सोलन -दिनांक 24.08.2019-हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं हिमाचल प्रदेश राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष न्यायामूर्ति धर्म चन्द चौधरी ने युवाओं का आह्वान किया है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए पूर्ण सजगता के साथ कार्य करें क्योंकि पर्यावरण की सुरक्षा पृथ्वी पर मानव जीवन के अस्तित्व के लिए आवश्यक है। न्यायामूर्ति धर्म चन्द चौधरी आज सोलन जिला के अर्की उपमण्डल की ग्राम पंचायत कुंहर के घड़ियाच में पौधरोपण कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे। कार्यक्रम का आयोजन जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सोलन के तत्वावधान में किया गया।

न्यायामूर्ति धर्म चन्द चौधरी ने देवदार का पौधा लगाकर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर घड़ियाच मे देवदार तथा बाण के करीब 1100 पौधे रोपे गए। इस पौधरोपण कार्यक्रम में क्षेत्रवासियों के साथ सीमावर्ती क्षेत्रों के विभिन्न विद्यालयों के करीब 500 विद्यार्थियों ने भी भाग लिया।
न्यायामूर्ति धर्म चन्द चौधरी ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की आवश्यकता न केवल मानव जीवन के लिए बल्कि सृष्टि की प्रत्येक उत्पत्ति के लिए अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण केवल सरकार का ही नहीं बल्कि समाज के विभिन्न वर्गों के साथ-साथ हम सभी का उत्तरदायित्व है। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि रोपे गए पौधों की देखभाल भी सुनिश्चित करें ताकि पौधे वृक्ष बन सकें।
न्यायमूर्ति धर्म चन्द चौधरी ने कहा कि प्राचीन समय में वनों एवं वन्य जीवों तथा वनस्पति का संरक्षण सभी का सामूहिक उतरदायित्त्व होता था एवं वनों को जीवनदायी माना जाता था। भारतीय संस्कृति में वृक्षों की पूजा का मुख्य कारण भी पर्यावरण संरक्षण ही है। जल, जंगल एवं जमीन का संरक्षण भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है। उन्होेंने कहा कि वरिष्ठजनों के वनों की सुरक्षा के अनुभव वर्तमान में पर्यावरण संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण सिद्ध हो सकते हैं।
प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हरित आवरण आवश्यक है। हरित आवरण में सत्त वृद्धि के लिए हमें न केवल वृक्षों के अवैज्ञानिक एवं अंधाधुंध कटान पर रोक लगानी होगी अपितु युवाओं को वन संरक्षण के महत्व को भी समझाना होगा।
कार्यक्रम में विभिन्न विद्यालयों के छात्रों द्वारा पर्यावरण संरक्षण विषय पर विचार व्यक्त किए गए। इन छात्रों को न्यायामूर्ति धर्म चन्द चौधरी द्वारा पुस्तकें भेंट की गई। उन्होंने सभी छात्रों को सम्मानित भी किया।
कार्यक्रम में जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोलन के अध्यक्ष भूपेश शर्मा, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सोलन तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोलन की सचिव गुरमीत कौर एवं हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता वीरेन्द्र ठाकुर ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
न्यायामूर्ति धर्म चंद चौधरी की धर्मपत्नी श्रीमती प्रोमिला चौधरी , हिमाचल प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव प्रेमपाल रांटा, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सोलन राजेश चैहान, मोबाईल यातायात दण्डाधिकारी सोलन एवं सिरमौर गौरव महाजन, सिविल जज अर्की प्रशांत सिंह नेगी, हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के अधिवक्ता पूर्ण चंद, उप पुलिस अधीक्षक दाड़लाघाट संजीव भूषण, वन मंडल अधिकारी कुनिहार सतीश नेगी, ग्राम पंचायत कुंहर की प्रधान कमलेश कुमारी, बीडीसी सदस्य कांता देवी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
.0.