जिला परिषद सोलन की त्रैमासिक बैठक आज यहां आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता जिला परिषद के अध्यक्ष धर्मपाल चौहान ने की।

सोलन दिनांक 17.01.20180धर्मपाल चौहान ने इस अवसर पर कहा कि राज्य वित्त आयोग द्वारा जिला परिषद सोलन, पंचायत समितियों एवं विभिन्न विभागों को 233 योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए एक करोड़ 83 लाख, 77 हजार रुपये की राशि स्वीकृत की गई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि स्वीकृत धनराशि का समयबद्ध एवं सुनिश्चित उपयोग किया जाए।

जिला परिषद अध्यक्ष ने कहा कि परिषद सदस्य आम जनता और सरकार के मध्य महत्वपूर्ण कड़ी हैं तथा इनके माध्यम से लोगों के हित के अनेक कार्य संभव होते हैं। त्रैमासिक आयोजित की जाने वाली यह बैठक इस दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है कि बैठक में आम जनता से प्रत्यक्ष रूप से जुड़े मामलों को सुलझाया जाता है। ऐसे में यह आवश्यक है कि जिले के अधिकारी इस बैठक की गंभीरता को समझें और इसमें नियमित रूप से भाग लें।

उन्होंने कहा कि बैठक में अकारण अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों के विरूद्ध स त कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने जिला परिषद सचिव को निर्देश दिए कि अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए जाए तथा विभागों के सचिवों को इस संबंध में जानकारी दी जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने विभाग से संबंधित जनहित से जुड़े कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर समयबद्ध तरीके से निपटाए।

अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी विवेक चंदेल ने जिला परिषद अध्यक्ष तथा सदस्यों को विश्वास दिलाया कि जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न मामलों को समय पर निपटाया जाएगा तथा विकास कार्यों को निर्धारित समय पर पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन समस्याओं को नियत समय पर सुलझाने की दिशा में कार्य करें।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार विभिन्न विभाग 100 दिन का लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं। इससे विभागों की कार्यप्रणाली और अधिक लोकोन्मुखी बनेगी।

बैठक में राज्य वित्त आयोग के अंतर्गत पंचायत समिति धर्मपुर की 33 योजनाओं के लिए 24 लाख रुपये, पंचायत समिति कंडाघाट की 27 योजनाओं के लिए 11 लाख, 2 हजार 981 रुपये तथा पंचायत समिति नालागढ़ की 75 योजनाओं के लिए 45 लाख 85 हजार रुपये के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया।

विभिन्न सदस्यों ने लोक निर्माण विभाग, प्रदेश पथ परिवहन निगम, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग, प्रदेश विद्युत बोर्ड, प्रदूषण तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग से स बन्धित कुल 95 मदों पर चर्चा की।

जिला परिषद उपाध्यक्ष जगन्नाथ शर्मा ने बदौण से गड़ोण सड़क को पक्का करने, गांव रैला भड़ेच में बिजली का नया ट्रांसफार्मर लगाने तथा भियूंखरी स्वास्थ्य केन्द्र में चिकित्सकों की कमी बारे सदन में प्रश्न किए।

जिला परिषद सदस्य सत्या कश्यप ने कुनिहार अस्पताल में चिकित्सकों की कमी, राजकीय कन्या विद्यालय तालाब (कुनिहार) में विज्ञान की कक्षाएं आर भ करने तथा नालागढ़-शिमला सड़क की ममलीग के समीप खराब स्थिति बारे मु य रूप से चर्चा की।

जिला परिषद सदस्य सुखदेव कौर ने नालागढ़ से बगलैड़ तक के राष्ट्रीय राजमार्ग की बदतर स्थिति, ग्राम पंचायत जुखाड़ी के गांव कोहला में पानी की पाईपों को बदलने बारे तथा नालागढ़ उपमण्डल में स्वारघाट से नंड, मस्तानपुरा से खिल्लियां, नगर से जनोण कोटला, स्वारघाट से जुखाड़ तथा जोघों से बरूणा सड़क की मुर मत बारे सदन में चर्चा की।

इस अवसर पर विभिन्न जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति अध्यक्ष एवं सदस्य, समिति के सरकारी एवं गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे।

 ===============================================सोलन दिनांक 17.01.2018-जिला परिषद सोलन की त्रैमासिक बैठक आज यहां आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता जिला परिषद के अध्यक्ष धर्मपाल चौहान ने की।

धर्मपाल चौहान ने इस अवसर पर कहा कि राज्य वित्त आयोग द्वारा जिला परिषद सोलन, पंचायत समितियों एवं विभिन्न विभागों को 233 योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए एक करोड़ 83 लाख, 77 हजार रुपये की राशि स्वीकृत की गई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि स्वीकृत धनराशि का समयबद्ध एवं सुनिश्चित उपयोग किया जाए।

जिला परिषद अध्यक्ष ने कहा कि परिषद सदस्य आम जनता और सरकार के मध्य महत्वपूर्ण कड़ी हैं तथा इनके माध्यम से लोगों के हित के अनेक कार्य संभव होते हैं। त्रैमासिक आयोजित की जाने वाली यह बैठक इस दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है कि बैठक में आम जनता से प्रत्यक्ष रूप से जुड़े मामलों को सुलझाया जाता है। ऐसे में यह आवश्यक है कि जिले के अधिकारी इस बैठक की गंभीरता को समझें और इसमें नियमित रूप से भाग लें।

उन्होंने कहा कि बैठक में अकारण अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों के विरूद्ध स त कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने जिला परिषद सचिव को निर्देश दिए कि अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए जाए तथा विभागों के सचिवों को इस संबंध में जानकारी दी जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने विभाग से संबंधित जनहित से जुड़े कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर समयबद्ध तरीके से निपटाए।

अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी विवेक चंदेल ने जिला परिषद अध्यक्ष तथा सदस्यों को विश्वास दिलाया कि जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न मामलों को समय पर निपटाया जाएगा तथा विकास कार्यों को निर्धारित समय पर पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन समस्याओं को नियत समय पर सुलझाने की दिशा में कार्य करें।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार विभिन्न विभाग 100 दिन का लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं। इससे विभागों की कार्यप्रणाली और अधिक लोकोन्मुखी बनेगी।

बैठक में राज्य वित्त आयोग के अंतर्गत पंचायत समिति धर्मपुर की 33 योजनाओं के लिए 24 लाख रुपये, पंचायत समिति कंडाघाट की 27 योजनाओं के लिए 11 लाख, 2 हजार 981 रुपये तथा पंचायत समिति नालागढ़ की 75 योजनाओं के लिए 45 लाख 85 हजार रुपये के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया।

विभिन्न सदस्यों ने लोक निर्माण विभाग, प्रदेश पथ परिवहन निगम, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग, प्रदेश विद्युत बोर्ड, प्रदूषण तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग से स बन्धित कुल 95 मदों पर चर्चा की।

जिला परिषद उपाध्यक्ष जगन्नाथ शर्मा ने बदौण से गड़ोण सड़क को पक्का करने, गांव रैला भड़ेच में बिजली का नया ट्रांसफार्मर लगाने तथा भियूंखरी स्वास्थ्य केन्द्र में चिकित्सकों की कमी बारे सदन में प्रश्न किए।

जिला परिषद सदस्य सत्या कश्यप ने कुनिहार अस्पताल में चिकित्सकों की कमी, राजकीय कन्या विद्यालय तालाब (कुनिहार) में विज्ञान की कक्षाएं आर भ करने तथा नालागढ़-शिमला सड़क की ममलीग के समीप खराब स्थिति बारे मु य रूप से चर्चा की।

जिला परिषद सदस्य सुखदेव कौर ने नालागढ़ से बगलैड़ तक के राष्ट्रीय राजमार्ग की बदतर स्थिति, ग्राम पंचायत जुखाड़ी के गांव कोहला में पानी की पाईपों को बदलने बारे तथा नालागढ़ उपमण्डल में स्वारघाट से नंड, मस्तानपुरा से खिल्लियां, नगर से जनोण कोटला, स्वारघाट से जुखाड़ तथा जोघों से बरूणा सड़क की मुर मत बारे सदन में चर्चा की।

इस अवसर पर विभिन्न जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति अध्यक्ष एवं सदस्य, समिति के सरकारी एवं गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे।