडलों को भी जोड़ना होगा। महिला मंडलों के सहयोग से रेडक्रॉस समिति ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे स्वास्थ्य शिविर आयोजित कर सकती है जो महिलाओं को होने वाली बीमारियों के विषय में जागरूकता उत्पन्न करें और इनका समाधान सुझाएं।
उन्होंने सभी से आग्रह किया कि नशे की समस्या के समूल नाश के लिए एकजुट होकर कार्य करें। उन्होंने कहा कि नशा हम सबके लिए एक चुनौती बनकर उभरा है और समाज के सभी वर्गों को नशे की बुराई को मिटाने के लिए कार्य करना होगा। उन्होंने सभी से हिमाचल को पूर्ण रूप से स्वच्छ एवं प्लास्टिक मुक्त बनाने का आह्वान भी किया।
उन्होंने इस अवसर पर दिव्यांग जनों को रेडक्रॉस समिति की ओर से व्हील चेयर भी प्रदान की।
डॉ. साधना ठाकुर ने इस अवसर पर लगाई गई प्रदर्शनियों का अवलोकन किया और विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं तथा अन्य द्वारा प्रदर्शित उत्पादों में गहरी रूचि दिखाई। उन्होंने हॉफ मैराथन को भी झंडी दिखाकर रवाना किया।
उन्होंने इस अवसर पर रक्तदान शिविर का शुभारंभ भी किया।
डॉ. साधना ठाकुर ने इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों को अपनी ओर से 21 हजार रूपये प्रदान करने की घोषणा की।
उन्होंने शिक्षा तथा खेलों के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली छात्राओं को सम्मानित किया। उन्होंने हॉफ मैराथन के लड़कों तथा लड़कियों के वर्ग के विजेताओं को सम्मानित किया। उन्होंने इस अवसर पर रेडक्रॉस समिति कंडाघाट के पैट्रन और सदस्यों को भी सम्मानित किया।
उन्होंने क्षेत्र के प्रगतिशील किसानों को भी सम्मानित किया।
इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।
उपमंडलीय रेडक्रॉस समिति कंडाघाट के अध्यक्ष एवं उपमंडलाधिकारी कंडाघाट डॉ. संजीव धीमान ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और कंडाघाट में रेडक्रॉस समिति द्वारा कार्यान्वित की जा रही योजनाओं की जानकारी दी।
इस अवसर पर समाजसेवी डॉ. राजेश कश्यप, जिला परिषद सदस्य शीला, रितु सेठी, लोकेश्वर शर्मा, मदन ठाकुर, देवेंद्र वर्मा, विभिन्न पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि, अन्य गणमान्य व्यक्ति, व्यापार मंडल कंडाघाट के पदाधिकारी तथा बड़ी संख्या में स्थानीय लोग उपस्थित थे।
.0.