हमीरपुर 17 अगस्त। ग्रामीण विकास विभाग हमीरपुर द्वारा रावमापा सुजानपुर में एक दिवसीय जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें विकास खण्ड सुजानपुर की 200 से अधिक महिला मंडलों व स्वयंं सहायता समूहों की महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम में उपायुक्त हमीरपुर, हरिकेश मीणा ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। उन्होंने कहा कि महिलाएं समाज की धुरी हैं तथा उनका अपने अधिकारों के प्रति सजग व जागरूक होना अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि महिलाएं कलस्टर बनाकर डेयरी फॉर्म, मधुमक्खी पालन, सब्जियां उगाने जैसी व्यावसायिक गतिविधियां अपनाकर अपनी आजीविका कमा सकती हैं।
उन्होंने कहा कि महिलाएं दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने के लिए डेयरी फॉर्म खोलें । साथ ही महिला मंडल विभिन्न व्यवसायिक गतिविधियों को भी अपने कार्यों से जोडक़र उसे स्वरोजगार के रूप में अपनाएं और उसे निरंतरता प्रदान करें। इससे उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय तौर पर जो उत्पाद तैयार किए जाते हैं उनमें गुणवत्ता की मात्रा भी अधिक होती है। हमीरपुर शहर में प्रतिदिन दूध एवं दुग्ध उत्पादों की काफी मांग है और महिलाएं दुग्ध उत्पादन के व्यवसाय को अपनाकर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत बना सकती हैं।
उन्होंने कहा कि महिलाएं कलस्टर बनाकर सामूहिक रूप से सब्जियों का भी उत्पादन करें और इसकी बिक्री के लिए बाजार उपलब्ध करवाया जाएगा। महिलाएं बागवानी, कृषि, कल्याण, पशु पालन विभाग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न प्रकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का भी लाभ उठाएं। उन्होंने महिला मंडल अध्यक्षों से कहा कि वे कारोबार बढ़ाने के लिए विविध व्यवसायों तथा उनसे जुड़ी समस्यओं पर चर्चा करके उनके हल के लिए प्रत्येक माह एक बार बैठक अवश्य करें । उन्होंने कहा कि जिन महिला मंडलों के भवन क्षतिग्रस्त हैं या मुरम्मत की आवश्यकता है, वहां के महिला मंडल प्रधान विकास खण्ड अधिकारी सुजानपुर को लिखित रूप में मामला प्रस्तुत करें ।
कार्यशाला के दौरान प्रोजेक्टर के माध्यम से स्क्रीन पर ऐसे महिला मंंडल तथा स्वयं सहायता समूहों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई, जिन्होंने विभिन्न व्यवसायिक गतिविधियों को अपनाकर इन क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि अन्य महिलाएं भी उनसे सीख लेकर अपने व्यवयाय को निरंतरता प्रदान करें।
इस अवसर पर पशु पालन विभाग की ओर से उपनिदेशक डा. सुशील कुमार ने विभागीय योजनाओं की जानकारी दी और उद्यान विभाग की ओर से उद्यान विकास अधिकारी निधि तथा कृषि विभाग की ओर से अजय गौत्तम ने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी।
इससे पहले विकास खण्ड अधिकारी कीर्ति चंदेल ने मुख्यातिथि का स्वागत किया। उन्होंने मनरेगा , स्वच्छ भारत मिशन , राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में महिलाओं की भूमिका पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला का उद्देश्य प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओ के सशक्तिकरण व उत्थान के लिए चलाई जा रही विभिन्न प्रकार की योजनाओं से उन्हें अवगत करवाना है। साथ ही महिलाओं को विभिन्न प्रकार के व्यवसायों को अपनाने के लिए प्रेरित व प्रोत्साहित करना है ताकि उनकी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ किया जा सके।
इस अवसर पर एसडीएम सुजानपुर शिल्पी बेक्टा , पर्यवेक्षक तिलक राज, राजीव सुमन के अतिरिक्त विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी भी उपस्थित थे।