नई दिल्ली, 24 फरवरी: दिल्ली सिकख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डी.एस.जी.एम.सी.) ने जी.यू.सी.सी.आई. ब्रैंड कंपनी की तरफ  से एक फैशन शो में माडलों के सिर पर पगड़ी बांधने का गंभीर नोटिस लिया है और सिक्ख भाईचारे की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए क6पनी को तुरंत माफी मांगने को कहा है।

यहां जारी किए एक बयान में दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के जनरल सचिव श्री मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि यह हैरानी वाली बात है कि जी.यू.सी.सी.आई. कंपनी के ब्रांड मैनेजरों ने अपने ब्रांड की प्रोमोशन के लिए जैसे दिल किया, वैसे पगड़ी बांधने की चयन की। उन्होंने कहा कि उन्होंने व्यक्तियों के सरों के पगड़ी बांधी गई जिन का सिक्खी के साथ दूर दूर का कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि पगड़ी कोई आम साधारण कपड़े का टुकड़ा नहीं बल्कि सिक्ख गुरू साहिबान की तरफ  से बताए सिक्ख जीवन का अहम और अविभक्त अंग है। उन्होंने कहा कि क6पनी ने ऐसा शो करवाने से पहले सिक्ख नेताओं के साथ सलाह करने की भी परवाह नहीं की। उन्होंने कहा कि सिर्फ  प्रचार हासिल करने के लिए उस ने सिकख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।

श्री सिरसा ने कहा कि पगड़ी फैशन असैसरी का हिस्सा नहीं है जिसका प्रयोग जी.यू.सी.सी.आई. कंपनी ने अपनी मर्जी अनुसार की है। उन्होने कहा कि सिक्ख स्टाइलिश जरूर हैं परन्तु पगड़ी के मामले में किसी तरह का समझौता स्वीकृत नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि अच्छा होता कि कंपनी पगड़ी को प्रोमोट करने के लिए सिक्ख को अपने साथ लेती परन्तु इसने उनके सरों पर पगड़ी बांधने का फैसला किया जिन को सिक्ख भाईचारे के लिए इसकी महत्व बारे कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा किकंपनी का यह कदम विवादग्रस्त है और उन्होंने दुनिया भर में रहते सिक्ख नेताओं से अपील की कि वह मीडिया के द्वारा, कानूनी नोटिस भेज कर और अपने चुने हुए सदनों में इसके खिलाफ  आवाज बुलंद करें।

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के जनरल सचिव ने मांग की कि क6पनी इस बेअदबी के लिए तुरंत माफी मांगे नहीं तो दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी भारत में क6पनी के स्टोरों के खिलाफ स्टैंड लेगी। उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी को इसकी गलती का एहसास दिलाने के लिए हम सडक़ें पर उतरना पडा तो हम इस प्रकार का कदम उठाने से गुरेज नहीं करेंगे।