Chandigarh,11.11.19-प्राचीन कला केन्द्र द्वारा आयोजित 264 वीं मासिक बैठकों की श्रृंखला में आज एक यादगारी शाम का केन्द्र के एम.एल.कौसर सभागार मे आयोजन किया गया । इस कार्यक्रम में वाराणसी से आई डाॅ.कमला शंकर अपने मधुर गिटार वादन से दर्शकों की वाहवाही बटोरी । इनके साथ प्रसिद्ध तबला वादक ज्ञान मुखर्जी ने संगत करके खूब समां बांधा ।
डाॅ.कमला शंकर अल्पायु से ही संगीत में रूचि रखती थी । उन्होंने शास्त्रीय गायन से संगीत की शिक्षा शुरू की लेकिन उनका ध्यान सलाइड गिटार सीखने में था । उन्होंने गुरू अमरनाथ मिश्रा,गुरू पद्माभूषण पंडित छन्नूलाल मिश्रा,पंडित गोपाल शंकर मिश्रा से संगीत की शिक्षा ग्रहण की । आॅल इंडिया रेडियो की टाॅप ग्रेड कलाकार कमला ने देश ही नहीं विदेशों में भी अपनी प्रस्तुतियों से दर्शकों का दिल जीता है ।
आज के कार्यक्रम में डाॅ. कमला शंकर ने राग बिहाग से कार्यक्रम की शुरूआत की । जिसमें आलाप से शुरू करके इन्होंने विलम्बित तीन ताल में खूबसूरत प्रस्तुति दी । उपरांत मध्य तीन ताल में बंदिश प्रस्तुत की । इसके पश्चात इन्होंने झाला प्रस्तुत किया।
कार्यक्रम का समापन इन्होंने भटियाली में निबद्ध एक मधुर धुन से किया । इनके साथ तबले पर युवा एक प्रतिभाशाली तबला वादक ज्ञान मुखर्जी ने बखूबी संगत की । इनके अलावा इनके साथ गिटार पर डाॅ.कमला शंकर के शिष्य निर्मल सैनी ने बखूबी संगत की ।