हमीरपुर, 05 दिसंबर। हमीरपुर जिला में सभी किसानों के किसान क्रेडिट बनाने के लिए बैंकों के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए गए हैं ताकि किसान आसानी से ऋण सुविधा का लाभ उठा सकें। बुधवार को हमीर भवन में जिला स्तरीय समीक्षा समिति एवं बैंक सलाहकार समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए अतिरिक्त उपायुक्त रतन गौतम ने कहा कि स्टैंड अप योजना के तहत भी प्रत्येक बैंक ब्रांच को दो-दो लोगों को लाभांवित करने का लक्ष्य दिया गया है इसके साथ ही नाबार्ड के तहत डेयरी तथा मशरूम पालन का कार्य करने के लिए भी सस्ती दरों पर ऋण देने का प्रावधान किया गया है।
उन्होंने कहा कि जिले की सी.डी अनुपात बढ़ाने के लिए ऋण आवंटन में तेजी लाने तथा 100 प्रतिशत वित्तिय समावेश तथा बैंक ऋण लेने हेतू जनता को प्रेरित करना अत्यंत जरूरी है।
उन्होंने बैंक अधिकारियों को स्वयं सहायता समूहों की बैंकों के साथ लिकेंज सुनिश्चित करने के लिए उचित कदम उठाने के निर्देश दिए गए इसके साथ ही स्वयं सहायता समूहों को मार्केट की डिमांड के मुताबिक उत्पाद तैयार करने के लिए प्रशिक्षण की भी उचित व्यवस्था करने के लिए कहा गया है।
बैठक को मुख्य अग्रणी जिला प्रबंधक गुरचरण भट्टी जी ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने सभी बैंकों एवं वितीय विभागों को निर्धारित लक्ष्यों को चरणबद्ध एवं त्रेमासिक आधार पर पूरा करने हेतू मिलकर प्रयास करने तथा सी.डी. अनुपात बढ़ाने मेें सहयोग करने का आग्रह किया। इस अवसर पर वित्तिय वर्ष में समस्त सामाजिक सुरक्षा योजनाओं को आधार आधारित भुगतान के दायरे में लाना ,प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अतंर्गत ऋण प्रदान कर स्व-रोजगार में सहयोग देना पर चर्चा की गई। बैठक में पी. एन. बी, ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान की स्थानीय सलाहकार समिति की बैठक का आयोजन भी किया, जिसमें संस्थान के निदेशक रवि शर्मा ने गत तिमाही की प्रगति एवं अन्य मदों पर भी चर्चा की गई।
बैठक में सभी बैंको, वित्तिय विभागों के जिला समन्वयकों सरकारी वे गैर सरकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।